• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

आखिर महिलाओं के लिए क्यों जरूरी होते हैं पीरियड्स?

महिलाओं को हर महीने पीरियड्स होते होंगे, लेकिन क्या आपको पता है कि ये केवल महिलाओं के लिए अनिवार्य क्यों हैं? अगर नहीं, आइए जानते हैं।  
Published -31 May 2022, 17:47 ISTUpdated -07 Jun 2022, 13:00 IST
author-profile
  • Shadma Muskan
  • Editorial
  • Published -31 May 2022, 17:47 ISTUpdated -07 Jun 2022, 13:00 IST
Next
Article
why is menstruation important for a female in hindi

हर महीने लड़कियों को पीरियड्स का सामना करना पड़ता हैं और इस दौरान महिलाओं को लगभग 4 से 5 दिनों तक लगातार भारी माहवारी का सामना करना पड़ता है। पीरियड्स महिलाओं के लिए एक नेचुरल प्रोसेस है, जो उनकी हेल्थ के लिए अच्छा भी माना जाता है। हालांकि, अब हैवी ब्लीडिंग को हैंडल करना पहले के मुकाबले थोड़ा आसान हो गया है क्योंकि अब मार्केट में कई ऐसे प्रॉडक्ट्स जैसे पैड, पैंटी लाइनर, टैम्पोन, मेंस्ट्रुअल कप आदि मिलने लगे हैं, जिसकी सहायता से आप ब्लीडिंग को कंट्रोल कर सकती हैं। 

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर हर महीने पीरियड्स केवल महिलाओं को क्यों होते हैं और ये हर महिला के लिए क्यों जरूरी हैं। अगर आपको इस बात की जानकारी नहीं है, तो आपके ये लेख काम आ सकता है क्योंकि आज हम आपको बताने वाले हैं कि एक महिला के लिए माहवारी क्यों जरूरी है।  

क्या होते हैं पीरियड्स? (What is Period in Hindi) 

menstruation important

पीरियड्स एक नेचुरल और नियमित प्रक्रिया है, जो एक उम्र के बाद महिलाओं को होती है। इस प्रक्रिया तब शुरू होती है, जब महिलाओं के हार्मोन में बदलाव आता है। आमतौर पर, ये प्रक्रिया 8 से 13 की उम्र के बीच शुरू होती है। हालांकि, कई महिलाओं को पीरियड्स देर से शुरू होते हैं। महिलाओं को पीरियड्स के साथ कई शारीरिक बदलाव जैसे- ब्रेस्ट साइज में विकास, अंडरआर्म जगहों में बाल आना आदि भी देखने को मिलते हैं।  

आखिर महिलाओं को क्यों होते हैं पीरियड्स? (Important Periods In History) 

why is menstruation important

महिलाओं को पीरियड्स का प्रोसेस प्रेग्नेंट होने में मदद करता है। क्योंकि जब महिला के पीरियड्स शुरू हो जाते हैं, तो हर महीने महिलाओं को दो ओवरीज होते हैं। उनमें से एक एक ओवरी महिलाओं के गर्भाशय नाल में जाते हैं, जिसे अन्य भाषा में ovulation कहा जाता है। 

साथ ही, इस दौरान महिलाओं का शरीर दो तरह के हार्मोन बनाता है, जिसमें से एक हार्मोन को एस्ट्रोजन और दूसरे को प्रोजेस्टरोन कहा जाता है। कहा जाता है कि ये हार्मोन महिलाओं के यूट्रस की परत को और फर्टिलाइज्ड एग को पोषण देने का काम करते हैं। 

साथ ही, जब महिलाओं के एग्स पुरुष के एग्स से नहीं मिल पाता, तो ये अंडे के साथ खून के रूप में वेजाइना से बाहर निकल जाता है, जिसे हम आम भाषा में पीरियड्स के नाम से जानते हैं। इसलिए पीरियड्स महिलाओं को होते हैं और अगर उन्हें पीरियड्स नहीं होते, तो महिलाओं को प्रेग्नेंट होने में दिक्कत होती है। (पीरियड्स से जुड़े मिथ)

Recommended Video

पीरियड्स के जुड़ी कुछ रोचक बाते (Period Facts and Myths) 

periods facts

  • पीरियड्स के दौरान महिलाओं के मिज़ाज में बदलाव आता है और उन्हें चिड़चिड़ापन महसूस होता है।
  • पीरियड्स की प्रक्रिया हर महिला के लिए अलग-अलग होती है जैसे- किसी महिला को हैवी पीरियड्स होते हैं, तो किसी महिला को पीरियड्स बहुत लाइट होते हैं। 
  • माहवारी महिलाओं को 20 दिनों से 35 दिनों के बीच आता है और इस दौरान महिलाओं को कई तरह के बदलाव भी महसूस होते हैं। (सेनेटरी पैड का इतिहास)
  • कई मान्यताओं के अनुसार कि पीरियड्स के दौरान अचार छूने से खराब हो जाता है, लेकिन ऐसा नहीं है। आप अचार को साफ हाथों से छू सकती हैं। 

उम्मीद है कि आपको ये जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकीअपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।   

Image Credit- (@Freepik) 

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।