बिजी लाइफस्टाइल की वजह से आजकल हर किसी को कोई न कोई बीमारी से जूझना पड़ रहा है। कोई जोड़ों के दर्द से परेशान है तो कोई पेट की समस्या से। किसी को मोटापे से तंग कर रखा है तो किसी को आंखों की रौशनी ने। अगर केवल महिलाओं की बात की जाए तो आजकल की महिलाएं डबल बर्डन सिनड्रोम से जूझ रही हैं। वह घर के साथ-साथ ऑफिस का काम भी कर रही हैं। ऐसे में अपने लिए कम समय मिलने के कारण महिलाएं अपनी सेहत की ओर ध्यान नहीं दे पाती हैं। जबकी हर महिला के लिए बहुत जरूरी है कि वह दिन में एक बार 30 मिनट के लिए वॉक करने जरूर जाए।

इसके साथ ही हफ्ते में 3 बार व्यायाम जरूर करें। समय की कमी के कारण महिलाएं अकसर इन बातों को नजर अंदाज कर देती हैं मगर, इससे उन्हें कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। वैसे इन बीमारियों में कब्ज और जोड़ों का दर्द बेहद आम बीमारियां हो चुकी हैं। वैसे तो आपको अगर यह प्रॉब्लम हैं तो आपको डॉक्टर को जरूर दिखाना चाहिए। लेकिन आप चाहें तो योगा से भी इसे ठीक कर सकती हैं। इन दोनों परेशानियों के लिए आपको मलासान योगा करना चाहिए। 21 जून को International Yoga Day है। इस मौके पर हम आपको  मलासान योगा  के बारे में बताने जा रहे हैं। आप इस दिन से इस योगासन का अभ्‍यायस शुरू कर सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Anti-Ageing Routine: हमेशा दिखना है यंग तो सोने से पहले जरूर अपनाएं ये 3 स्टेप

Benefits Of Malasana Yoga

कैसे होता है मलासन योगा 

जैसा की नाम से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि मलासन का अर्थ है मल त्याग करने के समय जिस पेजीशन में आप बैठते हैं वैसे ही आपको इस योगासन में बैठना है। आप सुबह उठकर 4 ग्लास गरम पानी पीने के बाद इस आसान में 10 मिनट बैठेंगी तो आपको कब्ज की समस्या में बहुत आराम मिलेगा। आजकल घरों और दफ्तरों में वेस्टर्न स्टाइल टॉयलेट्स होते हैं। इन टॉयलेट्स के अपने फायदे हैं मगर, इनके कारण इंडियन स्टाइल में बैठ कर मल त्याग अब बहुत कम लोग ही करते हैं। 

Recommended Video

पहले ऐसा नहीं होता था। पहले घरों में इंडियन स्टाइल टॉयलेट्स होते थे। इन पर आपको मलासन में ही बैठना होता था। इससे आपको कब्ज के साथ-साथ जोड़ों की समस्या में भी बहुत लाभ मिलता था। मगर, अब बहुत कम घरों में इंडियन टॉयलेट्स देखने को मिलते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Yoga For Hair: 5 योगासन जो आपके बालों की ग्रोथ बढ़ाते हैं

Malasana Yoga Benefits For Constipation

मलासन में कैसे बैठें 

  • मलासन में बैठने के लिए सबसे पहले आपको अपने घुटनों को मोड़ कर मल त्याग करने वाली अवस्था में बैठना होगा। 
  • इसके बाद आपको अपने दोनों हाथों की बगलों को मुड़े हुए घुटनों पर टिका देना होगा। 
  • अब आप अपने दोनों होथों की हथेलियों को आपस में मिलाएं और हाथ जोड़ कर नमस्कार करने वाली मूद्रा बना लें। 
  • इस आसान में आपको धीरे-धीरे सांस को अंदर और बाहर छोड़ते रहना है। 
  • आप कुछ देर इसी स्थिति में बैठें और डीप ब्रीदिंग करें। 
  • इसके बाद हाथों को नमस्कार मूद्रा में ही उपर की ओर ले जाएं। 
  • इसके बाद वापस से उसी मूद्रा में हाथों को लाएं और धीरे-धीरे हाथों को खोलते हुए उठें। 
  • सुबह के समय कुछ खाने से पहले आपको इस मूद्रा को कम से कम 10 मिनट जरूर करना चाहिए। 

क्या हैं इस आसन के लाभ 

आप अगर रोज मलासन करती हैं तो आपको इससे कब्ज दूर होने के साथ-साथ कई और दूसरे लाभ भी मिलेंगे। चलिए आपको मलासन से होने वाले कुछ लाभों के बारे में बताते हैं। 

  • अगर आप नियमित इस आसन का अभ्यास करती हैं तो आपको गैस और कब्ज दोनों ही परेशानियों से निजात मिल जाएगी। 
  • पेट से जुड़ी जितनी भी परेशानी होंगी वह आपको इस आसन को रोज करने से दूर हो जाएंगी साथ ही आपकी अब्डोमिनल नसें भी मजबूत हो जाएंगी। 
  • आपके पेट की मांसपेशियां भी नियमित इस योगासन का अभ्यास करने से लचीली हो जाएंगी। 
  • पेट ही नहीं बल्कि कमर दर्द, घुटने के जोड़ों में दर्द और हाथों के जोड़ों को दर्द भी इस योगासन को रोज करने से दूर हो जाएगा। 
  • अगर आपके पेट में अचानक दर्द हो रहा है तब भी आप इस आसन में बैठ कर दर्द से राहत पा सकती हैं। 
  • लूज मोशन हो रहे हैं या आप गर्भवती हैं तब भी आप इस आसान को आराम से कर सकती हैं। 
 अगर आपको से जुड़ी कोई बीमारी है तो इस तरह के प्राणायाम करने से पहले किसी योगा ट्रेनर की सलाह जरूर लें। सेहत से जुड़े टिप्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें HerZindagi से।