प्रेग्नेंसी के दौरान खाने-पीने में काफी सावधानी बरतने की जरूरत पड़ती है, क्योंकि इस अवस्था में बहुत सी चीजें शरीर को सूट नहीं करतीं। प्रेग्नेंसी में कौन सी डाइट ली जाए और कितनी क्वांटिटी में ली जाए, इस बात पर काफी ध्यान देने की जरूरत होती है। नॉर्मल लाइफ में ली जाने वाली रूटीन डाइट की चीजों को प्रेग्नेंसी की स्थिति में सूट ना करने पर या नुकसान करने पर डॉक्टर खाने के लिए कई बार मना कर देती हैं या कम खाने की सलाह देती हैं। कई महिलाएं ग्रीन टी को लेकर दुविधा में पड़ जाती हैं।

ग्रीन टी बहुत सी महिलाओं की रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन चुकी है। ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट और फ्लेवेनॉएड्स जैसे गुणकारी तत्व पाए जाते हैं और यह शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद मानी जाती है। ग्रीन टी प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए फायदेमंद है या नहीं, इस बारे में हमने बात की नर्चर आईवीएफ की कंसल्टेंट ऑब्स्टीट्रीशियन, गायनेकोलॉजिस्ट और आईवीएफ एक्सपर्ट डॉ. अर्चना धवन बजाज से और उन्होंने इस बारे में हमें अहम बातें बताईं-

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को डॉक्टर हेल्दी और न्युट्रिशन से भरपूर डाइट लेने की सलाह दी जाती है, साथ ही नियमित रूप से पानी पीने के लिए भी कहा जाता है। इसके साथ-साथ प्रेग्नेंट महिलाओं को चाय-कॉफी कम करने और लिमिट में पीने की सलाह भी दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इनमें पाया जाने वाला कैफीन यूरिनेशन और डिहाइड्रेशन की समस्या पैदा कर सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: सावधान! कहीं आप भी सुबह उठते ही green tea पीने की शौकीन तो नहीं?

आमतौर पर नॉर्मल चाय की तुलना में ग्रीन टी को ज्यादा फायदेमंद माना जाता है, ऐसे में कुछ महिलाएं प्रेग्नेंसी में ग्रीन टी ज्यादा पीती हैं। डॉ. अर्चना धवन बजाज प्रेग्नेंट महिलाओं को ग्रीन टी पीते सिर्फ एक ही चीज का ध्यान रखने की सलाह देती हैं। इस पहलू पर ध्यान देते हुए ग्रीन टी पीने से किसी भी तरह का नुकसान होने की आशंका नहीं है।

ग्रीन टी पीते हुए इस एक बात का रखें ध्यान

green tea healthy for pregnant women inside

अर्चना धवन बजाज, कंसल्टेंट ऑब्स्टीट्रीशियन, गायनेकोलॉजिस्ट एंड आईवीएफ एक्सपर्ट, नर्चर आईवीएफ दिल्ली बताती हैं, 

'प्रेग्नेंसी में ग्रीन टी से शरीर को उसी तरह फायदा मिलता है जैसे कि रुटीन लाइफ में मिलता है। इस समय में ग्रीन टी पीने में कोई समस्या नहीं है। लेकिन ग्रीन टी या फिर नॉर्मल टी पीते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि उसे बहुत ज्यादा खौलाएं नहीं। अगर ग्रीन टी को आप टी बैग से बना रही हैं तो उसे दो-तीन बार डिप करके तुरंत हटा दें। ज्यादा स्ट्रॉन्ग चाय प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सही नहीं है, क्योंकि इस प्रक्रिया से टैनिक एसिड कैफीन में बदल जाता है। कैफीन सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता, ऐसे में ग्रीन टी का फ्लेवर आते ही टी बैग को हटा दें। आदर्श रूप में ग्रीन टी को पानी में खौलाया नहीं जाता, बल्कि उसमें ग्रीन टी थोड़ी देर के लिए छोड़ दी जाती है,  जिससे टी का फ्लेवर पानी में आ जाता है। अगर प्रेग्नेंट महिला को ग्रीन टी पसंद है तो वह तीन-चार बार भी पी सकती हैं, बस इसी बात का ध्यान रखें कि चाय में कसैलापन ना आए। अगर किसी महिला को ग्रीन टी पीने से प्रॉब्लम फील होती है या बेचैनी लगती है तो उसके लिए बेहतर यही होगा कि वह ग्रीन टी कम से कम पिए या ना पिए। इसी तरह अगर प्रेग्नेंसी में गर्म पानी ना सूट करना तो ना पिएं।'

लीवर और किडनी पर नहीं होता बुरा असर

बहुत सी महिलाओं को लगता है कि ग्रीन टी पीने से किडनी और लीवर पर बुरा असर पड़ता है और इसीलिए गर्भवती महिलाओं को ग्रीन टी ना पीने की सलाह दी जाती है, लेकिन डॉ. अर्चना का मानना है कि ऐसी कोई समस्या नहीं है। प्रेग्नेंट महिलाएं ग्रीन टी आराम से पी सकती हैं, इसे पीने से इस तरह की दिक्कत नहीं होती। अगर आप घर बैठे सस्ते दामों पर ग्रीन टी पाना चाहती हैं तो यहां से पा सकती हैं। ग्रीन टी, जिसकी एमआरपी 230 रुपये है, को आप डील के तहत 192 रुपये में पा सकती हैं