अच्छा, अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि हर समय या फिर हर मौसम में सभी प्रकार के शरीर के लिए स्वस्थ जीवन शैली को दुरुस्त रखने के लिए किन-किन नियमों को दिनचर्या में शामिल करना चाहिए तो फिर आपका जवाब क्या हो सकता है। शायद, आपके पास इस सवाल का कोई सटीक जवाब नहीं हो। लेकिन, आयुर्वेद के अनुसार कुछ ऐसे नियम है, जिसके तहत सभी प्रकार के शरीर को स्वस्थ जीवन शैली को बेहतरीन रखा जा सकता है। इस मामले में आयुर्वेद की डॉक्टर वैद्य प्रेम मोगा बताने जा रही है, तो आइए जानते हैं।

समय पर सो जाना 

healthy lifestyle for all types of body as per ayurveda inside

जी हां, हर उम्र के लोगों के लिए यह बेहद ही मायने रखता है कि वो रात को कब सोने के लिए जानते हैं। आयुर्वेद के अनुसार 8-10 बजे के बीच सोने के लिए चले जाना चाहिए। कई लोग देर रात तक जगे रहते हैं और अगले दिन जब उठते हैं, तो उनकी तबियत ठीक नहीं रहती है। डॉक्टर वैद्य प्रेम मोगा का भी कहना है कि रात में 10 बजे से पहले बेड पर सोने के लिए चले जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: क्या आपको भी है नाखून चबाने की आदत? इन टिप्स से पाएं छुटकारा

सुबह जल्दी उठना 

healthy lifestyle for all types of body as per ayurveda inside

आयुर्वेद में कहा जाता है कि सुबह पांच बजे बेड को छोड़ना ब्रह्म मुहूर्त होता है और इससे बुद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति हो सकती है। ऐसे में यह नियम किसी भी इंसान के लिए बेहतरीन आदत हो सकती है। डॉक्टर वैद्य प्रेम मोगा भी सुबह में जल्दी उठने की बात करती हैं। सुबह उठने के बाद गुनगुने पानी का भी सेवन करने की बात करती हैं वैद्य प्रेम मोगा।

एक्सरसाइज है ज़रूरी 

healthy lifestyle for all types of body as per ayurveda inside

स्वस्थ जीवन को बरकरार रखने के लिए नियमित समय पर सुबह में एक्सरसाइज करना बेहद ज़रूरी माना जाता है। खासकर आयुर्वेद की नज़र से सुबह में सूर्य नमस्कार या फिर अन्य योग करना सेहत के लिए बेहतरीन माना जाता है। डॉक्टर वैद्य प्रेम मोगा के अनुसार लगभग 20-30 मिनट के लिए हर दिन योग ज़रूर करना चाहिए। इसके अलावा नियमित समय पर तिल के तेल से शरीर मालिश भी सेहत के लिए बेहतरीन हो सकता है।

Recommended Video

इसे भी पढ़ें: आयुर्वेद के अनुसार खाने की इन गलत आदतों पर आपको भी ध्यान देना चाहिए

खाना कैसा होने चाहिए?

healthy lifestyle for all types of body as per ayurveda inside

वैसे तो आयुर्वेद के अनुसार खाने के बहुत नियम है लेकिन, कहा जाता है कि अधिक तला हुआ भोजन और फ़ास्ट फूड्स के सेवन से बचाना चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार दलिया, घी, ओट्स, फ्रूट्स, दालचीनी पाउडर युक्त पानी, हरी सब्जियां आदि चीजों को भोजन में शामिल करते रहना चाहिए। 

नोट: यह लेख वैद्य प्रेम मोगा की इंस्‍टाग्राम पोस्ट पर आधारित है। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  

Image Credit:(@freepik)