युवावस्था में महिलाएं अपनी पीरियड्स साइकिल के रेगुलर होने को लेकर काफी कॉन्शस रहती हैं, लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे शरीर में नए बदलाव आने लगते हैं। 50 की उम्र तक आते-आते मेनोपॉज की शुरुआत हो जाती है। मेनोपॉज में कुछ महिलाओं को सिरदर्द में राहत मिल जाती है, तो वहीं कुछ महिलाओं को सिरदर्द बढ़ जाने की समस्या होती है। कुछ और महिलाओं को पेरी-मेनोपॉज (मेनोपॉज की शुरुआत) में हार्मोन में उतार-चढ़ाव की वजह से अक्सर ही सिरदर्द की समस्या होती है। इस बारे में Dr. Preeti Deshpande M.S.(OBGY), FICOG, Endoscopy Training IRCAD (France) ने हमें विस्तार से जानकारी दी है, आइए जानते हैं, उन्होंने क्या कहा- 

मेनोपॉज में सिरदर्द किन वजहों से होता है?

सिरदर्द मेनोपॉज का सबसे प्रमुख लक्षण है और इससे काफी ज्यादा परेशानी हो सकती है। हार्मोनल उतार-चढ़ावों की वजह से यह समस्या देखने को मिलती है। माइग्रेन सबसे ज्यादा सामान्य तरह का सिदर्द है। तनाव और sinusitis headaches के मुकाबले माइग्रेन काफी ज्यादा इंटेंस होता है। इन सभी तरह के सिरदर्द का अनुभव मेनोपॉज के दौरान हो सकता है।  

हार्मोन के स्तर में उतार-चढ़ाव के अलावा मेनोपॉज से होने वाले सिरदर्द की वजह कई और भी हो सकती हैं। इस बारे में अभी भी अध्ययन जारी है। लाइफस्टाइल की वजह से यह समस्या हो सकती है, मसलन स्ट्रेस, सिरदर्द बढ़ाने वाले चीजें, नींद में कमी, अल्कोहल का सेवन, कुछ खास तरह के फूड या फूड की कमी। 

इसे जरूर पढ़ें: मेनोपॉज में ब्रेस्ट पेन क्यों होता है और कैसे पाएं इस दर्द से राहत, जानिए

माइग्रेन के ये हैं लक्षण 

headache reasons

माइग्रेन सबसे ज्यादा इंटेंस टाइप का सिरदर्द होता है। इसमें सिरदर्द आमतौर पर सिर के एक ही तरफ होता है। या फिर आंखों की पुतलियां फैल जाती हैं। इसके साथ ही आंखें चौंधियाना या उल्टी आना जैसा भी महसूस हो सकता है। 

स्ट्रेस की वजह से भी होता है सिरदर्द

दूसरी तरह का Headache है Tension headache। यह स्ट्रेस के कारण हो सकता है और यह माइग्रेन की तुलना में कम एक्सट्रीम होता है। Tension headaches को टेंशन की फीलिंग से जोड़कर देखा जा सकता है और इसमें सिर के आगे के हिस्से में और गर्दन के ऊपरी हिस्से में दर्द होता है।  

किसी भी उम्र में हो सकता है Sinusitis का सिरदर्द 

Sinusitis का सिरदर्द किसी भी उम्र में हो सकता है। यह सिर्फ मेनोपॉज तक सीमित नहीं है। Paranasal sinuses सिर और चीकबोन्स में छोटी हवा से भरी कैविटीज होती हैं। अगर sinuses की लाइनिंग इन्फेक्शन की वजह से संक्रमित होती है, तो आपको कंजेशन फील हो सकता है और चेहरे में दर्द महसूस हो सकता है। 

 

मेनोपॉज में क्यों होता है सिरदर्द

मेनोपॉज में शरीर में बहुत से हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिनकी वजह से सिरदर्द की समस्या हो सकती है। एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रेरॉन के स्तर में उतार-चढ़ाव के कारण मेनोपॉज के दौरान सिरदर्द होता है। 

