जानिए क्या होता है Visceral Fat, जिसे सेहत के लिए माना जाता है नुकसानदायक

अमूमन लोग सिर्फ अपने वजन को कम करने की जद्दोजहद में लगे रहते हैं, लेकिन वे visceral fat के बारे में बहुत अधिक जानते हैं। हालांकि, यह सेहत पर कई तरह के नकारात्मक प्रभाव छोड़ता है।  

Mitali Jain
side effects of visceral fat

हाल के दिनों में आपने विसरल फैट के बारे में काफी सुना होगा। यह एक किस्म का फैट होता है, जो शरीर के अंदरूनी अंगों के आसपास होता है। यह एक गहरा किस्म का फैट होता है, जिसकी वजह से लोगों को कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं। जैसे कि, आपने अक्सर देखा होगा कि लोग दुबले-पतले है, इसके बावजूद उन्हें थाइरॉइड, डायबिटीज जैसी कई अन्य स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याएं होती हैं।

वहीं कुछ लोग मोटे होते हैं, लेकिन फिर भी वे हेल्दी होते हैं और वे कई तरह की बीमारियों से पूरी तरह मुक्त होते हैं। ऐसा विसरल फैट की वजह से ही होता है। तो चलिए आज इस लेख में सेंट्रल गवर्नमेंट हॉस्पिटल के ईएसआईसी अस्पताल की डाइटीशियन रितु पुरी आपको बता रही हैं कि विसरल फैट सेहत के लिए किस-किस तरह से नुकसानदायक हो सकता है।

किसे कहते हैं विसरल फैट

what is visceral Fatमनुष्य के शरीर में कई किस्म के फैट पाए जाते हैं। अमूमन लोग जिस फैट को कम करना चाहते हैं, उसे सबकुटेनियस फैट कहा जाता है। जबकि शरीर के अंगों के आसपास जमा फैट विसरल फैट कहलाता है। यह फैट सभी फैटों में सबसे हानिकारक फैट माना जाता है।

जिन लोगों की शरीर से 1 से 10 फीसदी तक विसरल फैट होता है, वे सामान्य और स्वस्थ होते हैं। जबकि जिन लोगों में शरीर की मात्रा उक्त मात्रा से ज्यादा होती है, उन्हें डायबिटीज, थाइरॉइड जैसी समस्याएं घेरे रहती हैं। लेकिन इसका मतलब यह कतइ नहीं है कि विसरल फैट की शरीर को बिल्कुल जरूरत नहीं है। शरीर को एक सीमित मात्रा में विसरल फैट की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। विसरल फैट के बिना शरीर अच्छी तरह काम नहीं कर सकेगा बल्कि विसरल फैट की कमी के कारण हमारे शरीर के अंदरूनी ऑर्गन की इम्युनिटी कमजोर पड़ सकती है। असल में विसरल फैट की लेयर इन ऑर्गंस को प्रोटेक्ट करने का काम करती है।

विसरल फैट को मापने का तरीका

expert quote on  visceral Fatशरीर में विसरल फैट की मात्रा बढ़ रही है, इसे जानने के लिए कई तरह की मशीनें मौजदू हैं। इन मशीनों को बॉडी कम्पोजीशन एनालिसिस मशीन के नाम से भी जाना जाता है। इसमें इलेक्ट्रोनिक मेगनेटिक रेज होती है, जो शरीर से गुजरते ही आपके वजन का सटीक रिकॉर्ड बयां कर देती है।

इस मशीन का इस्तेमाल करने के लिए व्यक्ति को इसके ऊपर खड़ा होना होता है। मशीन आपके वजन को मापकर, मेंशन कर देगा कि आपके शरीर में विसरल फैट की मात्रा कितनी है। इसके साथ आपके शरीर में सबकुटेनियस फैट कितना और शरीर का ओवर ऑल फैट कितना है, इसका भी पता लगाया जा सकता है। (वजन कम कैसे करें)

इसे भी पढ़ें:वेट लॉस करने का है मन तो पहले फैट से जुड़ी जान लें यह जरूरी बातें

विसरल फैट के नुकसान

visceral fat side effectsध्यान रखिए कि जब भी ऑर्गन के आसपास वसा की लेयर बनी होगी, वह आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होगी। इसे आप इस तरह समझिए कि जब भी आपके ऑर्गन के आपस फैट लेयर बनेगी, यह लेयर आपके ऑर्गंस को आसानी से काम करने नहीं देगी। सभी अंगों का काम बाधित होता चला जाएगा, जिससे शरीर को नुकसान होना तय है। साधारण शब्दों में, जब आप कोई बड़ा ताला तोड़ने की कोशिश करते हैं, तो वह आसानी से नहीं टूटता है। जबकि छोटा ताला आसानी से तोड़ा जा सकता है।

ठीक इसी तरह विसरल फैट आपके शरीर में काम करता है। जैसे-जैसे विसरल फैट की मात्रा शरीर में बढ़ती जाती है, वह आपके शरीर के अंदरूनी अंगों के लिए काम करना कष्टकारी बना देता है, जिससे शरीर को भारी नुकसान होता चला जाता है।

इसके अलावा महिलाओं को भी विसरल फैट की वजह से परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जैसे पीसीओडी, हार्ट संबंधी बीमारियां, सियोरोसिस, फैटी लिवर। विसरल फैट आमतौर पर पेट के हिस्से में ही बढ़ता है। इसलिए अगर आपने ऐसे लोग देखे हों, जिनका शरीर सामान्य है, लेकिन पेट से मोटे हैं। ऐसे लोगों में असल में विसरल फैट की मात्रा काफी ज्यादा होती है। आपको यह बताते चलें कि विसरल फैट त्वचा के नीचे जमा हुई फैट से भी ज्यादा घातक होती है।

इसे भी पढ़ें:अपने टेस्ट से समझौता किए बिना इस तरह करें वेट लॉस

विसरल फैट को कम कैसे करें

  • विसरल फैट को कम करने के लिए आप कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान दें-
  • अपनी डाइट का ध्यान रखें। हमेशा हेल्दी चीजें ही खाएं।
  • हमेशा सही मात्रा में ही खाएं। ओवर ईटिंग से बचें।
  • हमेशा सही समय पर खाना खाएं। बाद में खाना खा लेंगे, इस तरह के रवैये को न अपनाएं।
  • अपने हर मील के बीच कम समयावधि का गैप दें और हर बार फुल पेट खाने के बजाय हल्का भोजन लें।
  • नियमित रूप से वर्कआउट जरूर करें। लेकिन बहुत ज्यादा ज्यादा प्रोटीन सप्लीमेंट लेने से बचें।
  • पूरे दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।
  • डाइट से संबंधित सलाह लेने के लिए डाइटीशियन से संपर्क करें।

इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय भी आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही, अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik

Disclaimer