परिवार की नींव यानि महिलाएं, क्‍या अपना ध्‍यान रख पाती हैं?
शायद नहीं।
जी हां परिवार के हर सदस्‍य की जरूरत का ध्यान रखना यानि उनकी सेहत, खान-पान और बच्चों को पढ़ाई की सारी जिम्मेदारी को अपना फर्ज मानने वाली महिलाएं खुद अपनी सेहत के बारे में इतनी सजग नहीं होतीं। शायद मैं भी अपने घर, पति और बच्‍चों की देखभाल में इतना खो गई हूं कि अपनी सेहत की ओर ध्‍यान ही नहीं दे पाती थी। लेकिन मेरा ध्‍यान अपनी हेल्‍थ की तरफ तब गया जब मेरे हाथों की उंगालियों में पेन होना शुरु हुआ। शुरु में तो इस पेन की तरफ मैंने ध्‍यान नहीं दिया लेकिन जब हद से ज्‍यादा बढ़ गया तब डॉक्‍टर को दिखाने पर पता चला कि यह दर्द विटामिन डी की कमी से है।

हे भगवान, कैसा दर्द है कुछ समझ नहीं आता। ऐसा लगता है कि अगर पहले परिवार की तरह अपनी सेहत पर भी ध्‍यान दिया होता, तो मेरा ये हाल ना होता। इस बात से मैंने सबक लिया और मैंने डॉक्‍टर के परामर्श से अपने सारे जरूरी टेस्‍ट करवाए। अगर आप मेरी तरह अपनी हेल्‍थ को नजरअंदाज करती हैं तो ऐसा करना बंद कर दें। क्‍योंकि परिवार को खुश देखने की पहली शर्त ही खुद की हेल्‍थ पर ध्‍यान देना है। और इसके लिए 30 की उम्र के बाद हर महिला को ये जरूरी टेस्‍ट जरूर करवाने चाहिए। आइए जसलोक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर की कंसल्‍टेंट स्‍पे‍शलिस्‍ट डॉक्‍टर शिल्‍पा अग्रवाल से जानें कि 30 की उम्र के बाद महिलाओं को कौन से जरूरी टेस्‍ट करवाने चाहिए।

Read more: Healthy life के लिए अपनाएं ये 5 secret

विटामिन डी

आज के समय में हम प्रकृति में कम, एसी में ज्‍यादा समय बिताते हैं। ऐसे में हमारी बॉडी में विटामिन-डी की कमी हो जाती है। इसलिए 30 की उम्र के बाद महिलाओं के लिए विटामिन-डी का टेस्‍ट करवाना बेहद जरूरी होता है। विटामिन-डी फैट में घुलने वाले प्रो-हार्मोन्स का एक ग्रुप है, जो आंतों से कैल्शियम को सोखकर हड्डियों में पहुंचाता है। इसके अलावा बॉडी में विटामिन डी-3 की कमी कमजोर हड्डियों के लिए जिम्मेदार हो सकती है।

थायरॉयड टेस्‍ट
thyroid test health

मौजूदा लाइफस्‍टाइल में 30 की उम्र के बाद महिलाओं को थायरॉयड का टेस्‍ट जरूर करवाना चाहिए। क्‍योंकि थायरॉयड महिलाओं में होने वाली एक आम समस्‍या है। डॉक्‍टर शिल्‍पा का कहना हैं कि अगर आपको भी बिना वजह थकान, मसल्स पेन, भूख बढ़ने या घटने की समस्या हो रही है तो थायरॉयड टेस्‍ट के लिए टी3, टी4 और टीएसएच ब्‍लड टेस्ट करवाना चाहिए। इस रिपोर्ट के द्वारा थायरॉयड की अधिकता व कमी का पता चलता है।

पैप स्मीयर टेस्ट

आजकल यूटरस कैंसर का खतरा काफी ज्‍यादा बढ़ गया है। इस वजह से बढती उम्र की हर महिला को यूट्रस से संबंधित टेस्‍ट जरूर करवाना चाहिए। डॉक्‍टर शिल्‍पा  के अनुसार यूटरस कैंसर का पता लगाने के लिए एक विशेष टेस्‍ट किया जाता है, जिसे पैप स्मीयर टेस्ट कहा जाता है। इस बीमारी का अगर समय से पता चल जाए तो इसका इलाज भी संभव है।

डिप्रेशन टेस्‍ट

यह तो आप जानते ही हैं कि आज की महिलाएं अपने परिवार और ऑफिस में इस कदर उलझी रहती है कि वह सही तरीके से अपने खान-पान और आराम का ध्‍यान नहीं रख पाती हैं। जिससे उसको डिप्रेशन होने लगता है। यहां तक कि प्रेग्‍नेंसी के दौरान भी उन्‍हें डिप्रेशन होने लगता है। इसलिए डिप्रेशन को कम करने के लिए महिलाओं को स्‍क्रीनिंग टेस्‍ट करवाना बेहद जरूरी होता है। स्क्रिनिंग टेस्‍ट में डॉक्टर नींद की आदतों, परेशानियों, दबी हुई इच्‍छाओं और पसंदीदा एक्टिविटी आदि के बारे में सवाल पूछता है, जिससे महिलाओं का डिप्रेशन कम हो सकता है।

बीएमआई टेस्‍ट
body mass index health checkup

30 वर्ष की उम्र के बाद नियमित बीएमआई यानि बॉडी मास इंडेक्‍स चेक करना बेहद जरूरी होता है, इसलिए साल में एक बार बीएमआई जरूर करवाएं। बीएमआई से यह पता चलता है कि शरीर का वजन लंबाई के अनुपात में ठीक है या नहीं। महिलाओं का आदर्श बीएमआई 22 तक होता है। इससे अधिक बीएमआई मोटापे और कमजोर मसल्‍स का कारण बन सकता है।

ब्‍लड प्रेशर टेस्‍ट

30 की उम्र के बाद BP की समस्या हो जाती है, इसलिए महीने में एक बार बीपी चेक कराएं। हाई ब्‍लड प्रेशर के कारण किडनी, हार्ट और ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है।

हीमोग्‍लोबिन

यूं तो यह बात हम सभी जानते हैं कि महिलाओं में हीमोग्‍लोबिन की कमी पाई जाती है। इसलिए डॉक्‍टर शिल्‍पा का कहना हैं कि साल में एक बार हीमोग्‍लोबिन टेस्‍ट करवाना बेहद जरूरी होता है।

Read more: कहीं आप मोटापे की शिकार तो नहीं, weighing machine से नहीं बीएमआई से जानें

डायबिटीज
diabetes test health

अगर आपने उम्र का 30 वां पड़ाव पार कर लिया है, आपका वजन ज्‍यादा है, डायबिटीज की फैमिली हिस्‍टरी है और प्रेग्‍नेंसी के दौरान आपको डायबिटीज रहा है तो साल में एक बार फास्टिंग और ब्लड शुगर लेवल चेक कराएं। बढ़ी हुई शुगर डायबिटीज का कारण बन सकती है।

Gyn Checkup

डॉक्‍टर शिल्‍पा का कहना हैं कि इस चेकअप के दौरान gyne आपकी ब्रेस्‍ट का और इंटरनल चेकअप करती है जिससे समय रहते ब्रेस्‍ट में किसी भी तरह के lump का पता चल जाए और समय रहते समस्‍या का समाधान हो जाए।
तो देर किस बात की अगर आपकी उम्र भी 30 साल ज्‍यादा है तो आज ही अपने डॉक्‍टर से मिलकर ये टेस्‍ट करवाएं।