क्या आपको अक्सर सुबह उठने के बाद पीठ में अकड़न और दर्द महसूस होता है? हालांकि, कई स्वास्थ्य समस्‍याओं के कारण यह समस्‍या होती है लेकिन लंबे समय तक बैठने और आराम की कमी के कारण भी इस तरह का दर्द देखने को मिलता है और आजकल तो ज्‍यादातर महिलाएं लंबे समय तक बैठकर वर्क फ्रॉम होम कर रही हैं। गलत पोश्‍चर के कारण यह दर्द महिलाओं को बहुत ज्‍यादा परेशान कर रहा है। इस दर्द के कारण शरीर के नार्मल कामकाज में बाधा से बचने के लिए उठने के बाद स्‍ट्रेचिंग की सलाह दी जाती है। 

अगर आपको स्ट्रेचिंग की आदत नहीं है तो दर्द से बचने के लिए आज से ही इसे करना शुरू करें। स्ट्रेचिंग ब्‍लड फ्लो को बढ़ाने में मदद करता है और शरीर को तरोताजा भी करता है। नियमित स्ट्रेचिंग के अलावा, आप कुछ आसान योग पोज़ भी शामिल कर सकती हैं जो आपकी सुबह को बेहतर बना सकते हैं और शरीर को पर्याप्त स्‍ट्रेच देते हैं। इन असरदार योगासन के बारे में हमें टीवी की फेमस एक्‍ट्रेस दीपिका सिंह बता रही हैं। जी हां उन्‍होंने अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से दिन की शुरुआत करने और पीठ दर्द को काबू पाने में मदद करने के लिए कुछ अविश्वसनीय योग आसन शेयर किए हैं। इस वीडियो में उन्‍हें 10 तरह के योग करते हुए देखा जा सकता है। योग शेयर करते हुए उन्‍होंने कैप्‍शन में लिखा है, ''कुछ आश्चर्यजनक योगासन जो आपकी पीठ की अकड़न को कम करके उसे गतिशील करते हैं।'' आइए उनके द्वारा शेयर किए गए कुछ योगासन के बारे में जानते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: कमर दर्द का इलाज दवा से नहीं एक्‍सपर्ट की इन 5 एक्‍सरसाइज से करें और मोटापा भी घटाएं

हालांकि, सिर्फ इन योगासन का अभ्यास करके आप अपनी मसल्‍स को तनाव रहित किए बिना दर्द से राहत पा सकती हैं। लेकिन इस बात का ध्‍यान रखें कि अगर पीठ में दर्द बहुत ज्‍यादा है तो इन योगासन को करने से बचें।

ताड़ासन

इस स्टैंडिंग स्‍ट्रेच से टेलबोन को नीचे की ओर स्‍ट्रेच करने में मदद मिलती है और यह प्‍यूबिक बोन को चेस्‍ट की ओर धकेलता है। यह आसन पोश्चर में सुधार के साथ घुटनों, थाइज, टखनों, पेट और हिप्‍स को मजबूत करता है और साथ ही फ्लैट पैरों की परेशानी से भी छुटकारा दिलाता है।

हस्त पादासन

yogasan for back pain

एक्‍सपर्ट के अनुसार, कब्ज जैसे अन्य समस्‍याओं को ठीक करने में मदद करने के लिए शरीर को प्रभावी ढंग से झुकने वाला स्‍ट्रेच करना एक आदर्श तरीका है।

प्लैंक

पेट की ताकत को बढ़ाकर आप पीठ में लचीलापन और बैलेंस ला सकती हैं जो शरीर के पोश्चर को बेहतर बनाने में और लंबे समय तक बैठने पर पीठ के तनाव को कम करने में मदद करता है।

अष्टांग नमस्कार

अष्टांग नमस्कार को अष्टांग दंडवत प्रणाम भी कहा जाता है। यह आठ अंगों वाली मुद्रा एक आसन है जो रीढ़ के चारों ओर बैलेंस लाने में मदद करती है। मसल्‍स की एक्टिव उत्तेजना से रीढ़ की मूवमेंट करने की सीमा बढ़ जाती है जो पीठ को मजबूत करती है। यह एक कारण है कि सूर्य नमस्कार, जो अष्टांग नमस्कार का एक हिस्सा है, को उचित आसन के साथ करने पर पीठ के लिए फायदेमंद बताया जाता है।

भुजंगासन

bhujangasana

चेस्‍ट और रीढ़ को खोलने से पीठ दर्द को कम किया जा सकता है और लचीलापन बढ़ता है। हालांकि, अगर सही तरीके से अभ्यास नहीं किया जाए, तो मुद्रा ही कमर दर्द का कारण हो सकती है।

धनुरासन

धनुरासन चेस्‍ट को खोलने और पीठ को स्‍ट्रेच करने वाली सबसे अच्‍छी मुद्रा है जो लंबे समय तक बैठने या खड़े रहने वाली महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद होती है। मुद्रा कंधों, गर्दन और पेट को खोलने में मदद करती है और कोर और चेस्‍ट शामिल होने के कारण पीठ के लचीलेपन में सुधार करती है।

Recommended Video

अधोमुख श्वानासन

यह मुद्रा पीठ दर्द से राहत देने और रीढ़ को कठोर होने से बचाती है। साथ ही यह मुद्रा आपके पोश्‍चर को बेहतर बनाती है।

उष्ट्रासन

camel yoga pose

यह मुद्रा चेस्‍ट को खोलने में मदद करती है और पीठ की मसल्‍स को उत्तेजित करती है।

इसे जरूर पढ़ें: महिलाएं घर बैठे आसानी से कर सकती हैं ये 3 स्‍पेशल एक्‍सरसाइज, आज से ही करें

मार्जरी आसन

मार्जरी आसन जिसे कैट और काउ पोज के नाम से भी जाना जाता है कंधों, हिप्‍स, रीढ़ और पेट के लिए फायदेमंद है। आप जब नियमित रूप से इसे करती हैं तो रीढ़ में लचीलापन और बैलेंस बढ़ता है।

बालासन

रीढ़ को स्थिर करते हुए, बालासन पीठ के निचले हिस्से की मसल्‍स को प्रभावी ढंग से फैलाने में मदद करता है। इन योगासन को करके आप भी पीठ दर्द से राहत पा सकती हैं।

फिटनेस से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।