जिनको भी साइनस की समस्या है, वही इसके दर्द और परेशानी को जानते हैं। मैं भी इसकी शिकार हूं, इसलिए मैं जानती हूं कि साइनस अटैक के दौरान सांसों का भारी होना, लगातार छीकें आना, सिरदर्द कैसे आपको प्रभावित करता है। आप गोलियां और स्प्रे के भरोसे ही जीवन जीते हैं, लेकिन अगर इसका कोई  प्राकृतिक तरीका मिल जाए तो सब कितना आसान होगा न? ऐसे समय में योग एक अच्छा सहारा है। योग आपको रातों-रात साइनस से छुटाकार नहीं दिला सकता। हां, मगर इससे आपको रिलीफ जरूर मिल सकता है।

उष्ट्रासन या केमल पोज़

camel pose

उष्ट्रासन आपके पूरे स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। यह आपके श्वसन में सुधार करता है और आपके गले और छाती को स्ट्रेच करता है। यह पोज़ आपके फ्रंटल रीज़न को भी स्ट्रेच करता है। इतना ही नहीं, यह आपके नेसल पैसेज से भारीपन को दूर करता है। 

उष्ट्रासन करने का तरीका-  योगा मैट पर घुटने के बल बैठ जाएं और दोनों हाथों को हिप्स पर रखें। साथ ही, अपनी पीठ को झुकाएं और अपनी हथेलियों को अपने पैरों पर तब तक खिसकाएं जब तक कि हाथ सीधे न हो जाएं। ध्यान रखें इस दौरान आपकी गर्दन में दबाव न आए। इस पोज़ में कुछ देर रहें। सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे पहली पोजीशन में आ जाएं। हाथों को वापस अपनी कमर पर ले आएं।

अधोमुख श्वानासन

adhomukh svnasan

अधोमुख श्वानासन को डाउनवर्ड फेसिंग डॉग पोज (Downward Facing Dog Pose) भी कहा जाता है। यह एक शुरुआती स्तर का अष्टांग / हठ स्तर का योग आसन है। आप इसका अभ्यास सुबह खाली पेट करें और इसे 1 से 3 मिनट तक ऐसे ही रहने दें। यह पोज़ शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करती है जिससे शरीर में किसी भी तरह की गांठ और तनाव से राहत मिलती है। यह आपके नेक और स्पाइन को स्ट्रेच करती है। इस पोज़ में नाक की कंजेशन में राहत मिलती है।

अधोमुखश्वानासन करने का तरीका- योग मैट पर पेट के बल लेट जाएं। इसके बाद सांस खींचते हुए अपने पैरों और हाथों के बल शरीर को उठाएं और टेबल जैसी आकृति बनाएं। सांस को बाहर निकालते हुए धीरे—धीरे हिप्स को ऊपर की तरफ उठाएं। अपनी कुहनियों और घुटनों को सख्त बनाए रखें। ये तय करें कि शरीर उल्टे 'V' के आकार में आ जाए। इस आसन के अभ्यास के दौरान कंधे और हाथ एक सीध में रहें। जबकि पैर हिप्स की सीध में रहेंगे। इस बात का ध्यान रहे कि आपके टखने बाहर की तरफ रहेंगे।  अब हाथों को नीचे जमीन की तरफ दबाएं और गर्दन को लंबा खींचने की कोशिश करें। आपके कान आपके हाथों के भीतरी हिस्से को छूते रहें और अपनी निगाह को नाभि पर केन्द्रित करने की कोशिश करें। इसी स्थिति में कुछ सेकेंड्स तक रुकें और उसके बाद घुटने जमीन पर टिका दें और मेज जैसी स्थिति में फिर से वापस आ जाएं। 

इसे भी पढ़ें :जिम जाए बिना भी इन योगासन के माध्यम से बनाए जा सकते हैं एब्स

Recommended Video

कपालभाति

kapalbhati

कपालभाति अस्थमा से लेकर साइनस दूर करने में मददगार है। यह ब्लड सर्कुलेशन को ठीक रखता है। इसमें सांस छोड़ने की प्रक्रिया करने से फफेड़े लंबे समय तक ठीक से काम करते हैं। स्ट्रेस और चिंताा दूर करने में मदद करता है। इससे गैस, कब्ज तथा एसिडिटी आदि में लाभ पहुंचाता है ।

कपालभाति करने का तरीका- किसी भी आरामदायक मुद्रा में बैठें (जैसे सुखासन, अर्धपद्मासन या पद्मासन)। अपनी पीठ को सीधा करें और अपनी आंखें बंद कर लें। अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर ऊपर की ओर रखें (प्राप्ति मुद्रा में)। सामान्य रूप से सांस ले, और छोटी, लयबद्ध और फोर्सफुल सांस छोड़ें। साथ ही पेट को भी अंदर की और बहार की ओर निकालें। अपने फेफड़ों से सारी हवा को बाहर की ओर निकालें। इसे लगभग 10 बार दोहराएं और वापस नॉर्मल पोजिशन में आ जाएं।

भुजंगासन

cobra pose for sinus

भुजंगासन एक शुरुआती स्तर का अष्टांग योग आसन है। मुद्रा का अभ्यास करने के लिए अपना पेट खाली रखें और इसे सुबह करने का प्रयास करें।  कोबरा पोज़ फेफड़ों को खोलता है और हृदय को सक्रिय करता है। यह एक तनाव मुक्त तंत्र के रूप में बहुत अच्छा काम करता है। यह साइनस से राहत के लिए सबसे अच्छे योगों में से एक है क्योंकि यह आपके फेफड़ों को खोलता है और सांस लेने में आसान बनाता है।

भुजंगासन करने का तरीका- हथेलियों को कंधों के नीचे रखकर पेट के बल लेट जाएं। अपने पैरों को एक साथ रखें, पंजों को जमीन पर टिकाएं। पूरी तरह से श्वास (पुरक) लें, अपनी सांस (कुंभ) को रोकें और फिर अपने सिर, कंधों और धड़ को 30 डिग्री के कोण पर ऊपर उठाएं। सुनिश्चित करें कि आपकी नाभि फर्श पर रहे, आपके कंधे चौड़े हों और सिर थोड़ा ऊपर की ओर उठा हो। अपने पैर की उंगलियों पर दबाव दें।

अगर आप भी साइनस से पीड़ित हैं, तो इन योग आसनों को करके जरूर देखें। ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी के साथ।

Image credit : freepik images