भारत में हर घर में लोग चाय के दीवाने होते हैं। सुबह की शुरूआत से लेकर मेहमान के आने तक बस हर किसी को चाय पीने का कोई बहाना चाहिए। आपको भी यकीनन चाय की चुस्कियां लेना जरूर पसंद होगा, लेकिन आपने कितनी तरह की चाय पी है, शायद अदरक वाली चाय, ग्रीन टी या ब्लैक टी। इस तरह अगर देखा जाए तो सिर्फ चाय की दो या तीन तरह की ही किस्में। क्या आप जानती हैं कि चाय की एक, दो, तीन या पांच नहीं, बल्कि पूरे विश्व में 3000 से भी अधिक वैरायटी है और यह सबसे ज्यादा पिया जाने वाला पेय पदार्थ है। इस तरह आप चाहे चाय की कितनी भी दीवानी हों, लेकिन आज भी आप इसके बहुत से टेस्ट से अनजान हैं। वैसे चाय सिर्फ स्वाद के लिए ही नहीं होती, बल्कि ऐसी बहुत सी चाय होती हैं जो सेहत के लिए भी बेहद लाभकारी मानी जाती है। जैसे अक्सर महिलाएं वजन कम करने के लिए ग्रीन टी का सेवन करती हैं। यूं तो आपके लिए हर वैरायटी को टेस्ट कर पाना संभव नहीं है, लेकिन फिर भी आज हम आपको चाय की कुछ अलग-अलग वैरायटीज के बारे में बता रहे हैं, जिनका स्वाद आपको एक बार जरूर चखना चाहिए-

इसे भी पढ़ें: ये 2 फूल जिसकी चाय चेहरे की सुंदरता और सेहद दोनों का रखती हैं ख्याल

ब्लैक टी

ब्लैक टी को बनाते समय दूध या चीनी का इस्तेमाल नहीं किया जाता। अमूमन इस तरह की चाय का सेवन वेस्टर्न कल्चर में अधिक किया जाता है। इसका स्वाद बेहद स्ट्रांग होता है और इसमें कैफीन की मात्रा भी अधिक होती है। असम चाय, दार्जिलिंग चाय, सीलोन चाय और केन्याई चाय ब्लैक टी के कुछ प्रकार हैं। इसमें एंटीऑक्सिडेंट में काफी मात्रा में पाए जाते हैं। यह आपके हार्ट को हेल्दी बनाता है। कोलेस्ट्रॉल और आंत के स्वास्थ्य को बनाए रखता है। यह रक्तचाप, रक्त शर्करा, स्ट्रोक और कैंसर के जोखिम को भी कम करता है। आप इसे सुबह या दोपहर कभी भी ले सकती हैं, लेकिन रात में लेने से बचें क्योंकि इससे आपको नींद आने में समस्या हो सकती है।

पेपरमेंट टी

different types of tea you must try isnide

यह चाय पुदीने की पत्तियों की मदद से तैयार की जाती है और इसलिए इसकी महक और टेस्ट एकदम अलग होता है। इस चाय को तैयार करने के लिए पुदीने की पत्तियों को पानी में उबाला जाता है। कुछ लोग इस चाय में शहद भी मिलाते है। पुदीने की चाय पाचनक्रिया को बेहतर बनाने में मददगार होती है।

गुलाब की चाय

different types of tea you must try isnide

गुलाब की चाय बनाने के लिए ताजा गुलाब की पत्तियों को पानी में उबाला जाता है। इसके बाद पानी को छानकर उसमें शहद मिलाकर उसका सेवन करें। इस चाय का स्वाद भी लाजवाब होता है और यह सेहत के लिए भी काफी अच्छी मानी जाती है।

ओलोंग टी

different types of tea you must try inside

ओलोंग टी का स्वाद न तो काली चाय जितना मजबूत है और ना ही यह हरी चाय की तरह हल्का है। ओलोंग चाय की सुगंध और स्वाद की तुलना अक्सर ताजे फूलों या ताजे फलों से की जाती है। हालांकि यह सेहत के लिए काफी अच्छी मानी गई है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट के साथ-साथ कैल्शियम, मैग्नीज, पोटेशियम, कॉपर और सेलेसियम आदि भी पाए जाते हैं। यह चाय चर्बी जलाती है और कोलेस्ट्रोल और शरीर में घुली हुई चर्बी को कम करती है। साथ ही यह हार्ट प्रॉब्लम्स और कोलेस्ट्रॉल पर काबू कर रखती है। इसके सेवन से आपकी हड्डियों व दांत लंबे समय तक स्वस्थ रहते हैं।

इसे भी पढ़ें: थकान और डिप्रेशन से परेशान हैं तो ये खास चाय ट्राई करें

नून चाय

different types of tea you must try inside

नून चाय भारत के उत्तरी क्षेत्रों में खासतौर से जम्मू और कश्मीर में पी जाने वाले एक पारम्परिक चाय है। इसके अलावा ये राजस्थान और नेपाल के भी कई जगहों पर मिलती है इस चाय की एक विशेषता यह है कि इसमें शक्कर के स्थान पर नमक डाला जाता है और दूध डालने पर इसका रंग गाढ़ा होने की बजाय हल्का गुलाबी हो जाता है।