मेनेपॉज की शुरुआत महिलाओं की जिंदगी में एक अहम पड़ाव होता है और इस दौरान महिलाएं अपने शरीर में भी कई तरह के बदलाव एक्सपीरियंस करती हैं। मेनोपॉज से पहले, मेनोपॉज होने के दौरान और मेनोपॉज के बाद — तीनों ही अवस्थाओं में ब्रेस्ट पेन का होना एक आम बात है, लेकिन स्तन का यह दर्द मेनोपॉज होने से पहले और इसके दौरान होने की आशंका ज्यादा होती है हालांकि कुछ मामलों में ये दर्द मेनोपॉज होने के बाद भी महसूस हो सकता है। यह दर्द अन्य स्थितियों जैसे कि मासिक धर्म के दौरान होने वाले स्तन के दर्द से अलग महसूस होता है। इस दर्द में स्तनों में खिंचाव और जलन महसूस हो सकती है, जिसकी मुख्य वजह होती है मेनोपॉज से पहले औरतों के शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरॉन स्तरों में बदलाव का होना। एक अनुमान के मुताबिक 70 फीसदी महिलाओं को अपने जीवनकाल में कभी ना कभी स्तनों के दर्द का सामना करना पड़ता है, लेकिन इनमें से बमुश्किल 10 फीसदी महिलाओं को ही तेज दर्द झेलना पड़ता है, अन्य महिलाओं के लिए ये इतना पीड़ादायक अनुभव नहीं होता। ये बात अलग है कि स्तन के दर्द का असर आपकी ज़िंदगी, आपके रिश्ते और नियमित कामकाज पर भी पड़ सकता है। इस बारे में हमने चर्चा की Dr Preeti Deshpande M.S.(OBGY), FICOG, Endoscopy Training IRCAD (France) से, आइए जानते हैं, उन्होंने हमें क्या बताया-

मेनोपॉज में किस तरह का होता है ब्रेस्ट पेन?

menopause breast pain reasons

किसी एक या फिर दोनों ही स्तनों में होने वाले खिंचाव, असहजता या फिर दर्द को मेडिकल की भाषा में मास्टेल्जिया, मास्टोडिनिया और मामाल्जिया कहते हैं। आमतौर पर एक या दोनों ब्रेस्ट में दर्द, असहज महसूस होने या फिर सूजन आदि को इन्हीं शब्दों के जरिए बताया जाता है । इस स्थिति में आपके एक या फ़िर दोनों ही स्तनों में भारीपन, खिंचाव, दर्द, जलन, स्वेलिंग या फ़िर डलनेस हो सकती है। हो सकता है कि यह दर्द लगातार हो या फिर रुक-रुक कर हो और यह एक या फिर दोनों ब्रेस्ट को प्रभावित कर सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें: मेनोपॉज के दौरान क्यों होता है सिरदर्द और कैसे मिल सकती है इस समस्या में राहत, जानिए

किस वजह से होता है ब्रेस्ट पेन?

मेनोपॉज के दौरान ब्रेस्ट पेन होने की सबसे प्रमुख वजह है इस दौरान महिलाओं के शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव। जैसे मेन्स्ट्रुएशन और प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले हार्मोनल बदलावों की वजह से ब्रेस्ट पेन होता है, ठीक उसी तरह से मेनोपॉज के दौरान एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरॉन जैसे हार्मोन्स के लेवल में बदलाव आता है, जिसकी वजह से महिलाओं को ब्रेस्ट पेन महसूस होता है। हालांकि मेनोपॉज होने से ठीक पहले की अवस्था में ब्रेस्ट पेन होने के लिए हार्मोन स्तर में बदलाव जिम्मेदार है, लेकिन कभी-कभार दूसरी वजहों से भी ऐसा हो सकता है। ऐसा होने पर आपको इन लक्षणों पर ध्यान देना चाहिए —

  • निप्पल में होने वाला डिस्चार्ज
  • स्तनों का आकार बढ़ना
  • स्तन में गांठ का होना
  • स्तनों में रेडनेस होना
  • बुखार
  • छाती का दर्द
  • त्वचा में बदलाव
  • कई बार भोजन में पोषण की कमी से भी ऐसा हो सकता है।

Recommended Video

इन वजहों से भी होता है ब्रेस्ट में दर्द 

  • ब्रेस्ट में सिस्ट होना
  • ब्रेस्ट ट्रॉमा
  • पहले हो चुकी ब्रेस्ट सर्जरी
  • गलत साइज की ब्रा पहनने की वजह से
  • तनाव
  • शराब
  • मास्टिटिस
  • हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी

ब्रेस्ट पेन की जांच कैसे करें?

हालांकि मेनोपॉज से पहले ब्रेस्ट पेन होना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन इसके बारे में आपको अपने डॉक्टर से बात करने में भी कोई हर्ज नहीं है। हालांकि ब्रेस्ट पेन का आम तौर पर ब्रेस्ट कैंसर से कोई लेना-देना नहीं होता, लेकिन ब्रेस्ट पेन के बारे में अपने डॉक्टर से कंसल्ट करके इस तरह की चिंताओं को दूर कर लेना ही ठीक रहता है। साथ ही आपको ये भी पता चलता है कि ब्रेस्ट पेन से निजात पाने का सही तरीका क्या है। 

डॉक्टर से लें सलाह

अगर आपको लंबे समय तक ब्रेस्ट पेन हो, तो आपको इस बारे में अपने डॉक्टर से जरूर बात करनी चाहिए, ताकि आपको पता चल सके कि ऐसा क्यों हो रहा है और कहीं इसके पीछे कोई दूसरी गंभीर समस्या तो नहीं है। मेडिकल जांच के दौरान डॉक्टर आपके स्तनों का फीजिकल ऑब्जर्वेशन करके आपको सही स्थिति बता सकते हैं। अगर फिर भी कोई और समस्या आपको महसूस होती है तो डॉक्टर की सलाह से आप मैमोग्राम या सोनोमैमोग्राम जैसे टेस्ट भी करवा सकती हैं। 

ब्रेस्ट पेन का इलाज़ क्या है?

आम तौर पर घरेलू उपायों और अपने स्तनों का नियमित ध्यान रखकर मेनोपॉज के दौरान होने वाले ब्रेस्ट पेन से निज़ात पाई जा सकती है। नियमित तौर पर मसाज करने, एक्सरसाइज़ करने और रिलैक्सेशन टेक्निक से भी इसमें मदद मिल सकती है। इसके अलावा खानपान का ध्यान रखकर भी इसे काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है। ऐसी महिलाओं को अधिक मात्रा में चाय-कॉफी, चॉकलेट के सेवन और स्मोकिंग से बचना चाहिए। आमतौर पर मेनोपॉज हो जाने के बाद यह दर्द खुद-ब-खुद खत्म हो जाता है। 

अगर आपको यह खबर उपयोगी लगी तो इसे जरूर शेयर करें, हेल्थ से जुड़ी अन्य अपडेट्स पाने के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी।

Reference:

https://www.healthline.com/health/menopause/sore-breasts-menopause

https://www.medicalnewstoday.com/articles/322107