पेट फूलने की समस्या का आपको लगभग कितनी बार सामना करना पड़ता है? ये सवाल अहम है क्योंकि कुछ लोगों के  लिए ब्लोटिंग बहुत ही ज्यादा परेशानी भरी हो सकती है। अक्सर महिलाओं को खाना खाने के बाद ये समस्या होती है, कई लोगों को तो एसिडिटी की वजह से भी ब्लोटिंग होती है या फिर पीरियड्स के समय भी इसका शिकार होना पड़ता है। ब्लोटिंग का मतलब है कि पेट में एक्सेसिव गैस या किसी तरह के डिस्टर्बेंस के कारण डाइजेस्टिव सिस्टम का ठीक से काम न कर पाना। ये खाना खाने के बाद होता है और इसकी वजह से आपका पेट बड़ा लग सकता है।

मुझे अक्सर ऐसा लगता था कि मैं थोड़ी सी मोटी लग रही हूं, लेकिन इसका अंदाज़ा लगाना मुश्किल था। बहुत मेहनत के बाद मुझे सही चीज़ के बारे में पता चला। असल में मेरी सारी समस्या ब्लोटिंग की वजह से ही थी। ब्लोटिंग की वजह से पेट दर्द, थकान, मसल पेन आदि कुछ भी हो सकता है और मेरे मामले में मुझे थकावट ज्यादा होती थी। हर बार खाना खाने के बाद मुझे बहुत असहज लगता था तो मैंने अपने खान-पान को ठीक करने के बारे में सोचा।

इसे जरूर पढ़ें- वेट लॉस से लेकर लंबी उम्र तक, वेजीटेरियन डाइट के हैं ढेर सारे फायदे, आप भी जानिए

लॉकडाउन के वक्त मैंने अपने ईटिंग पैटर्न में से एक-एक चीज़ हटाकर देखी और फिर ये फैसला किया कि आखिर किन चीज़ों के कारण मुझे ब्लोटिंक का अहसास ज्यादा हो रहा है। अपनी किताब लिखते समय मैं इस नतीजे पर पहुंची कि किन चीज़ों के कारण ब्लोटिंग की समस्या सामने आती है और आप उन्हें कैसे अवॉइड कर सकती हैं। तो चलिए मैं आपको बताती हूं कि ये क्या हैं।

shipra khanna diet and bloating food

1. ब्रॉकली और पत्ता गोभी-

क्या आपको भी पत्ता गोभी और ब्रॉकली खाने के बाद गैस की समस्या होती है? अगर हां तो आप अकेली नहीं हैं। दरअसल, ये जो भी समस्या है वो इन सब्जियों के एक खास पदार्थ के कारण है। ये है रैफिनोज़ (Raffinose) ये एक तरह की शक्कर होती है जिसे पचाने के लिए शरीर को बैक्टीरिया पैदा करना पड़ता है ताकि इसे फरमेंट किया जा सके। यही कारण है कि इसे पचाते समय आपको गैस की समस्या हो सकती है। नहीं-नहीं यहां कहने का ये मतलब नहीं है कि इसे पूरी तरह से खाना छोड़ दीजिए। बस ठीक से पकाएं और बार-बार न खाएं। वैसे अगर पकाया जाए तो ये शरीर के लिए लाभकारी भी हो सकती हैं, लेकिन सच्चाई तो यही है कि इनके कारण ब्लोटिंग होती जरूर है।