 

सिरदर्द में क्या सलाह देते हैं डॉक्टर

अगर आपको अक्सर ही सिरदर्द की समस्या रहने लगी है, तो आपको डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए। डॉक्टरी चेकअप के जरिए समस्या के मूल तक पहुंचने में मदद मिलेगी। हाई ब्लड प्रेशर की वजह से सिरदर्द हो सकता है। आपके डॉक्टर आपके सीटी स्कैन या एमआरआई स्कैन की भी सलाह दे सकते हैं। 

 

मेनोपॉज के सिरदर्द के लिए होम रेमेडीज

reasons of headache in menopause

मेनोपॉज में होने वाले सिरदर्द की समस्या से राहत पाने के लिए आप जितनी जल्दी उपाय शुरू कर दें, उतना अच्छा रहेगा। 

  • जिस हिस्से में दर्द महसूस हो, वहां पर मसाज करें। 
  • गहरी सांस लें और आराम करने वाली एक्सरसाइज करें। 
  • अरोमाथेरेपी ऑयल या एक्यूपंक्चर थेरेपी का इस्तेमाल करें। 
  • रिलेक्सेशन तकनीक अपनाएं

Recommended Video

डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव

  • डाइट और लाइफस्टाइल में बदलावों से भी सिरदर्द से राहत पाई जा सकती है।
  • अल्कोहल, चीज, कैफीन और चॉकलेट आदि सिरदर्द बढ़ाने की वजह बनते हैं, इसीलिए इनसे बचें।
  • रेगुलर एक्सरसाइज, शरीर में पर्याप्त मात्रा में नमी, नियमित रूप से नींद लेना सिरदर्द से बचाव कर सकता है।
  • विटामिन बी2, विटामिन डी, मैग्नीशियम और कोएनजाइम क्यू 10 सिरदर्द से बचाव में सहायक साबित हो सकते हैं। इसी तरह ड्राई फ्रूट्स, फ्लैक्स सीड्स, सालमन मछली और हरी सब्जियों के जरिए मैग्नीशियम का सेवन बढ़ाया जा सकता है। 

 

इन दवाओं से मिलता है आराम

कुछ दर्दनिवारक दवाएं जैसे कि NSAIDs तेज दर्द से राहत पाने में मदद दे सकती हैं। जैसे ही तेज दर्द शुरू होता है, वैसे ही ये दवाएं लेने की जरूरत होती है। जो महिलाएं frequent menopausal headaches से जूझती हैं, उनके लिए प्रीवेंटिंव मेडिसिन्स दी जा सकती हैं। ये दवाएं रोजाना ली जा सकती हैं या फिर जब आपको लगे कि मेनोपॉज के दौरान सिरदर्द रहने वाला है, तो आप ये दवाएं ले सकती हैं। दवाओं में  Beta-blockers, Anticonvulsants, Calcium-channel blockers और Antidepressants जैसी दवाएं शामिल हैं। कुछ महिलाएं हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का सहारा लेती हैं, लेकिन यह सिरदर्द की समस्या को बढ़ा भी सकती है। ओरल मेडिकेशन के बजाय एस्ट्रोजन पैचेस से सिरदर्द के बढ़ने की आशंका कम होती है।  

महिलाओं को मेनोपॉज के दौरान सिरदर्द कई तरह से हो सकता है। इस बात का ध्यान रखें कि आपके शरीर में बदलाव हो रहा है और ऐसा महसूस करना बहुत असामान्य नहीं है। इसके लक्षण कुछ ही समय में सामान्य हो जाएंगे। 

अगर आपके यह आर्टिकल अच्छा लगा, तो इसे जरूर शेयर करें, हेल्थ से जुड़ी अन्य अपडेट्स पाने के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी।

Reference:

https://healthline.com/health/menopause.headaches

https://www.avogel.co.uk/health/menopause/symptoms/headaches/  

https://www.beingeve.net/symptoms/headaches-during-menopause