ऑफिस में मेरे साथ काम करने वाले रश्मि चाहे जितना भी खा लें, उसका वजन बढ़ता ही नहीं। वह फास्‍ट फूड में पिज्‍जा से लेकर बर्गर और तला-भुने से लेकर मिर्च मसाले तक न जाने क्‍या-क्‍या नहीं खाती, लेकिन हमेशा स्लिम ही दिखती है।

उसे देखकर मेरे मन में हमेशा यह सवाल आता है कि कहां एक ओर रश्मि जिसका कुछ भी खाने के बावजूद वजन बढ़ता नहीं और कहां मैं जिसे हवा और पानी भी लग जाता है, आखिर ऐसा क्‍यों होता है? क्‍या slim लड़कियों को देखकर आपके मन में भी ऐसा ही सवाल आता है? अगर हां तो आपके इस सवाल का जवाब शालीमार स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल की डायटीशियन सिमरन सैनी से जानें।

slim insideiamge

डॉक्‍टर सिमरन के अनुसार, ‘मेटाबॉलिज्म हेल्‍दी होने पर कोई भी अपने वेट को कंट्रोल में रख सकता है।' आमतौर पर माना जाता है कि मेटाबॉलिज्म के घटने-बढ़ने से हमारा वेट भी घटता-बढ़ता है। ज्‍यादा वेट के लिए स्‍लो मेटाबॉलिज्म को जिम्मेदार ठहराया जाता है। जब बॉडी का बी़.एम.आई. यानी बेसल मेटाबॉलिक रेट काफी कम हो जाता है, तो बॉडी में फैट जमा होने लगता है। काफी देर भूखे रहने के बाद जब हम कुछ खाते हैं, तो भूख की वजह से जरूरत से ज्यादा खा लेते हैं। लेकिन हमारी बॉडी उस सारे फूड को एनर्जी में नहीं बदल पाती। नतीजतन फैट बॉडी में जमा होने लगता है।

Read more: लड़कियां जिम और dieting से नहीं बल्कि इन 5 drinks से करें weight लॉस

क्‍या है मेटाबॉलिज्‍म

मेटाबॉलिज्म उस प्रोसेस को कहते हैं, जिसमें खाना डाइजेशन के बाद उस रूप में बदलता है, जो बॉडी के सेल्‍स और टिश्‍यु इस्तेमाल करते हैं। मेटाबॉलिज्म के दौरान खाना एनर्जी, एंजाइम्स और फैट में बदलता है। या आप यूं कह सकती हैं कि मेटाबॉलिज्म हमारी बॉडी का एनर्जी प्रोवाइडर है, जो बॉडी के सेल्स को बनाने में हेल्‍प करता है। यह एक ऐसा प्रोसेस भी माना जाता है जो आपके फूड को एनर्जी, एंजाइम और फैट में तब्‍दील कर देता है। मेटाबॉलिज्म अच्छा होने पर बॉडी में फैट जमा नहीं होता।



बॉडी सेल्‍स में हो रही इन केमिकल एक्टिविटी के लिए जितनी एनर्जी की ज़रूरत पड़ती है, उसकी सबसे कम मात्रा ही मेटाबॉलिज्म है। इन एक्टिविटी यानि मेटाबॉलिज्म में हमारी बॉडी डेली जितनी भी एनर्जी लेता है, उसका 50 से 70 प्रतिशत खर्च होता है। मेटाबॉलिज्म के कम होने से मोटापा, थकावट, डायबिटीज, हाई ब्‍लड प्रेशर होने का खतरा बढ़ जाता है।

Read more: तेजी से वजन कम करना चाहती हैं तो इस टेस्टी टिप्स को अपनाएं

वेट लॉस के टिप्‍स

  • ज्यादा देर भूखे रहकर एकदम बहुत ज्‍यादा खाना अच्‍छा नहीं है। हर दो-तीन घंटे बाद कुछ हल्का-फुल्का खाते रहने से मेटाबॉलिज्म ठीक रहता है।
  • प्रोटीन डाइजेस्‍ट करने में बॉडी को सबसे ज्‍यादा टाइम लगता है। अगर आप मेटाबॉलिक रेट बढ़ाना चाहते हैं यानि वेट लॉस करना हैं तो हाई प्रोटीन डाइट लें। कार्बोहाइड्रेट और ज्‍यादा फैट वाली चीजों से परहेज करें। दूध, अंडे, बीन्स, मछली और चिकन आदि चीजें प्रोटीन से भरपूर होती हैं।
  • साथ ही रात को देर तक जागने से भूख लगने पर बॉडी हाई कैलोरी वाली चीजें खाने की ओर आकर्षित होता है। ये चीजें मेटाबॉलिज्म को धीमा कर देती हैं। कम से कम सात घंटे की अच्छी नींद लेना बेहद जरूरी है।
  • Pooja Sinha
  • Her Zindagi Editorial