आजकल टैटू बनवाना काफी ट्रेंड में है। युवाओं के लिए यह एक style statement बन गया है क्योंअ‍कि यह एक cool fashion माना जाता है। Body के लगभग हर हिस्से में colourful टैटू बनाना आजकल की लड़कियां काफी पसंद करती हैं। लेकिन टैटू की शौकिन ladies के लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि इसे बनवाना आपके लिए अच्छा नहीं। यह हम नहीं कह रहे बल्कि एक रिसर्च से पता चला है।

टैटू आजकल लगभग हर कोई बना रहा है, लेकिन इस तरह के टैटू से कई तरह की गंभीर समस्या आपके सामने आ सकती है। इससे skin में लालिमा, pus, सूजन जैसी कई तरह की परेशानियां सामने आ सकती हैं। इसके अलावा कई तरह के बैक्टीरियल infection भी आपको टैटू से हो सकते हैं। टैटू दिखने में तो बहुत आकर्षक लगते हैं लेकिन इसके negative effect भी बहुत है। टैटू से सिर्फ इंफेक्शन, स्किन एलर्जी ही नहीं बल्कि इसके दूरगामी प्रभाव देखने को मिल सकते हैं।

टैटू के skin को नुकसान

एक हालिया शोध के अनुसार, टैटू में इस्तेमाल होने वाल ink का प्रभाव लंबे समय तक रहता है। Ink में मौजूद micro-toxic particles skin के माध्यम से बॉडी के दूसरे हिस्सों तक पहुंच सकते हैं। इसका प्रभाव सिर्फ तात्का लिक ही नहीं, बल्कि लंबे समय में देखने को मिल सकता है। शोध के प्रमुख लेखक एवं जर्मन फेडरल इंस्टीलट्यूट के इनिस श्राइवर का कहना है कि अगर आप टैटू बनवाने जा रही हैं तो सावधान होने की जरूरत है।

tattoo side effects health big

Image Courtesy: Pxhere.com

क्या कहती है रिसर्च 

Journal Scientific Reports में जर्मनी और फ्रांस के वैज्ञानिकों ने बताया कि research के दौरान लोगों के टैटू को उन्होंने x-ray fluorescence के जरिये जब देखा तो उन्हें titanium dioxide के micro particles दिखाई दिए। Titanium dioxide white और colour टैटू दोनों में पाया जाता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि टैटू हटवाएंगे तो भी skin पर मौजूद ink के particles को ही इकट्ठा किया जाएगा। ऐसे में body में जा चुके micro particles के प्रभावों का खतरा बना रहता है।

Read more: Infection के दौरान अपने साथ-साथ दूसरों का भी रखें ख्‍याल

जहरीले तत्वों का खतरा

टैटू बनाने के लिए एक अलग तरह की ink का इस्तेमाल किया जाता है, जो कि हमारी skin के लिए काफी खतरनाक होती है। टैटू बनाने के लिए blue colour की ink का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें एल्यूमिनियम और कोबाल्ट होता है। Blue colour के अलावा और रंगों में कैडियम, क्रोमियम, निकल व टाइटेनियम जैसी कई धातुएं मिली रहती हैं, जो skin के लिए अच्छी नहीं होती है।

नए अध्ययन के अनुसार इंक के ये कण 100 नैनोमीटर से भी छोटे सूक्ष्म होते है। शरीर के अन्य हिस्सों में खतरनाक साबित हो सकते हैं। शोधकर्ताओं ने इसके चलते कैंसर जैसी बीमारी के खतरे की संभावना भी जताई है। हालांकि इस अध्ययन के परिणामों को बेहतर तरीके से समझने के लिए और शोध की जरूरत है।

सावधानी बरतना है जरूरी

  • टैटू बनवाने से पहले हेपेटाइटिस बी का injection लगवा लेना  चाहिए।
  • इस कला में माहिर किसी specialist से ही tattoo बनवाना चाहिए।
  • साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। 
  • जिस जगह पर टैटू बनवाएं वहां पर रोजाना एंटीबायोटिक क्रीम जरूर लगाती रहें।

अगर आपको टैटू बनवाना ही है तो ये कुछ सावधानियां बरतकर आप इसे बनवा सकती हैं।

Read more: Skin Cancer से बचना हैं तो आज से लें ये 5 आयुर्वेदिक herbs