चॉकलेट का क्रेज कितना ज्यादा होता है ये उस इंसान से पूछिए जिसे ये बहुत पसंद है। दुनिया भर में चॉकलेट के दीवाने बहुत हैं। कई देशों में तो बाकायदा चॉकलेट फेस्टिवल मनाया जाता है। जहां ज्यादा चॉकलेट खाने से बहुत से नुकसान हो सकते हैं जिसमें से एक वजन का बढ़ना भी है वहीं दूसरी ओर तय मात्रा में डार्क चॉकलेट खाने से कई फायदे हो सकते हैं। चॉकलेट के दीवानों को कई बार खुद को चॉकलेट खाने से रोकना होता है क्योंकि उन्हें वजन बढ़ने की चिंता होती है मगर डॉर्क चॉकलेट इसका 

कई स्टडी बता चुकी हैं कि डार्क चॉकलेट स्वास्थय वर्धक होती है, दिल की बीमारी की समस्या को कम करती है, ब्लड शुगर सही करने और भूख को कंट्रोल करने में मदद करती है। पर इसे क्यों सुपर फूड कहा जा सकता है?

इसे जरूर पढ़ें- महिलाओं के लिए खुशखबरी, जल्‍द प्रेग्‍नेंट होना चाहती हैं तो डार्क चॉकलेट खाएं 

Keto Diet में फायदेमंद होती है डार्क चॉकलेट- 

इसे सुनकर शायद आपको अजीब लगे, लेकिन यकीनन डार्क चॉकलेट कीटो डायट में भी मददगार साबित हो सकती है। हालांकि, इसके लिए ये ध्यान रखना जरूरी है कि उस चॉकलेट में 70% cocoa हो। यानी वो चॉकलेट मिल्क से कहीं से भी जुड़ी न हो। 28 ग्राम की चॉकलेट में (बिना शक्कर वाली) 3 ग्राम नेट कार्ब्स होते हैं और उससे भी कम कैलोरी। यानी अपनी क्रेविंग को भी पूरा किया जा सकता है और वजन बढ़ने का खतरा भी नहीं होगा।  अगर कीटो डायट के लिए कोई चॉकलेट खरीदनी है तो कीटो चॉकलेट को ट्राई कर सकते हैं। ये शुगर फ्री हेजलनट फ्लेवर चॉकलेट होती है जो आपकी वेट लॉस जर्नी को कायम रखेगी। इसे खरीदने के लिए यहां क्लिक करें। 

Dark chocolate benefits

American Chemical Society के जर्नल के मुताबिक डार्क चॉकलेट कई मायनों से वजन कम करने या कम से कम स्टेबल करने में तो मददगार होती है। इसमें ऐसे एन्जाइम होते हैं जो ब्लड शुगर को काबू में रखते हैं बॉडी फैट कम करते हैं। 

और क्या फायदे हैं डार्क चॉकलेट के?

1. डार्क चॉकलेट आपकी क्रेविंग कम करेगी। अगर डोनट, शक्कर, मिल्क चॉकलेट, मिल्क केक या ऐसी कोई भी मिठाई खाने का मन कर रहा है तो इस चॉकलेट का इस्तेमाल किया जा सकता है। ऐसे में आपकी क्रेविंग जल्दी कम हो जाएगी और किसी तरह की दिक्कत भी नहीं होगी। अगर टेस्ट के लिए कोई और डार्क चॉकलेट खानी है तो उसके लिए Lindt चॉकलेट ट्राई कर सकती हैं। ये विदेशी ब्रांड है और इसमें प्योर चॉकलेट होती है। आप Lindt एक्सिलेंस डार्क चॉकलेट खरीदने के लिए यहां क्लिक करें

2. बार-बार भूख लगने की समस्या के लिए भी डार्क चॉकलेट सहायक है। दरअसल, जब हम शक्कर वाला खाना खाते हैं तो शरीर में इंसुलिन का आदी हो जाता है। ऐसे में शरीर ghrelin नाम का एक हार्मोन पैदा करता है जो भूख लगाता है। ऐसे में डार्क चॉकलेट इस प्रोसेस को रोक सकती है और ghrelin लेवल कम कर सकती है। ये फैक्ट नीदरलैंड्स में हुई 2010 की एक स्टडी ने साबित किया था। 

3. लोग अक्सर स्ट्रेस में ज्यादा खाना खाते हैं, लेकिन डार्क चॉकलेट इस स्ट्रेस की समस्या से छुटकारा दिलाती है। क्योंकि ये स्ट्रेस कम करने में मदद करती है। स्ट्रेस के साथ-साथ ये Anxiety कम करने में भी मदद करती है। अगर Anxiety की बहुत समस्या है तो लोग आसानी से अपना काम भी नहीं कर सकते हैं। ऐसे में अगर इससे जुड़ी कोई जानकारी चाहिए, या Anxiety कम करने की एक्सरसाइज करनी है तो उसके लिए The Anxiety Journal किताब काफी फायदेमंद हो सकती है। इसे खरीदने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं

4. डार्क चॉकलेट खाने से शरीर में दर्द का अहसास कम होता है। ये livehealthy.chron की स्टडी के अनुसार सामने आया है। इसमें मैग्नीशियम की मात्रा काफी होती है। इसीलिए जो लोग जिम जाते हैं उन्हें डार्क चॉकलेट का सेवन करने को कहा जाता है। इसे हेल्दी फूड में ही गिना जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें- जवां और हेल्‍दी स्किन की चाह है तो रोज खाएं डार्क चॉकलेट 

डार्क चॉकलेट खाना भी एक लत की तरह हो सकता है, इसलिए ये ध्यान रखना चाहिए कि जो भी इसे खा रहा है वो दिन या हफ्ते की एक तय लिमिट बना ले। ये फायदेमंद सिर्फ हाई बीपी नहीं बल्कि लो बीपी के मरीजों के लिए भी होती है जो इंस्टेंट एनर्जी दे सकती है। तो जिन लोगों को डार्क चॉकलेट नहीं पसंद है उन्हें एक बार इसे खाने की आदत बनानी चाहिए। स्वास्थ्य की समस्याओं को कम करने में जितनी डार्क चॉकलेट सहायक है उतनी कोई और मिठाई नहीं हो सकती। धीरे-धीरे कर इसका टेस्ट भी आपको पसंद आने लगेगा और इसी के साथ अन्य फायदे तो हैं हीं।