योग से आज के समय में बहुत सारे लोगों का जीवन प्रभावित हुआ है। रोज योग करने वाले व्यक्ति की दीर्घ अवधि में भी लाभ होता है। यह व्यायाम का एक रूप है जो लोगों को अपना वजन कम करने और वजन बढ़ाने के साथ ऊंचाई बढ़ाने, शरीर और मन को संतुलित बनाने तथा लोगों को शारीरिक और मनोवैज्ञानिक गड़बड़ियों के शिकार लोगों की भी सहायता करता है। योग में भिन्न किस्म के व्यायाम शामिल हैं। इनमें सांस लेने के व्यायाम जैसे अनुलोम विलोम शामिल है। इससे हम सांस लेने की अपनी शैली को संतुलित करना सीखते हैं और देखा गया है कि सांस से संबंधित गड़बड़ी वाले लोगों को इससे लाभ होता है। यही नहीं, योग में कई आसान हैं जो लोगों को शरीर में स्ट्रेचेबिलिटी लाने में सहायक हैं। पद्मासन जैसे आसन के बारे में जाना जाता है कि यह गुरुओं द्वारा किया जा सकता है।

योग बॉडी बैलेंस के अलावा स्ट्रेंथ भी देता है

क्लीनिक ऐप्प के सीईओ श्री सतकाम दिव्या ने योग के कई लाभ बताये है। योग बॉडी बैलेंस और बिल्डिंग के अलावा आपको स्ट्रेंथ भी देता है। और सिर्फ बॉडी स्ट्रेंथ नहीं बल्कि मेंटली भी स्ट्रांग बनाता है। यह आपको एनर्जी, स्ट्रेंथ और मेंटली स्ट्रोंग भी बनाता है जो हर इंसान के लिए ज़रूरी है। इसकी शुरुआत भारत से हुई थी। लंबे समय से यह जाना जाता है कि ऋषि-मुनि योग करते थे। आध्यात्मिक तौर पर देखा गया है कि योग करने वाले मन की शांति का सातवां स्तर हासिल कर लेते हैं और इसमें मोक्ष तथा समाधि शामिल है। आज के समय में लोगों ने अपनी जीवनशैली बदल ली है और इसे बेहद खराब कर लिया है। इसलिए, व्यक्ति के जीवन में व्यायाम अभिन्न हिस्सा बन गया है। योग का अर्थ सिर्फ व्यायाम करना नहीं है बल्कि जीवन आराम से जीना है।

yoga inside

इसे भी पढ़ें: शिल्‍पा शेट्टी जैसी फ्लेक्सिबल बॉडी चाहती हैं तो ये '1 योगासन' आप भी करें 

योग में उम्र का कोई बंधन नहीं

 योग हम सब के लिए कितना महत्वपूर्ण है वयस्कों लोगो को ये भी पता नहीं की भविष्य में उनके स्वास्थ्य पर इसका क्या असर होगा। इसीलिए ऐसे लोगों के लिए व्यायाम और योग करने की सलाह दी गई है ताकि वे खुद को ताजगी देने में कुछ समय गुजार सकें। दो दशक पहले जीवन आसान था। तब भोजन पौष्टिक होता था और पर्यावरण साफ। आज बुजुर्ग भी स्वास्थ्य के लिहाज से कष्ट में हैं, उनका स्वास्थ्य भी खराब हो रहा है। और जीवन की अवधि कम होकर सिर्फ 65-70 साल रह गई है। योग से संबंधित सबसे अच्छी बात यह है कि इसे करने के लिए आयु का कोई प्रतिबंध नहीं है। बुजुर्ग भी इसे कर सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति के लिए योग और व्यायाम के कई लाभ है।

योग के लाभ

योग कार्डियोवस्कुलर सिस्टम, रेसपायरेट्री (सांस लेने की प्रणाली), नर्वस सिस्टम, पाचन प्रणाली और पेशाब से संबंधित प्रणाली को ठीक करने में सहायता करता है। व्यायाम से जीवनशैली से संबंधित बीमारियों जैसे डायबिटीज, हाइपर टेंशन और अवसाद आदि का जोखिम कम होता है। योग और व्यायाम का लाभ लंबे समय में भी मिलता है।आप शारीरिक रूप से सक्रिय और आरामतलब व्यक्ति के शरीर के अंतर पहचान सकते हैं। इससे शरीर को बढ़िया बनाने में मदद मिलती है। इससे आत्म विश्वास बनाने में भी सहायता मिलती है। अनुसंधान करने वालों ने पाया है कि व्यायाम से लोगों का जीवन बढ़ा है और यह 85 साल तक है। यही नहीं, लोग आत्म निर्भर जीवन जी रहे हैं। व्यायाम और योग के कई फायदे हैं तभी जब ये नियमित आधार पर किए जाएं।

का दावा करते हैं। इससे साबित होता है कि ऐसा करने वाले अपने परिवार के सदस्यों को भी खुशनुमा माहौल देते हैं।

कब करें योग

yuga inside

सुबह-सुबह और शाम को सूर्यास्त के पहले योग करना चाहिए या फिर इस बता का ध्यान रखें कि योग करने के दो- तीन घंटे पहले तक आपने कुछ ना खाया हो।

इसे भी पढ़ें: इन 10 चीजों को कभी ना खाएं एक साथ, बिगड़ सकती है आपकी सेहत

कौन कितने समय तक करे योग

किशोरों को रोज 150 मिनट तक काम करना चाहिए और इसमें ठीक-ठाक से लेकर गंभीर व्यायाम तक शामिल है। इसी तरह, बुजुर्गों को 60 मिनट यानी एक घंटे व्यायाम करना चाहिए। और यह निम्न तथा ठीक-ठाक होना चाहिए।

गर्भवती स्री का योग

yoga inside

योग के बारे में देखा गया है कि यह गर्भवती और दूध पिलाने वाली मांओं के लिए फायदेमंद है। उनसे उम्मीद की जाती है कि वे नियमित रूप से 15-20 मिनट का वर्क आउट करें और इसमें ज्यादातर चलने तथा सांस लेने का व्यायाम है जो योग के तहत आता है।इसलिय सभी उम्र वर्ग के लिए योग करना सबसे जरुरी है।