शरीर में कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना हमेशा खराब माना जाता है। यहां गुड और बैड दोनों ही अगर जरूरत से ज्यादा हो तो वो नुकसान कर सकता है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने को लेकर आपकी लाइफस्टाइल से जुड़ा कोई कारण हो सकता है। यकीनन कोलेस्ट्रॉल की समस्या एक बहुत विकराल रूप ले सकती है अगर इसे ऐसे ही छोड़ दिया गया तो। 

कोलेस्ट्रॉल का सीधा असर हमारे दिल पर पड़ता है और इसे ठीक करना बहुत जरूरी है। तापसी पन्नू की न्यूट्रिशनिस्ट मुनमुन गनेरीवाल ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर कोलेस्ट्रॉल से जुड़े कुछ टिप्स शेयर किए हैं। उन्होंने ये बताने की कोशिश की है कि कोलेस्ट्रॉल और उससे जुड़ी समस्याओं से कैसे नेचुरली निपटा जा सकता है। उन्होंने कोलेस्ट्रॉल और दिल की बीमारी के बारे में बताया है। 

कोलेस्ट्रॉल का हार्ट अटैक से सीधा संबंध नहीं होता-

आमतौर पर लोगों को लगता है कि कोलेस्ट्रॉल के कारण ही हार्ट अटैक आता है, लेकिन इसका सीधा संबंध नहीं होता। यकीनन लगभग 50 सालों से यही मान्यता है कि कोलेस्ट्रॉल सीधे तौर पर दिल की बीमारी का कारक होता है पर ऐसा नहीं है। 

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: इन 8 आयुर्वेदिक चीज़ों के भी होते हैं ये साइड इफेक्ट्स

कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए जरूरी भी है-

मुनमुन गनेरीवाल के मुताबिक कोलेस्ट्रॉल सिर्फ खराब ही नहीं होता बल्कि वो शरीर के लिए बहुत जरूरी भी है। कोलेस्ट्रॉल की वजह से शरीर में ये सारे काम होते हैं-

  • इससे कई सारे जरूरी हार्मोन्स जैसे एस्ट्रोजेन और टेस्टोस्टेरोन का प्रोडक्शन होता है।
  • विटामिन D के प्रोडक्शन के लिए भी ये बहुत जरूरी है। विटामिन D हमारे मानसिक स्ट्रेस, हड्डियों की मजबूती और वेट लॉस आदि के लिए बहुत जरूरी होता है। 
  • हमारे डायजेस्टिव सिस्टम को सही से रखने के लिए भी कोलेस्ट्रॉल की जरूरत होती है। 
  • हमारे सेल्स को डैमेज से बचाने के लिए भी कोलेस्ट्रॉल चाहिए। इसकी एंटीऑक्सिडेंट प्रॉपर्टीज कैंसर से बचाती हैं।  
heart cholestrol details

गुड और बैड दोनों कोलेस्ट्रॉल के बारे में जान लें ये बातें- 

मुनमुन गनेरीवाल का कहना है कि ये दोनों ही बहुत जरूरी होते हैं।  

  • गुड कोलेस्ट्रॉल (HDL) हमेशा रिसाइकलिंग सिस्टम के कोलेस्ट्रॉल की तरह काम करता है जो लिवर की मदद करता है।  
  • बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) हमेशा रिपेयरिंग और सुरक्षात्मक कार्यों को अंजाम देता है।  

इसलिए शरीर में सही मात्रा में दोनों का होना जरूरी है।   

ऑक्सिडाइज्ड कोलेस्ट्रॉल ही होता है सबसे खतरनाक- 

हमें लगता है कि LDL ही बैड कोलेस्ट्रॉल है जो शरीर को नुकसान पहुंचाएगा, लेकिन इसका शरीर में होना भी जरूरी है। सही मायनों में बैड कोलेस्ट्रॉल ऑक्सिडाइज्ड कोलेस्ट्रॉल होता है जो शरीर में प्रोसेस्ड खाने, पैकेज्ड फैट और रिफाइन्ड खाने से बढ़ता है। ये हाइड्रोजेनेटेड तेल और ऐसे ही रिफाइन्ड फूड्स के कारण शरीर को खराब करता है।

cholestrol blockage

ये कोलेस्ट्रॉल आर्टरीज में ब्लॉकेज तक पैदा कर सकता है और इस तरह के कोलेस्ट्रॉल से ही दिल की समस्या हो सकती है।  

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें-  WHO TIPS: इस तरह खाने में कम करें नमक और रहें हेल्दी 

कोलेस्ट्रॉल की समस्याओं को ऐसे नेचुरली करें ठीक- 

न्यूट्रिशनिस्ट मुनमुन गनेरीवाल के मुताबिक सबसे अच्छा तरीका इस तरह की समस्या को ठीक करने का ये है कि आप नेचुरल डाइट लें। अपनी ट्रेडिशनल डाइट पर अगर भरोसा किया जाएगा तो ऑक्सिडाइज्ड कोलेस्ट्रॉल की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।  

दूसरा तरीका ये है कि आप प्रोसेस्ड फूड्स से दूर रहें। अकेले ये ही स्टेप आपके कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद कर सकती है। मक्खन, घी, अंडे जैसे जरूरी चीज़ों को अवॉइड करने की जगह आप रिफाइन्ड फूड आइटम्स को अपनी डाइट से हटाएं। ऐसा करने से ही आपकी फूड हैबिट्स सुधर जाएंगी। कुकीज, बिस्किट्स, चिप्स, पैकेज ब्रेकफास्ट, सीरियल्स आदि ज्यादा खराब है। रोटियों में घी लगाना वापस से शुरू करें।  

फिजिकल एक्टिविटी है बहुत जरूरी। अगर आप अपनी फिजिकल एक्टिविटी को सही रखेंगे तो आपकी कोलेस्ट्रॉल की समस्या भी कम होगी।  

ये सभी टिप्स आपके लिए बहुत जरूरी हैं और ये जानना भी जरूरी है कि किस तरह से कोलेस्ट्रॉल को शरीर में मैनेज किया जा सकता है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरीज पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।