• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

स्प्रिंग सीजन में सेहत को दुरुस्त रखने के लिए क्या कहता है आयुर्वेद, आप भी जानें

स्प्रिंग सीजन में सेहत को दुरुस्त रखने के लिए क्या कहता है आयुर्वेद, आइए इस आर्टिकल में जानते हैं।
author-profile
Published -01 Mar 2022, 09:00 ISTUpdated -28 Feb 2022, 15:36 IST
Next
Article
ayurvedic guide to boost health during spring season tips

मौसम बदल रहा है। धीरे-धीरे ठिठुरने वाली सर्दियों के बाद अब सुहावना मौसम यानि वसंत का मौसम आ गया है। इस बदलते मौसम में लगभग हर कोई पहनावे के साथ-साथ खान-पान में भी बदलाव करने लगा है। कई लोग अब अधिक गर्म खाना की जगह हल्का गर्म भोजन को खाना पसंद करने लगे हैं। कई महिलाएं ऐसी भी हैं जो सेहत का ध्यान रखने के लिए हरी सब्जियों, प्रोटीन युक्त फूड्स, फाइबर युक्त फूड्स आदि का सेवन करने लगी है।

लेकिन, अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि स्प्रिंग सीजन यानि वसंत ऋतु में सेहत का ध्यान रखने के लिए क्या-क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, तो फिर आपका जवाब क्या होगा? अगर आपको इसके बारे में नहीं मालूम है, तो आयुर्वेद की डॉक्टर वारालक्ष्मी बताने जा रही हैं कि सेहत को दुरुस्त रखने के लिए वसंत ऋतु में किन चीजों का सेवन करना चाहिए और किन चीजों का सेवन करने से बचना चाहिए, तो आइए जानते हैं। 

इन चीजों को करें भोजन में शामिल 

ayurvedic guide to boost health during spring season inside

मौसम के अनुसार किसी भी खाद्य पदार्थ को आहार में शामिल करना सबसे अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। ऐसा नहीं कि सर्दी का मौसम हो और एक से दो कटोरा दही खाने के लिए बैठ गए। ऐसी गलती से कभी-कभी गंभीर समस्या भी हो सकती है। ऐसे में वसंत ऋतु के इस मौसम में किन फूड्स का सेवन करना चाहिए इसका ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है। 

डॉक्टर वारालक्ष्मी कहती हैं कि स्प्रिंग सीजन में मौसमी सब्जियों को ही भोजन में शामिल करना चाहिए। जैसे-पत्ता गोभी, पालक, गाजर, सरसों साग, बीन्स और चुकंदर आदि मौसमी चीजों को शामिल करना चाहिए।  इसके अलावा फल में सेब, अंगूर, अनार, नाशपाती आदि फलों को शामिल करना चाहिए।   

इसे भी पढ़ें: क्या है फ्रोजन फूड्स और इसके सेवन के बारे में क्या कहता है आयुर्वेद, आप भी जानें

शहद को करें शामिल 

ayurvedic guide to boost health during spring season inside

प्राचीन काल से शहद औषधीय गुणों का भंडार माना जाता है।  मौसम कोई भी इसके इस्तेमाल से एक नहीं बल्कि कई बीमारियों को आसानी से दूर किया जाता सकता है। आज भी कई महिलाएं पेट समस्या, गला समस्या आदि चीजों में इस्तेमाल सकती हैं। वारालक्ष्मी भी शहद को वसंत ऋतु में शामिल करने की सलाह देती हैं। वो कहती हैं कि सप्ताह में दो से तीन बार शहद को आहार में शामिल करना चाहिए। इसे गुनगुने पानी में मिक्स करके भी सेवन किया जाता सकता है। दूध में भी मिक्स करके सेवन किया जा सकता है।  

रोजाना करें ये काम 

ayurvedic guide to boost health during spring season inside

वसंत ऋतु में खुद को और अपने परिवार के अन्य सदस्यों को सेहतमंद रखने के लिए आपको कुछ चीजें नियमित समय पर शामिल करना चाहिए। वो कहती हैं कि स्प्रिंग सीजन में सुबह या शाम को ऑयल पुल्लिंग ज़रूर करना करना चाहिए।  इसके अलावा दिन में दो बार ब्रश ज़रूर करना चाहिए। 

अन्य दिनों की तरह भी स्प्रिंग सीजन में हर रोज एक्सरसाइज करना बेहद ज़रूरी है। वो कहती हैं सुबह-सुबह बेड छोड़ने के बाद गुनगुने पानी का सेवन करने और फ्रेश होने के बाद लगभग 30-35 मिनट तक एक्सरसाइज ज़रूर करें। मेडिटेशन को भी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं।  

चंदन तेल का करें उपयोग 

ayurvedic guide to boost health during spring season inside

वैसे तो शरीर की मालिश करने के लिए आपने इससे पहले कई ऑयल का इस्तेमाल किया होगा लेकिन, वारालक्ष्मी का कहना है कि स्प्रिंग सीजन में चंदन का तेल लगाना फायदेमंद साबित हो सकता है। ऐसे में अपने आप को सेहतमंद रखने के लिए आप चंदन का तेल भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

Recommended Video

इसे भी पढ़ें: नेचुरल तरीके से आयरन लेवल को बूस्ट करने के बारे में क्या कहता है आयुर्वेद, आप भी जानें

न करें ये गलतियां 

ayurvedic guide to boost health during spring season inside

हालांकि, ऐसी कई गलतियां हैं जिसे नहीं करने की सलाह देती हैं लेकिन, हम आपको कुछ महत्वपूर्ण बातें बताने जा रहे हैं, जिन्हें लगभग हर कोई करते रहता है। अधिक तला हुआ भोजन न करें। खट्टे और मीठी चीजों को एक साथ मिक्स करके कभी भी सेवन न करें। एक्सरसाइज के दौरान अधिक पानी न पिए। अधिक डेयरी प्रोडक्ट्स खाने से बचें। ठंडे पानी से नहाने से बचें। दिन में अधिक सोने से बचें। इसके अलावा अल्कोहल का सेवन करने से किसी भी टाइम आप बचें।

हैवी भोजन करने बचें

भारतीय लोग रात के समय हैवी भोजन करना पसंद करते हैं क्योंकि, उनको लगता है कि खाना खाने के बाद सीधा बेड पर ही हो जाना होता है। लेकिन, अगर आप भी दूसरों की तरह गलतियां करते हैं, तो आपको बचना चाहिए। रात के समय लाइट लेकिन, पौष्टिक भोजन ही करें। रात में भोजन करने के बाद लगभग 10-15 मिनट टहले ज़रूर।  

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@freepik)

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।