हां अगर सलाद आदि खाते समय कच्ची सब्जियां आप ज्यादा खाती हैं तो इन सब्जियों को अवॉइड करें। क्योंकि कच्चा खाने से पेट को ब्रॉकली और पत्ता गोभी जैसी सब्जियां पचाने में समस्या भी हो सकती है। सलाद के लिए बाकी सब्जियों को रखें।

bloating foods to avoid

2. फलियां-

याद कीजिए आखिरी बार आपने कब मटर-टमाटर की सब्जी बनाई थी और आपको उसकी वजह से गैस हो गई हो। ऐसा ही सोयाबीन, बीन्स, दाल आदि के साथ भी होता है। अब आप सोचेंगी कि ये सब तो खाने में बहुत अच्छी होती हैं, इनमें बहुत सारा प्रोटीन होता है तो फिर ये क्यों हमें गैस देती है। असल में इसका प्रोटीन ही जिम्मेदार है आपकी ब्लोटिंग के लिए। इन चीज़ों में प्रोटीन के साथ-साथ शुगर, फाइबर और अन्य चीज़ें भी होती हैं जो शरीर एब्जॉर्ब नहीं कर पाता। ऐसे में ये जरूरी है कि आप इन्हें कुछ तरह के डाइजेस्टिव ग्रेन्स के साथ खाएं जैसे चावल, किन्वा आदि।

इसे जरूर पढ़ें- आपके लिए सही हो सकती है कैसी बैलेंस डाइट? मास्टरशेफ शिप्रा खन्ना से जानें इसका राज़

3. डेयरी प्रोडक्ट्स-

हो सकता है कि डेयरी प्रोडक्ट्स को इस लिस्ट में देखकर आप चौंक जाएं। पर जो लोग लैक्टोस इंटॉलरेंट होते हैं उनके लिए डेयरी प्रोडक्ट्स काफी बुरे साबित हो सकते हैं। इनके फायदे छोड़िए, इनकी वजह से पेट दर्द से लेकर गैस तक सारी समस्याएं हो सकती हैं। मतलब अगर आप दूध, दही, मक्खन, चीज़ आदि खाने के बाद असहज महसूस करते हैं और गैस होती है, तो यकीनन ये संकेत है कि आप लैक्टोस इंटॉलरेंट हैं। अब इसके लिए आप लैक्टोस डाइजेस्टिव टैबलेट्स ले सकते हैं या फिर डॉक्टरी सलाह ले सकते हैं।

4. बहुत ज्यादा नमकीन खाना-

अगर आप अपने खाने में बहुत ज्यादा नमक खाती हैं तो ये भी एक कारण हो सकता है ब्लोटिंग का। आपने कई बार ये सुना होगा कि खाने में नमक की मात्रा न ही बहुत ज्यादा और न ही बहुत कम होनी चाहिए। जहां नमक की वजह से आयोडीन की कमी हो सकती है, वहीं इसे ज्यादा खाने से सोडियम की मात्रा शरीर में बढ़ भी सकती है। ऐसे में शरीर में वाटर रिटेंशन ज्यादा होगा जिससे शरीर फूलेगा। खाने में नमक को कम करने के लिए डाइट रूटीन में बदलाव लाना जरूरी है। घर के खाने में भी थोड़ा कम नमक खाएं और कोशिश करें कि स्नैक्स के तौर पर फ्रूट्स और नट्स आदि को अपनी डाइट में शामिल करें। बाज़ार के हेवी स्नैक्स खाने की जगह अगर आप घर में बने स्नैक्स खाएंगी तो यकीनन सोडियम की मात्रा बैलेंस हो सकती है।



अब अगर आप सोच रही हैं कि इन सब चीज़ों को डाइट से निकालने के बाद आपको कौन सी चीज़ें खानी चाहिए तो मैं आपको बताती हूं। दरअसल, केला, पपीता, सौंफ, प्रोबायोटिक दही, अदरक आदि चीज़ों को अपनी डाइट में शामिल करने से ब्लोटिंग को कंट्रोल किया जा सकता है। अब यकीनन अपने रूटीन में थोड़ा सा बदलाव भी जरूरी है। फिट रहने के लिए सही आहार बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है।

शिप्रा खन्‍ना मास्‍टरशेफ इंडिया सीजन -2 की विनर रह चुकी हैं। वो टीवी होस्ट, एंकर, फूड कंसल्टेंट भी हैं। साथ ही साथ वो फूड और डाइटिंग पर किताब भी लिख रही हैं।

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें और ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।