मानसिक तनाव हमारे जीवन को अस्त-व्यस्त करने की ताकत रखता है। कई लोगों को इस तनाव से इतनी समस्या होने लगती है कि उनकी दिनचर्या पर भी असर होने लगता है। मानसिक तनाव को अक्सर बहुत छोटी चीज़ समझा जाता है और इसे लेकर लोगों के मन में कई भ्रांतियां हैं। कई रिसर्च इस बात की पुष्टी कर चुकी हैं कि मानसिक तनाव के परिणाम बहुत बुरे साबित हो सकते हैं।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने भी अपनी कई रिपोर्ट में मानसिक तनाव से जुड़ी बातों के बारे में बताया है। अक्सर लोगों को लगता है कि अगर कोई स्ट्रेस में या डिप्रेशन में है तो उसके शरीर पर इसका कोई असर नहीं होगा, लेकिन ऐसा नहीं है। स्ट्रेस का असर फिजिकल भी होता है और लोगों को इससे काफी समस्या हो सकती है। WHO ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए ये बताया है कि आखिर स्ट्रेस के क्या असर हो सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें- अगर ऑफिस के तनाव से चेहरा हो गया है डल तो ये तरीके आजमाएं

1. सिरदर्द-

अगर आप लगातार तनाव में हैं तो हो सकता है कि आपको सिरदर्द की समस्या परेशान करे। नॉर्मल पीरियॉडिक सिरदर्द से लेकर माइग्रेन तक कुछ भी तनाव के कारण हो सकता है।

2. गर्दन और कंधे का दर्द-

अगर हमारा दिमाग स्थिर नहीं है तो शरीर पर इसका उल्टा असर पड़ेगा। गर्दन और कंधे का दर्द भी इस कारण हो सकता है। कई बार हम लंबे समय तक एक ही पोजीशन में बैठे रहते हैं, कई बार पुरानी चोट इसपर असर डालती है या फिर सिर्फ तनाव भी इसका कारण बन सकता है।

3.  बैक पेन-

जिस तरह सिरदर्द और गर्दन और कंधे का दर्द तनाव के कारण उभर सकता है उसी तरह बैक पेन भी एक बड़ी समस्या बन सकता है।

4. मांसपेशियों में ऐंठन-

कई बार बिना किसी ठोस कारण के मांसपेशियों में ऐंठन महसूस होने लगती है। इसका एक कारण स्ट्रेस भी हो सकता है।

5. पेट खराब होना-

मानसिक तनाव के कारण शरीर में कई हार्मोन्स भी ऊपर नीचे हो सकते हैं जिनके कारण शरीर के कई सिस्टम सही से काम नहीं करते। ऐसे में पेट खराब होने की समस्या भी हो सकती है।

6. भूख न लगना-

अगर आप परेशान होती हैं तो इसका सबसे पहले असर भूख पर पड़ता है। अगर आपको बहुत ज्यादा स्ट्रेस हो रहा है तो यकीनन भूख नहीं लगेगी।

7. सीने में भारीपन लगना-

कोई इस लक्षण को सांस लेने में परेशानी से समझता है, कोई इसे सीने की जकड़न समझता है, लेकिन अगर आप मानसिक तनाव में हैं तो ऐसा हो सकता है कि आपको सीने में भारीपन लगे।

इसे जरूर पढ़ें- जीवन में बढ़ता तनाव और आपकी तबाह होती जिंदगी को अब बनाइये खुशनुमा

8. गला रूंधना-

बार-बार रोना आना, गला भारी लगना, ऐसा लगना कि गले में कुछ फंसा हुआ है, सांस लेने में तकलीफ होना आदि लक्षण भी स्ट्रेस के हैं।

Recommended Video

क्या होता है अगर लंबे समय तक रहें तनाव में?

देखिए कभी-कभी स्ट्रेस होगा ही अगर कुछ खास बातों से आप परेशान हैं और ये अक्सर नहीं होता तो ठीक है, लेकिन अगर मानसिक तनाव लगातार बना हुआ है और इतना बढ़ गया है कि आप हर चीज़ में ओवरथिंक करने लगी हैं तो ये बहुत गलत साबित हो सकता है। क्रॉनिक स्ट्रेस से कई गंभीर स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं हो सकती हैं।

1. मानसिक समस्याएं जैसे डिप्रेशन, एंग्जाइटी, पर्सनालिटी डिसऑर्डर और कुछ गंभीर मामलों में स्कित्जोफ्रेनिया जैसी गंभीर समस्या।
2. दिल से जुड़ी बीमारियां जैसे हाई बीपी, पल्स रेट का बढ़ना या घटना, हार्ट अटैक, स्ट्रोक आदि।
3. वजन बढ़ना और खाने-पीने से जुड़ी समस्याएं होना।
4. मेंस्ट्रुअल समस्याएं, कुछ गंभीर मामलों में पीरियड्स का मिस होना या कोई अन्य गायनी समस्या होना।
5. सेक्शुअल समस्याएं।
6. स्किन और बालों से जुड़ी समस्याएं होना, बालों का बहुत ज्यादा झड़ना, एक्जिमा, एक्ने आदि।
7. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं जैसे गेस्ट्राइटिस आदि।



स्ट्रेस बहुत बड़ी समस्या होती है जिसे हल्के में लेने से अक्सर शरीर पर बहुत असर पड़ता है। इसे कम करने के लिए आप 2 मिनट की ग्राउंडिंग एक्सरसाइज कर सकती हैं।

WHO ने अपनी वेबसाइट में कुछ तरीकों के बारे में बताया है जिनसे इस तरह की समस्या को काबू में किया जा सकता है जैसे-

1. इसको लेकर जागरुकता पैदा करना
2. ग्राउंडिंग एक्सरसाइज करना: इस एक्सरसाइज के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें
3. समस्या का पता लगाना और उसे खुलकर स्वीकार करना।
4. निगेटिव चीज़ों से दूर रहना।
5. बदलाव को स्वीकारना।
6. खुद के साथ अच्छा व्यवहार करना।

अगर आपको भी मानसिक तनाव है तो अकेले इससे परेशान न हों। अपनी समस्या लोगों के साथ साझा करें और जरूरत पड़ने पर चिकित्सकीय सलाह भी लें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।