आजकल चांदी के बर्तनों में खाना खाने और खिलाने की परंपरा लगभग खत्म हो गई है। हां, ये बात अलग है कि हम आज भी अपने बड़े-बुजुर्गों से सुनते रहते हैं कि बच्चों या लोगों को ज़्यादातर चांदी के बर्तनों में खाना खिलाना चाहिए। क्योंकि चांदी के बर्तन सिर्फ दिखने में ही खूबसूरत नहीं होते हैं बल्कि चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल करना स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होता है। इसके कई फायदे भी हैं तो चलिए आज हम आपको इन्हीं फायदों के बारे में बताएंगे। एक बार आप ये फायदे जान लेंगे तो आप भी अपने बच्चों को चांदी के बर्तनों में खाना खिलाना शुरू कर देंगे। 

क्या कहते हैं एक्सपर्ट 

चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल करना सेहत के लिए फायदेमंद है इस बात में कितनी सच्चाई है। इस विषय को लेकर हमने हमारी न्यूट्रिशनिस्ट और डाइट एक्सपर्ट स्वाति बथवाल से बात की। उन्होंने बताया, ''चांदी के बर्तनों में खाना खाने के कई फायदे हैं जो हमारे शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाने का काम करते हैं। यह परंपरा बहुत पुरानी है जिसमें राजा-रानी अक्सर चांदी, सोने, कांसा आदि जैसे बर्तनों में खाना खाया करते थे। तमाम मिनरल्सि पदार्थ इन बर्तनों की वजह से उन्हें मिलते थे तो हर बर्तन के अपने अलग फायदे हैं। लेकिन एक बात ज़रूर याद रखें कि अब बहुत ज़्यादा प्रदूषण है जिसकी वजह से यह बर्तन बहुत जल्दी काले पड़ जाते हैं। बर्तनों को साफ करना बहुत ज़रूरी है वर्ना ये बर्तन नुकसान भी पहुंचा सकते हैं।'' 

चांदी के बर्तन को इस्तेमाल करने के फायदे 

चांदी में होती है बीमारियों से लड़ने की क्षमता

inside  SILVER STRONG THING

चांदी के बर्तन में छोटे बच्चों को खाना खिलाने की परंपरा कुछ संस्कृतियों में आज भी बची है जिसमें बच्चों को पहला भोजन चांदी के चम्मच से खिलाया जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि चांदी एक ऐसी धातु है जो शिशु या बच्चों के लिए बिल्कुल सुरक्षित होती है। चांदी के बर्तन बहुत शुद्ध होते हैं जो बच्चों को मौसमी बीमारियों से लड़ने की क्षमता देते हैं। इसलिए बच्चों के ब्रेस्टधफीडिंग के बाद आहार शुरू करने पर चांदी के चम्मच, चांदी के गिलास और प्लेट में खाना खाने की सलाह दी जाती है।

भोजन की बढ़ती है गुणवत्ता 

inside   HEALTHY FOOD

अन्य बर्तन जैसे प्लास्टिक या अन्य किसी धातु के बर्तनों में खाना खाने या स्टोर करने से उनके टॉक्सिंस खाने में आ जाते हैं। अगर हम बच्चों का खाना स्टोर करके रख रहे हैं तो चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल करना बेहतर विकल्प है। ऐसा इसलिए क्योंकि चांदी में बैक्टीरिया को खत्म करने के गुण होते हैं। इसलिए चांदी के बर्तन में लंबे समय तक खाना ताज़ा रहता है। 

पानी को करे शुद्ध

inside  PURE WATER

चांदी के बर्तन में पानी पीने के फायदे ये हैं कि चांदी के बर्तन में भरा पानी पीने से पानी में मौजूद सभी तरह के बैक्टीरिया मर जाते हैं। इससे पानी का स्वाद भी अच्छा होता है। इसलिए आप अपने बच्चों को चांदी के बर्तन में पानी पिला सकती हैं। 

केमिकल फ्री होते हैं बर्तन

inside  CHEMICLE FREE SILVER GOODS 

आजकल तमाम तरह के डिज़ाइन वाले बर्तन बाज़ार में मौजूद हैं लेकिन इन बर्तनों में कई तरह के केमिकल्सम का इस्तेमाल किया जाता है जिससे उसकी चमक या खूबसूरती बनी रहे। साथ ही, प्लास्टिक को लंबे समय तक चलाऊ बनाने के लिए बर्तनों में बीपीए नामक तत्व मिलाया जाता है। जब हम बच्चों को प्लास्टिक के बर्तनों में खाना खिलाते हैं तो बर्तन में मौजूद बीपीए भी खाने में आ जाते हैं। यह केमिकल्सि बच्चों की सेहत पर बुरा असर डालते हैं। इसलिए इन बर्तनों के बदले आप चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल कर सकते हैं।  

बढ़ती है प्रतिरोधक क्षमता

inside  CHILD IMMUNITY STRONG TIPS

चांदी के बर्तन एंटी-बैक्टीरियल होते हैं जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में हमारी मदद करते हैं। मेटल के बर्तनों में खाने खाने या भोजन गर्म करने से मेटल के कण भोजन में मिल जाते हैं, जो बच्चों के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होते हैं। लेकिन चांदी के बर्तन में ऐसा नहीं होता है। यही वजह है कि बच्चों को दवाएं भी चांदी की कटोरी में देने की कोशिश की जाती है।

