Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    जयपुर की शान हवा महल, इसके बारे में वो 8 तथ्य जो शायद आप नहीं जानते होंगे

    हवा महल से कुछ ऐसे दिलचस्प तथ्य जुड़े हुए हैं, जिनके बारे में जान कर आप भी ताज्जुब में पड़ जाएंगे, तो चलिए आपको बताते हैं ऐसे ही कुछ अनोखे तथ्य।
    author-profile
    Published -06 Mar 2020, 18:19 ISTUpdated -12 Mar 2020, 10:08 IST
    Next
    Article
    interesting facts hawa mahal

    राजस्थान को कई राजाओं और रजवाड़ों की ऐतिहासिक भूमि के नाम से जाना जाता है। राजस्थान में कई ऐसी इमारतें, महल और किले हैं जो सदियों से आज भी वैसे के वैसे खड़े हैं। इन महलों की चर्चा पूरी दुनिया में की जाती है। इन ऐतिहासिक धरोहरों की अपनी अलग पहचान है। राजस्थान की राजधानी जयपुर में मौजूद हवा महल एक ऐसी ही प्राचीन और ऐतिहासिक इमारत है, जो अपनी अद्भुत खूबसूरती और संरचना के लिए जाना जाता है। इस प्रसिद्ध इमारत की ऐसी कई कहानियां हैं, जिससे शायद आप अंजान होंगे। आज इस लेख में आपको हवा महल के उन्हीं ऐतिहासिक पहलुओं से रूबरू कराने जा रहे हैं। तो चलिए जानते हैं ऐसे 8 रोचक तथ्यों के बारे में-

    1- क्या आपको मालूम है कि हवा महल को सर के ताज के आकर में बनाया है, और इसके पीछे एक कहानी है। नहीं जानते ना! तो चलिए जानते हैं। हवा महल को हमेशा भगवन श्री कृष्णा से जोड़ कर देखा जाता है। कहा जाता है कि इस इमारत को बनवाने वाले राजा सवाई प्रताप सिंह श्री कृष्णा भगवन के प्रति बहुत ही भक्ति और श्रद्धा रखते थे, जिसकी वजह से उन्होंने हवा महल को श्री कृष्णा के ताज के समान बनवाया।

    इसे भी पढ़ें: बच्चों के साथ घूमने की कर रही हैं तैयारी, तो दिल्ली के इन 5 म्यूजियम में जरूर जाएं

    2- क्या आपको मालूम है कि इस महल में कितनी खिड़कियां है। अगर नहीं जानते तो, अब ये जान के लिए इस महल में लगभग 953 खिड़कियां हैं। इतने सारे खिड़की को बनाने का अर्थ था कि इस महल में हमेशा साफ हवा आते रहे और कभी गर्मी का अनुभव नहीं हो।

    interesting facts of hawa mahal in jaipur INSIDE

    3- एक अन्य धारणा यह कि हवा महल को विशेष रूप से राजपूत परिवार के सदस्यों और खास कर महिलाओं के लिए बनवाया गया था। ऐसा कहा जाता है कि जो 953 खिड़कियां बनाई गई थीं उन खिड़कियों से बिना किसी रोक-टोक के शहर के नजारों को महिलाएं देख सकें इसलिए इतनी सारी खिड़कियों को बनवाया गया है।

    Recommended Video

    4- हवा महल का नाम हवा महल ही क्यों रखा गया इसका भी एक बड़ा रोचक तथ्य है। इतिहास में ऐसा उल्लेख है कि हवा महल का नाम यहां की 5वीं मंजिल के नाम पर रखा है, क्योंकि 5वीं मंजिल को हवा मंदिर के नाम से जाना जाता था, इसीलिए इसका नाम हवा महल पड़ा। महाराष्ट्र जाएं तो अमरावती के इन डेस्टिनेशन्स को विजिट करना न भूलें

    interesting facts of hawa mahal in jaipur INSIDE

    5- अभी तक तो आपको मालूम चल ही गया होगा कि हवा महल में 5 मंजिला इमारत है लेकिन, क्या आपको यह मालूम है कि इस इमारत में ऐसी कोई भी सीढ़ी नहीं हैं जिसके सहारे इसकी छत पर जाया जा सके। जी हां, आपने बिल्कुल सही पढ़ा। इस इमारत की सभी मंजिलों पर जाने के लिए ढलान किए हुए रास्ते के सहारे ही जाना होता है।

    6- इस इमारत को ऐसे कई नामों से जाना जाता है जिसके बारे में आपको शायद ही मालूम हो। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हवा महल को अधिकतर 'पैलेस ऑफ विंड्स' के नाम से भी जाना जाता है।

    interesting facts of hawa mahal in jaipur INSIDE

    इसे भी पढ़ें: रंग-बिरंगी तितलियों को देखना है तो इन 4 बटरफ्लाई Parks में पहुंचें


    7- एक ऐसा भी रोचक तथ्य है कि ये देश में कुछ उन महलों और इमारतों में से एक है जिन्हें हिंदू राजा ने मुगल और राजपुताना वास्तुकला शैली के इस्तेमाल से बनवाया है। इसलिए ये कला का अनूठा नमूना है।

    interesting facts of hawa mahal in jaipur INSIDE

    8- सवाई प्रताप सिंह द्वारा सन् 1799 में बनवाए गए इस महल की वर्ष 2005 में यानी लगभग 50 साल के बाद मरम्मत करवायी गई थी। जिसमें लगभग 45,679 लाख रुपये खर्च हुए थे। हालांकि, ये आंकड़ा राजस्थान के किसी अधिकारी से नहीं बल्कि एक लेख से लिया गया है, जो कम और अधिक भी हो सकता है।

    Image Credit:(@avatars.mds,cuttingchai,vistapointe)

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।