हेल्‍दी लाइफ के लिए लिवर का हेल्‍दी होना बहुत जरूरी है क्‍योंकि लिवर शरीर के जरूरी अंगों में से एक है और शरीर के महत्‍वपूर्ण काम जैसे डाइजेशन में अहम भूमिका निभाना से लेकर बॉडी में मौजूद टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करता है। लेकिन हेल्थ एक्सपर्ट का कहना हैं कि हेल्‍थ के प्रति लापरवाही के चलते फैटी लिवर की बीमारी के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, जो लोगों की हेल्‍थ को बुरी तरह प्रभावित कर रहे हैं। फैटी लिवर एक ऐसी बीमारी है जो शरीर में अधिक फैट बनने के कारण होता है। माना जाता था कि लिवर में प्रॉब्‍लम ज्‍यादा शराब पीने से होती है। लेकिन साल 2018 की तुलना में इस साल गैर-अल्कोहल फैटी लिवर रोग (एनएएफएलडी) के मामलों में वृद्धि हुई है। हालांकि, अभी तक कोई निश्चित आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं। लेकिन हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि हर महीने फैटी लिवर रोग के कम से कम 10 से 12 नए मामले सामने आते हैं।

हालांकि सभी प्रकार के नॉन-अल्कोहोलिक फैटी लिवर डिजीज (एनएएफएलडी) खतरनाक नहीं होते हैं। लेकिन इनकी अनदेखी आगे चलकर परेशानी का सबब बन सकती है। एक बार बीमारी की जानकारी मिलने के बाद, रोगी को यह जानने के लिए आगे के टेस्‍टों से गुजरना होता है कि लिवर में जख्म या सूजन तो नहीं है। लिवर की सूजन के लगभग 20 प्रतिशत मामलों में सिरोसिस विकसित होने की संभावना होती है।

इसे जरूर पढ़ें: ये छोटी-छोटी बातें आपकी हेल्‍थ में लायेगी बड़ा बदलाव

fatty liver problem card  ()

डॉक्‍टर की राय

हेल्थ केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एचसीएफआई) के अध्यक्ष पद्मश्री डॉक्‍टर के.के. अग्रवाल का कहना है कि नॉन-अल्कोहोलिक फैटी लिवर डिजीज (एनएएफएलडी) ऐसे लोगों को प्रभावित करती हैं, जो शराब नहीं पीते हैं। जैसा कि नाम से पता चलता है, इस स्थिति की मुख्य विशेषता लिवर में बहुत अधिक फैट का जमा होना है। एक हेल्‍दी लिवर में कम या बिल्कुल भी फैट नहीं होना चाहिए। उन्होंने आगे कहा, 'एनएएफएलडी वाले लोगों में हार्ट डिजीज विकसित होने की अधिक संभावना रहती है और यह उनमें मृत्यु के सबसे आम कारणों में से एक है। वजन में लगभग 10 प्रतिशत की कमी लाने से फैटी लिवर और सूजन में सुधार हो सकता है।' आइए ऐसे की कुछ बातों के बारे में जानें जिन्‍हें ध्‍यान में रखकर आप फैटी लिवर की समस्‍या से बचाव पा सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: आयुर्वेद में छिपा है आपकी लिवर की सेहत का राज

food for fatty liver

इस तरह रखें ध्यान-

  • लिवर को हेल्‍दी रखने के लिए अपनी डाइट में फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और हेल्‍दी फूड से भरपूर वनस्पति को शमिल करें।
  • अगर आप अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त हैं, तो प्रत्येक दिन खाने वाली कैलोरी की संख्या कम करें और ज्‍यादा एक्‍सरसाइज करें।

 

  • वजन नॉर्मल है तो हेल्‍दी डाइट का चयन करके और एक्‍सरसाइज करके इसे हेल्दी बनाए रखने की कोशिश करें।
  • हफ्ते के अधिकांश दिनों में एक्‍सरसाइज करें। हर दिन कम से कम 30 मिनट की फिजिकल एक्ट‍िविटी करने की कोशिश करें।
Source: IANS