भोजन को लेकर अधिकतर लोगों की यह धारणा होती है कि वह मात्र पेट भरने के लिए होता है। लेकिन यह इससे कहीं अधिक है। यह शरीर में आवश्यक पोषक तत्वों की पूर्ति करता है। इतना ही नहीं, अलग-अलग संस्कृति में भोजन को लेकर लोगों की अलग-अलग पसंद व सोच होती है। साथ ही खाने को लेकर उनकी अपनी मान्यताएं होती है। यह खाने की विविधता ही है कि पंजाब में जहां लोगों को राजमा चावल खाना अच्छा लगता है, वहीं साउथ इंडियन लोग इडली और ढोसे के दीवाने होते हैं।

जिस तरह अलग-अलग प्रांत में लोगों को लेकर खाने की अलग पसंद होती है, ठीक उसी तरह लोग कई तरह के फूड मिथ को सच मानते हैं। हो सकता है कि आपने भी बचपन में सुना हो कि खट्टे फल खाने से आपकी ठंड बढ़ सकती है या फिर बहुत अधिक प्रोटीन किडनी को नुकसान पहुंचा सकता है और केले से वजन बढ़ सकता है। हम सभी बचपन में ऐसे फूड मिथ के बारे में सुनते हैं और उस पर आंख मूंदकर भरोसा करते हैं। हालांकि यह जरूरी है कि आप किसी भी बात पर भरोसा करने से पहले उसकी सच्चाई के बारे में जानें। तो चलिए आज हम  आपको कुछ ऐसे ही फूड मिथ के बारे में बता रहे हैं, जिन पर आपको भरोसा कर देना छोड़ देना चाहिए-

इसे भी पढ़े: क्या आप जानती हैं कि गुजराती थाली में आपको क्या परोसा जाता है?

मसालेदार भोजन से होगा अल्सर

common food myths you should stop believing Inside

आमतौर पर महिलाओं की यह धारणा होती है कि मसालेदार भोजन से अल्सर की समस्या होती है। लेकिन विभिन्न शोधों के अनुसार, पेट के अल्सर के पीछे का असली कारण बैक्टीरिया हेलिओबैक्टीर पाइलोरी होता है। जबकि, मिर्च में कैपसाइसिन नामक एक्टिव कपाउंड पाया जाता है, तो पेट में स्राव को उत्तेजित कर सकता है और पेट के एसिड को कम कर सकता है।

Recommended Video

भूखे रहने से घटेगा वजन

यह तो हम सभी जानते हैं कि खाने और वजन का आपस में गहरा नाता है। इसलिए जब भी वजन कम करने की बात होती है तो लड़कियां अपना एक वक्त का भोजन छोड़ देती हैं या फिर भूखा रहना शुरू कर देती हैं। उन्हें लगता है कि इससे उनका वजन तेजी से घटेगा। हालांकि यह पूरी तरह मिथ है। भूखे रहने से एनर्जी कम हो जाती है और इसलिए शरीर  conservation mode में चला जाता है, जिससे कैलोरी धीरे-धीरे जलती है। ऐसा करने से शुरूआत में आप भले ही अपना वजन कम करें, लेकिन वास्तव में आप muscle mass खो रही हैं, जो बिल्कुल भी ठीक नहीं है।

पपीते से होगा मिसकैरिज

common food myths you should stop believing Inside

यह एक ऐसा फूड मिथ है, जिसे हर विवाहित महिला ने कभी ना कभी सुना है। दरअसल, कच्चे व अधपके पपीते में लेटेक्स नामक एक एंजाइम होता है और  विभिन्न शोधों के अनुसार लेटेक्स गर्भाशय के संकुचन को जन्म दे सकता है, जिससे लेबर पेन जल्दी हो सकता है। लेकिन इसके लिए भी आपको पपीते को काफी मात्रा में खाना होगा। हालांकि, फिर भी एहतियातन गर्भावस्था में पपीता खाने से बचने की सलाह दी जाती है।

इसे भी पढ़े: 8 सब्जियां जो भारत की नहीं हैं, लेकिन हमारे रोज के खाने में होती है शामिल

पोषक तत्वों को नष्ट करेगा माइक्रोवेव

common food myths you should stop believing Inside

ऐसा कहा जाता है कि माइक्रोवेव खाने के पोषक तत्व को नष्ट करता है, इसलिए खाने को माइक्रोवेव में नहीं पकाना चाहिए। हालांकि सच्चाई यह है कि माइक्रोवेविंग को खाना पकाने के अन्य तरीकों की तुलना में कम गर्मी और समय की आवश्यकता होती है। यह खाद्य पदार्थों की पोषण सामग्री को संरक्षित करने का सबसे अच्छा तरीका है। बस आपको एक बात का ध्यान रखना होगा कि आप अपने भोजन को अत्यधिक उच्च तापमान में ना पकाएं।

Image Credit:(@4.bp.blogspot,healthline,freepik)