जल ही जीवन है,
इसलिए आपको खूब सारा पानी पीने की सलाह दी जाती है। पेट मे दर्द हो या स्किन की प्रॉब्‍लम या फिर कोई भी बीमारी करती हो परेशान, हर प्रॉब्‍लम का सल्‍यूशन पानी में छुपा है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि जरूरत से ज्‍यादा पानी पीना भी आपकी हेल्‍थ के लिए प्रॉब्‍लम का कारण बन सकता है। यह बात हम नहीं कह रहे बल्कि एक नई रिसर्च से सामने आई है।

जी हां अगर आप जरूरत से ज्‍यादा पानी पीती हैं तो सावधान हो जाए। शोधकर्ताओं का कहना है कि ओवर हाइड्रेशन, लिक्विड को बहुत ज्‍यादा इकट्ठा होना- खतरनाक रूप से लो सोडियम लेवल या ब्‍लड में या ब्रेन में सूजन का कारण बन सकता है।

क्‍या है हाइपोनेट्रेमिया

हाइपोनेट्रेमिया, एक जीवन घातक बीमारी है जिसमें ब्रेन में सूजन आ जाती है, ये बुजुर्ग मरीजों में बहुत आमतौर पर पाई जाती है और संज्ञानात्मक समस्याओं और दौरे का कारण बन सकती है। या दूसरे शब्‍दों में आप कह सकती हैं कि बॉडी में पानी की अधिकता से वाटर इनटॉक्सिकेशन या हाइपोनेट्रेमिया हो सकता है। इस स्थिति में ब्‍लड में सोडियम की मात्रा कम हो सकती है। ऐसे हालात में व्यक्ति अत्यधिक थकावट, मिचली से लेकर बेहोशी के साथ ही कोमा का शिकार हो सकता है।

Read more: वजन के अनुसार रोजाना कितना पानी पीना चाहिए? जानिए

कनाडा में मैकगिल यूनिवर्सिटी के चार्ल्स बोर्के ने कहा, "(हाइपोनाट्रेमिया) ब्रेन की चोट, सेप्सिस, कार्डियक विफलता और दवाओं के उपयोग में नॉर्मल पैथोलॉजिकल स्थितियों में होता है, जैसे कि एमडीएमए (एक्स्टसी)।"

drinking water health inside

हाइपोनेट्रेमिया कैसे होता है विकसित

हालांकि यह अभी तक अनिश्चित है कि हाइपोनेट्रेमिया कैसे विकसित होता है, अध्ययन में पाया गया कि ब्रेन की हाइड्रेशन सेंसिंग तंत्र में एक दोष इसके लिए अपराधी हो सकता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि ब्रेन के हाइड्रेशन सेंसिंग न्यूरॉन्स उसी तरह से ओवरहाइड्रेशन का पता नहीं लगा सके जिससे वे डिहाइड्रेशन का पता लगा सकें। ओवरहाइड्रेशन Trpv4 को एक्टिव करता है - कैल्शियम चैनल जो ग्लियल कोशिकाओं में पाया जा सकता है, जो हाइड्रेशन सेंसिंग न्यूरॉन्स को घेरने का काम करता है। यह सेलुलर गेटकीपर है जो बॉडी में पानी के संतुलन को बनाए रखने में निहित है।
"हमारे अध्ययन से पता चलता है कि यह वास्तव में ग्लियल कोशिकाएं हैं जो पहले ओवरहाइड्रेट स्‍टेट का पता लगाती हैं और फिर [हाइड्रेशन सेंसिंग] न्यूरॉन्स की विद्युत गतिविधि को बंद करने के लिए इस जानकारी को स्थानांतरित करती हैं," बोर्के ने समझाया।
उन्होंने कहा, "हमारा विशिष्ट डेटा हाइड्रोमिनरल और तरल इलेक्ट्रोलाइट होमियोस्टेसिस का अध्ययन करने वाले लोगों के लिए महत्वपूर्ण होंगा, और चिकित्सक जो हाइपोनैरेमिया के साथ सामना करने वाले मरीजों का इलाज करते हैं।"

Read more: सावधान ! पीती हैं अगर ठंडा पानी तो आपको हो सकते हैं ये 7 रोग

जर्नल सेल रिपोर्ट्स में प्रकाशित परिणामों से पता चला है कि ओवरहाइड्रेशन को पहली बार Trpv4 चैनल द्वारा पहचाना जाता है जो एक प्रकार के एमिनो एसिड को ज्ञात करता है, टॉरिन, जो हाइड्रेशन सेंसिंग न्यूरॉन्स को बाधित करने के लिए एक ट्रिप वायर के रूप में काम करता है।

Recommended Video