भारत का इतिहास कई ऐसे रहस्यों से भरा हुआ है जिसके बारे में हम हमेशा सोचते तो हैं, लेकिन कभी भी उन्हें पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है। ऐसे कई ऐतिहासिक स्थान हैं जिनकी जानकारी के लिए वैज्ञानिक भी अटकलें लगाते रहे हैं, लेकिन उनके बारे में कुछ भी साफतौर पर नहीं पता चल पाया है। दिल्ली के कुतुब मीनार कॉम्प्लेक्स में आज भी एक ऐसा इतिहास छुपा हुआ है। ये है कीर्ति स्तंभ जिसे 1600 सालों से भी पुराना माना जाता है। 

इस कीर्ति स्तंभ को लेकर ये भी कहा जाता है कि इसमें कभी भी जंग नहीं लगती। लोहे का बना कोई खंभा इतने सालों से लगातार आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इतिहास के पन्नों में दर्ज इस खंबे को लेकर कई बातें और मान्यताएं हैं जिसके बारे में आज हम आपके अपनी स्टोरी में बात करेंगे। 

क्या है इस कीर्ति स्तंभ से जुड़े ऐतिहासिक फैक्ट्स?

फैक्ट्स की मानें तो ये स्तंभ चंद्रगुप्त II के समय मध्यप्रदेश में बनाया गया था। पर ये कब और कैसे मध्यप्रदेश से दिल्ली आया ये राज़ तो इतिहास के पन्नों में कहीं खो गया है। ऐतिहासिक फैक्ट्स के अनुसार इस स्तंभ को विष्णु मंदिर से जोड़कर देखा जाता है। इसे 'विष्णुध्वज' नाम से भी जोड़ा जाता है जहां विष्णु मंदिर के ध्वज को फहराने के लिए इस स्तंभ का इस्तेमाल किया जाता था। 

इसके 1233AD में दिल्ली आने की बात कही जाती है जब कुतुब कॉम्प्लेक्स को बनवाने की बात की गई थी। 

kirti pillar of delhi

इसे जरूर पढ़ें- भारत की पवित्र नदियों में से एक गोदावरी की कुछ अनोखी है कहानी, जानें इसका इतिहास

कभी नहीं लगी इस स्तंभ में जंग-

इस ऐतिहासिक स्तंभ को 1600 सालों में धूल-मिट्टी बन जाना चाहिए था, लेकिन ये अभी तक इसी तरह से खड़ा हुआ है। इतने सालों बाद भी इसमें जंग नहीं लगी है और यही बात इसे खास बनाती है। हालांकि, इसे किस राजा ने बनवाया था इसे लेकर अभी भी इतिहासकारों की अलग राय है, लेकिन फिर भी चंद्रगुप्त के काल से ही इसे जोड़ा जाता है। 

इसे क्यों बनवाया गया और इसे बनवाते समय ऐसी किस चीज़ का इस्तेमाल हुआ जिससे इसमें अभी तक जंग नहीं लगी ये एक रहस्य है।

qutub complex and kirti pillar

कैसा है इस स्तंभ का डिजाइन?

ये 6 टन से भी ज्यादा भार का स्तंभ 48cm डायामीटर के साथ बना हुआ है और इसमें 6 लाइन का ब्राह्मी लिपि का मैसेज गढ़ा गया है। हालांकि, इसके ऊपरी हिस्से में गरुड़ देव के चिन्ह बने हुए हैं जो इसे और भी ज्यादा रहस्यमयी बनाते हैं क्योंकि अगर इसे ध्वज के लिए इस्तेमाल किया जाना था तो इसमें ये चिन्ह नहीं होने थे। 

मन्नत पूरी करने की जादुई ताकत वाला स्तंभ?

आपने शायद अमिताभ बच्चन और तबू की फिल्म 'चीनी कम' देखी होगी जिसके आखिरी सीन में इसी स्तंभ का जिक्र है और इस स्तंभ में मन्नत पूरी करने की जादुई ताकत है। इस बात पर सालों तक लोग भरोसा करते रहे और जो भी आता वो अपने हाथों को उल्टा कर इस खंभे के डायामीटर से होते हुए हाथों को मिलाने की कोशिश करता। 

लोग अपनी पीठ को टिकाकर इस खंबे के सहारे खड़े हो जाते और हाथों को उल्टा कर पकड़ने की कोशिश करते। ऐसा माना जाता है कि जो इसे करने में सफल हो गया उसकी एक मन्नत पूरी हो जाएगी।  

1997 तक इस खंभे के इर्द-गिर्द फेंसिंग नहीं लगाई गई थी, लेकिन उसके बाद इस खंभे में इस मन्नत पूरी करने वाली प्रथा के कारण डैमेज होने लगा। ऐसे में उसे फेंसिंग के जरिए बंद कर दिया गया।  

kirti stambh and qutub complex

इसे जरूर पढ़ें- Gurpurab Special: गोल्डन टेम्पल में लगने वाले लंगर के बारे में जानें अनोखे तथ्य 

Recommended Video

क्या है इससे जुड़े वैज्ञानिक फैक्ट्स? 

अभी तक हमने ऐतिहासिक फैक्ट्स और जादुई मिथकों के बारे में बात की तो चलिए अब कुछ साइंटिफिक फैक्ट्स की भी बात कर लेते हैं।  

पुराने जमाने में लोहे की चीज़ें जब बनाई जाती थीं तब उसमें फॉस्फोरस और चारकोल का मिश्रण भी मिक्स किया जाता था। ये मैग्नीशियम और सल्फर के कंटेंट के साथ ही रहता था और यही कारण है कि लोहे में जंग नहीं लगती थी। दिल्ली के मौसम की बात करें तो दिल्ली का मौसम 70% ह्यूमिडिटी रहित है और यहां पर हवा में नमी कम है। क्योंकि लोहे में हीट अच्छी तरह से एब्जॉर्ब हो जाती है इसलिए जब रात में तापमान गिरता है तब भी ये गर्म रहता है। दिल्ली का मौसम, लोहे की बनावट और मौजूदा हालात इसे जंग लगने से बचाते हैं।  

ये स्तंभ कारीगरी, इतिहास और मान्यताओं का अनूठा नमूना है जिसे आप देख सकते हैं। कुतुब मीनार को देखने जब भी जाएं तब इसे ना भूलें।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।