हालांकि, लोग शरीर में विटामिन-सी, डी और बी की कमी पर सबसे ज्‍यादा परेशान होते हैं लेकिन कुछ और भी विटामिन्‍स है, जो हमारे शरीर के लिए बेहद जरूरी होते हैं। इसमें विटामिन-ई भी शामिल है, जिसकी ओर ज्‍यादातर लोगों का ध्‍यान नहीं जाता है। 

विटामिन-ई शरीर को हेल्‍दी रखने में मददगार विटामिन है। यह विटामिन नर्वस, मसल्‍स और इम्‍यून सिस्‍टम के कामों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं, जो शरीर को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करते हैं। विटामिन-ई की महत्वपूर्ण भूमिका को देखते हुए, इस विटामिन की कमी वास्तव में शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है।

गंभीर विटामिन-ई की कमी आमतौर पर दुर्लभ होती है, खासकर विकसित देशों में, लेकिन कुपोषण के परिणामस्वरूप हो सकती है। कुशल अवशोषण और परिवहन के लिए विटामिन-ई को कुछ मात्रा में फैट की भी आवश्यकता होती है, इसलिए लो फैट वाली डाइट भी एक ट्रिगर हो सकती है। गैर-आहार की कमी आमतौर पर स्वास्थ्य की स्थिति से जुड़ी होती है जो डाइजेशन और फैट के अवशोषण में बाधा डालती है। 

अगर आपका शरीर विटामिन-ई से वंचित है, तो यह कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। आज हम आपको ऐसी ही कुछ समस्‍याओं के बारे में बताएंगे जो विटामिन-ई की कमी के चलते देखने को मिलती है।

इम्‍यूनिटी का कमजोर होना

weak immune system

इम्‍यून सिस्‍टम को कुशलतापूर्वक काम करने के लिए विटामिन-ई की हेल्‍दी खुराक की आवश्यकता होती है। यह सभी कोशिकाओं के कोशिकीय झिल्लियों और शरीर के ऊतकों में मौजूद होते हैं। इसकी कमी से इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर होने लगता है, जिससे बार-बार संक्रमण और बीमारियां होती हैं। 

सर्दी और खांसी से लेकर सांस की अन्य बीमारियों और यूरिन इंफेक्‍शन तक, इसकी कमी अलग-अलग तरीकों से प्रकट हो सकती है।

इसे जरूर पढ़ें: पिंपल फ्री ग्लोइंग स्किन के लिए ये 5 विटामिन ई से भरपूर फूड जरूर खाएं

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्‍याएं

हालांकि क्रोहन रोग वाले व्यक्तियों में विटामिन-ई की मात्रा कम होती है, लेकिन विटामिन-ई की कमी और क्रोहन रोग के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है। क्रोहन के साथ लोगों में देखी जाने वाली फैट की खराबी से यह स्थिति सबसे अधिक जुड़ी हुई है

जब यह खराब फैट अवशोषण से जुड़ा होता है, तब गंभीर विटामिन-ई की कमी से अक्सर दस्त, उल्टी, पेट में सूजन और भारी दुर्गंधयुक्त मल जैसी गैस्ट्रोइंटेस्टिनल समस्याएं हो सकती हैं।

आंखों की समस्या

eye problems

विटामिन-ई आंखों को फ्री रेडिकल्‍स से बचाता है, जो हेल्‍दी आंखों के ऊतकों को नुकसान पहुंचाते हैं। निरंतर फ्री रेडिकल डैमेज आपके उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन और मोतियाबिंद के गठन के जोखिम को बढ़ा सकता है। 

ऐसा तब होता है जब आप विटामिन-ई की कमी से पीड़ित होते हैं। इसकी कमी से आंख की मसल्‍स भी कमजोर हो सकती हैं।

घाव भरने में परेशानी

विटामिन-ई की कमी त्वचा के स्वास्थ्य को भी प्रभावित करती है, जिससे कोलेजन मेटाबॉलिज्‍म और घाव भरने में समस्या और त्वचा में अल्सर हो सकता है। हालांकि, इस लिंक और इसके सटीक कारण की पुष्टि के लिए मानव अध्ययन की आवश्यकता है।

मसल्‍स की बर्बादी

Muscle atrophy health

मसल्‍स की बर्बादी गंभीर विटामिन ई की कमी का एक और असर है। अध्ययनों से पता चलता है कि विटामिन-ई के बिना, एक फटी हुई कोशिका झिल्ली ठीक नहीं हो सकती है। चूंकि मसल्‍स की कोशिका झिल्ली सामान्य उपयोग से ही फट सकती है। 

मसल्‍स की कोशिकाएं जिनकी लंबे समय तक मरम्मत नहीं की जाती है, वे मसल्‍स को बर्बाद कर सकती हैं। किसी भी प्रकार का शारीरिक आघात, मस्कुलर डिस्ट्रॉफी या डायबिटीज के कारण मसल्‍स में कमजोरी ऐसी स्थितियां हैं जो मसल्‍स की कोशिका को नुकसान पहुंचाती हैं। 

बुजुर्गों में देखे जाने वाले फ्रेटिलिटी सिंड्रोम में भी विटामिन-ई की कमी स्पष्ट होती है, जिससे वे कमजोर और पैरों में अस्थिरता आती है।

Recommended Video

हीमोलिटिक एनिमिया

विटामिन-ई नर्वस सिस्‍टम के ग्रोथ के लिए आवश्यक है और किसी भी कमी का उस पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, खासकर शिशुओं और बच्चों में। समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चे जिनमें विटामिन-ई की कमी होती है, वे अक्सर हीमोलिटिक एनीमिया से जूझते हैं। 

यह एक ऐसी समस्‍या है जिसके कारण रेड ब्‍लड सेल्‍स को उनके उत्पादन की तुलना में तेजी से नष्ट किया जा सकता है। बोन मैरो खोई हुई कोशिकाओं को बदलने की असफल कोशिश करता है, जिससे बहुत सारी अपरिपक्व रेड ब्‍लड सेल्‍स बन जाते हैं। 

अध्ययनों से पता चलता है कि सप्‍लीमेंट विटामिन-ई के साथ इलाज किए गए शिशु कुछ हद तक एनीमिया को दूरकर सकते हैं और अपरिपक्व रेड ब्‍लड सेल्‍स की संख्या को भी कम कर सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: अगर बाल हो गए हैं खराब तो यूज़ करें विटामिन E, होते हैं ये फायदे भी

अपनी डाइट में विटामिन-ई को शामिल करें। इस विटामिन के कुछ बेहतरीन स्रोत में सूरजमुखी, कुसुम, कैनोला, व्हीट जर्म ऑयल और नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, और हेज़लनट्स और बीज जैसे सूरजमुखी के बीज आदि शामिल है। हरी सब्जियां जैसे ब्रोकली, कोलार्ड साग और पालक भी विटामिन-ई के अच्छे स्रोत हैं। फलों का जूस, स्प्रेड और मार्जरीन जैसे कुछ खाद्य पदार्थ अक्सर विटामिन ई फोर्टिफाइड होते हैं।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com