घबराहट को करे दूर 

किसी भी बात अगर आपका बच्चा घबराने लगता हैं तो चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद है। इसके लिए आप चांदी के न्यूट्रिशनिस्ट और डाइट एक्सपर्ट स्वाति बथवाल के बताए गए नुस्खे को अपना सकती हैं। स्वाति के अनुसार, ''आप दूध को उबालकर या इसमें केसर डालकर चांदी के बर्तन में डालकर पी सकती हैं। ऐसा करने से आपके बच्चे को घबराहट नहीं होगी। 

चांदी के बर्तन का उपयोग 

आप अपने बच्चों के लिए चांदी के कई तरह के बर्तनों का इस्तेमाल कर सकती हैं जो आसानी से आपको उपलब्ध हो जाते हैं। 

गिलास: आप अपने बच्चों के लिए चांदी का गिलास इस्तेमाल कर सकती हैं। इस गिलास में आप पानी या जूस जैसे तरल पदार्थों को पिला सकती हैं। 

कटोरी और चम्मच: बच्चों को खाना खिलाने के लिए आप चांदी की कटोरी और चम्मच का उपयोग कर सकती हैं। 

थाली: इसके साथ आप चांदी की थाली का इस्तेमाल कर सकती हैं। जिसमें आप अपने बच्चों को रोटी, करी या अन्य दूसरे फूड्स सर्व कर सकती हैं।

इसके अलावा आप अपनी ज़रूरत के हिसाब से चांदी के बर्तन खरीद सकती हैं जो बाज़ार में आसानी से मिल जाते हैं। अगर आप चांदी के बर्तन नहीं खरीद सकती हैं तो इसकी जगह आप कांसा के बर्तनों का इस्तेमाल कर सकती हैं क्योंकि स्वाति बथवाल जी के अनुसार कांसा की तासीर ठंडी होती है जो आपके बच्चे के लिए अन्य प्लास्टिक के बर्तनों के मुकाबले ज़्यादा फायदेमंद है। 

इसे ज़रूर पढ़ें- इन टिप्स से गर्मियों में नहीं होगी फूड पॉइजनिंग, एक्सपर्ट से जानें बचने के उपाय

चांदी के बर्तन को साफ करने के टिप्स 

inside , WASHING TIPS OF SILVER GOODS

चांदी के बर्तनों को साफ करना बहुत आसान है। बर्तनों को आप साबुन और पानी से बहुत आसानी से साफ कर सकती हैं। इसके लिए आप हल्के गर्म पानी में डिशवॉशिंग साबुन को मिलाकर बर्तन को धो सकती हैं। बर्तन को धोने के बाद आप चांदी को एल्युमीनियम फॉयल के पॉट में रख दें। फिर इसमें बॉयल वाटर और बेकिंग सोडा को मिला दें। इससे चांदी पर जमा हुआ कालापन साफ हो जाता है। ऐसा करने के बाद आप फिर से इसे अच्छी तरह से धो लें और इस्तेमाल करें। ध्यान रहे चांदी के बर्तनों पर कालापन ना रहे। अगर बर्तन अच्छे से साफ नहीं हुए तो वह आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

Recommended Video

चांदी के अलावा ये है विकल्प 

inside  OTHER OPTION

आजकल चांदी के बर्तन हर कोई खरीद नहीं सकता। तो आप घबराएं नहीं जिन लोगों के पास चांदी के बर्तन उपलब्ध नहीं हैं, ऐसे में उन्हेंब क्या इस्तेमाल करें? इसको लेकर हमने स्वाति बथवाल जी से बात की। तब उन्होंने बताया, ''चांदी के अलावा आप कॉपर या कांसा के बर्तनों का इस्तेमाल कर सकते हैं। कांसा के बर्तनों का इस्तेमाल कर सकती हैं जो बच्चों के लिए बहुत सुरक्षित है। अगर बच्चे में आयरन की कमी है तो आप लोहे की कड़ाही में भी खाना खिला सकती हैं।''  

इसे ज़रूर पढ़ें-मेडिकल मास्क या फ़ैब्रिक मास्क: WHO ने जारी की गाइडलाइन्स, बताया किसे और कब पहनना चाहिए

इस्तेमाल करने का तरीका 

अगर आप चांदी के अलावा कॉपर या कांसा के बर्तन इस्तेमाल कर रही हैं तो आप हफ्ते में तीन या चार बार बर्तनों का इस्तेमाल कर सकते हैं। स्वाति जी ने बताया,  ''अगर आप हर रोज़ इन बर्तनों का इस्तेमाल कर रही हैं तो तीन महीने बाद  बर्तनों का इस्तेमाल करना बंद कर दें। बर्तनों के इस्तेमाल से शरीर में टॉक्सिन कैपेसिटी बढ़ जाती है। इसलिए कोई भी मेटल के बर्तनों का इस्तेमाल, हर तीन महीने के बाद बंद कर दें और एक दो महीने के अंतराल के बाद फिर इस्तेमाल करें।'' 

आप इन तरीकों से चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल कर सकती हैं। चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल करने से आपका बच्चा सेहतमंद रहेगा।

इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image credit- freepik.com and google