'ब्रेक! यार, पॉपकॉर्न लाते हैं और फिल्म के आगे की कहानी पॉपकॉर्न खाते हुए देखते हैं। हां, ये मस्त रहेगा'। शायद कभी न कभी इस पल का मज़ा आपने भी फिल्म देखने के दौरान ज़रूर लिया होगा। खैर, पॉपकॉर्न सिर्फ सिनेमाघरों में ही नहीं बल्कि घर पर भी फिल्म देखते या किसी अन्य चीज को देखते हुए खाने में जो मज़ा है वो मज़ा किसी और चीज को खाने में नहीं है। लेकिन, अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि जिस पॉपकॉर्न को आप इतने मज़े के साथ खा रहे हैं, क्या उसके इतिहास के बारे में आपको मालूम है? शायद आपके पास इसका जवाब नहीं हो लेकिन, इस लेख में आप इसके इतिहास को अच्छे से जान जाएंगे। जी हां, इस लेख में हम आपको पॉपकॉर्न के इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं, तो आइए जानते हैं। 

पॉपकॉर्न खाने की शुरुआत 

interesting facts and history about popcorn inside

यूं तो पॉपकॉर्न को पूरी दुनिया में बेहद ही प्रेम के साथ स्नैक के रूप में पसंद किया जाता है लेकिन, जब बात पॉपकॉर्न खाने की सबसे प्राचीन इतिहास पर नज़र डालते हैं, तो यह प्रतीत होता है कि सबसे पहले इसे अमेरिकी महाद्वीपों में खाने की शुरुआत हुई थी। इसके पीछे तर्क ये दिया जाता है कि सबसे पहले दक्षिणी अमरीका में रहने वाले रेड इंडियन के लोगों के आसपास इसके दाने मिले थे, जिसके बाद अमेरिका और यूरोप के लोग भी पसंद करने लगे।

इसे भी पढ़ें: Kitchen Tips: मिलावटी चीनी का इस्तेमाल तो नहीं कर रही आप, ऐसे करें पहचान

चार हज़ार से भी अधिक प्राचीन 

facts and history about popcorn inside

जी हां, पॉपकॉर्न को लेकर कई जगह ये बोला जाता है कि इसका इतिहास लगभग चार हज़ार से भी अधिक प्राचीन है। कहा जाता है कि पॉपकॉर्न की खोज लगभग चार हज़ार साल पहले न्यू मैक्सिको में हुई थी, लेकिन उस मसय लोगों को यह मालूम नहीं था कि इसे खाया भी जाता है। लेकिन, धीरे-धीरे इसे खाने में इस्तेमाल किया जाने लगा। कई लोगों का यह भी कहना है कि उस समय पॉपकॉर्न से सिर और गले के लिए आभूषण भी बनाए जाते थे। (पॉपकॉर्न को लंबे समय तक स्टोर करने के टिप्स)

Recommended Video

पॉपकॉर्न भूनने वाली मशीन 

know interesting facts and history about popcorn inside

आज दुनिया भर में पॉपकॉर्न को अलग-अलग तरीकों से भूना जाता है लेकिन, जब बात होती है कि पॉपकॉर्न भूनने वाली पहली मशीन के बारे में तो यह ज्ञात होता है कि इसकी खोज सबसे पहले 1885 के आसपास में हुई थी और इस मशीन को अमेरिका के चार्स् क्रेटर्स ने बनाया था। इस मशीन को सबसे पहले वर्ल्ड फेयर में लोगों के सामने प्रस्तुत किया गया था। उस समय पॉपकॉर्न भूनने के लिए लोग उसी तरह की मशीन का इस्तेमाल करते थे। 

इसे भी पढ़ें: चाय के साथ बिस्कुट ही नहीं, ले सकते हैं ये हेल्दी स्नैक्स भी

आज के समय में पॉपकॉर्न 

history about popcorn inside

90 के दशक में पॉपकॉर्न बनाने और खाने के तरीकों में बहुत बदलाव हुआ और नमक के साथ धीरे-धीरे इसमें बटर, घी आदि चीजों को इस्तेमाल किया जाने लगा। (बर्गर के इतिहास के बारे में जानें) आज पॉपकॉर्न का नशा पूरी दुनिया में सर चढ़ कर बोला रहा है। कई लोग इसे सेहतमंद स्नैक के तौर पर भी पसंद करते हैं। 

यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@freepik)