लोग अपने दांतों को सही आकार  देने के लिए, बाहर निकले हुए दांतों को भीतर करने के लिए और दांतों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए दांतों में ब्रेसेस यानी तार लगवाते हैं। डेंटिस्ट के सुझाए इस नुस्खे से दांत बहुत जल्दी सही आकार में आ जाते हैं। लेकिन ब्रेसेस के तार और ब्रैकेट ब्रशिंग और फ्लॉसिंग को थोड़ा मुश्किल बना देते हैं क्योंकि वे इतने नाजुक होते हैं कि उनकी सही देखभाल न करने से वो टूटने लगते हैं या या ढीले ब्रैकेट सहित सामान्य समस्याओं  को जन्म दे सकते हैं। ऐसा आमतौर पर कठोर या चिपचिपे खाद्य पदार्थों को चबाने के कारण भी होता है।

कई बार आपकी  नाखून चबाने और पेंसिल या पेन चबाने की आदत से भी ब्रेसेस को काफी नुकसान हो सकता है। अपने ऑर्थोडोंटिक उपचार से सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, ब्रेसेस पहनते समय आपको यहां बताई गयी बातों को ध्यान में रखना जरूरी है। आइए स्माइल केयर डेंटल यूनिट,कोलकाता के डॉक्टर विवेक तिवारी B.D.S (cal) से जानें कि ब्रेसेस पहनते समय किन बातों का ध्यान रखें जिससे दांतों को कोई नुकसान न पहुंचे। 

नियमित रूप से और सावधानी से ब्रश करें

brush properly

ब्रेसेस पहनने के लिए नियमित रूप से ब्रश करने की सख्त दिनचर्या की आवश्यकता होती है। आपके दांतों और ब्रेसेस में जितने अधिक समय तक बैक्टीरिया फंसे रहेंगे, दांतों की सड़न, धुंधलापन और मसूड़ों में संक्रमण जैसी समस्याओं का खतरा उतना ही अधिक होगा। यदि आप ब्रेसेस पहनते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप अपने मुंह को पानी से धोएं और हर बार भोजन के बाद अपने दांतों को अच्छी तरह से ब्रश करें, ताकि आपके ब्रेसेस  में और उसके आस-पास फंसे किसी भी खाद्य कण को ढीला करके बाहर निकाला जा सके। ब्रेसिज़ पहनते समय ब्रश करते समय, गम लाइन पर और ब्रैकेट के ऊपर और नीचे प्रत्येक दांत  को साफ करने के लिए फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट और एक नरम-ब्रिसल वाले ब्रश का उपयोग करें। ब्रश के सिर को ब्रैकेट के ऊपर रखें और प्रत्येक के ऊपरी हिस्से को साफ करने के लिए इसे नीचे की ओर घुमाते हुए साफ करें। इसके अलावा दांतों की सफाई के लिए फ्लोराइड युक्त एंटीसेप्टिक या जीवाणुरोधी माउथवॉश से कुल्ला करें। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: जानें क्या है दांतों में होने वाली बीमारी पेरियोडोंटाइटिस, लक्षण और इससे बचाव के उपाय

सही ढंग से फ्लॉस करें

floss properly brases

ब्रेसेस आपके  ब्रश करने को कठिन बना सकते हैं, इसलिए फ्लॉस करना और भी महत्वपूर्ण हो सकता है। ब्रेसेस पहनते समय फ़्लॉसिंग की उचित तकनीक कैविटी, मसूड़ों की सूजन और साथ ही सांसों की दुर्गंध जैसी समस्याओं को रोकने में मदद करेगी। सुनिश्चित करें कि दिन में कम से कम एक बार दांतों में फ्लॉस करें और नीचे और ब्रैकेट के बीच में जाकर फ्लॉस करें। फ्लॉसिंग में जल्दबाजी न करें क्योंकि इसमें ब्रेसेस के साथ तीन गुना अधिक समय लग सकता है और सोने से ठीक पहले फ्लॉस करने के लिए किसी भी खाद्य मलबे को हटाने और प्लाक के निर्माण को रोकने में मदद मिलेगी। (मेटल के ब्रेसेस लगे हैं तो इन बातों का रखें ख्याल)

समय-समय पर डेंटिस्ट के पास जाएं 

dental braces

यदि आप ब्रेसेस पहनती हैं तो आपको समय -समय पर डेंटिस्ट के पास जाना जरूरी है। डेंटिस्ट समय-समय पर आपके दांतों की सही जांच करता है और आपके ब्रेसेस की भी ठीक से देखभाल करता है। ब्रेसेस ट्रीटमेंट आपके ऑर्थोडॉन्टिस्ट के द्वारा प्रदान किया जाने वाला ट्रीटमेंट है। इसलिए इसकी समय -समय पर जांच करवानी जरूरी है। यदि डेंटिस्ट आपको किसी भी तरह के दिशा निर्देश देता है तो समय-समय पर उन्हें फॉलो करना और उसके निर्देशों का पालन करने से आपके दांत और ब्रेसेस दोनों ही सुरक्षित रह सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: इन आसान घरेलू नुस्खों से बढ़ाएं दांतों की मजबूती और पाएं स्वस्थ मसूढ़े

Recommended Video


नियमित रूप से सफाई करवाएं

ब्रैकेट, तार और बैंड आपके दांतों पर जमा प्लाक, स्टेन और टार्टर को हटाना लगभग असंभव बना देते हैं। किसी प्रोफेशनल की मदद के बिना यह बिल्डअप न केवल मसूड़े की सूजन का कारण बन सकता है बल्कि यह दांतों में प्लाक को भी जमा कर सकता है। मुंह और दांतों की समस्याओं को रोकने के लिए हर 3 महीने में अपने डेंटिस्ट के साथ दांतों की सफाई के लिए अपॉइंटमेंट लेना जरूरी है। बड़े ही नहीं ब्रेसेस वाले बच्चों की भी दांतों की सफाई नियमित रूप से करनी जरूरी है। 

अगर आप दांतों में ब्रेसेस पहनती हैं तो आपको यहां बताई बातों को फॉलो करते हुए समय-समय पर डेंटिस्ट की सलाह लेनी चाहिए जिससे दांतों को कोई नुकसान न पहुंचे। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik