प्रोटीन हमारी बॉडी के लिए बहुत जरूरी होता है। यह कोशिकाओं के निर्माण में अहम भूमिका निभाता है। बच्‍चे, बूढ़े, जवान यहां तक कि प्रेग्‍नेंट महिलाओं के लिए भी प्रोटीन बहुत जरूरी होता है। प्रोटीन के बिना कोई भी अपने रोजमर्रा के काम पूरे नहीं कर सकता। प्रोटीन की भूमिका बॉडी की टूट-फूट की मरम्‍मत करना होता है। यह शरीर में कोशिकाओं बनाने में मदद करता है साथ ही टूटे हुए तन्तुओं का पुनर्निर्माण होता है। यह पाचक रसों का निर्माण करता है। इसलिए प्रोटीन भोजन का अहम हिस्‍सा है।

एक रिसर्च से पता चला है कि खाने में प्रोटीन की मात्रा बढ़ाने से प्रौढ़ व्यक्तियों में अक्षमता के खतरे को कम किया जा सकता है, जो उन्हें दैनिक क्रियाकलापों व घरेलू गतिविधियों जैसे खुद से खाना, नहाना, कपड़े पहनना और सोशल एक्टिविटी में हिस्सा लेने से रोकता है।

Read more: अंडा नहीं खाते हैं तो प्रोटीन के लिए इन चीजों को खाएं

क्‍या कहती है रिसर्च

ब्रिटेन के न्यूकैस्टल यूनिवर्सिटी के प्रमुख अध्ययनकर्ता नुनो मेंडोनका ने कहा, "हमारी खोज उस मौजूदा सोच का समर्थन करती है, जिसमें प्रतिदिन प्रोटीन लेने से हम एक्टिव रहते हैं और हेल्‍दी तरीके से बूढ़े होते हैं।"

protein diet health card ()

रिसर्च के लिए उत्तर-पूर्व इंग्लैंड के 722 प्रतिभागियों पर रिसर्च किया गया, जिसमें 60 प्रतिशत महिलाएं थीं। यह रिसर्च अमेरिकन जेरीएट्रिक्स सोसायटी की पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। युवाओं की तुलना में कम प्रोटीन लेने वाले प्रौढ़ के खराब हेल्‍थ की वजह से फिजिकल एक्टिविटी में कमी आती है और दांत व चेहरे में परिवर्तन होते हैं।

अध्ययन के नतीजों से पता चला है कि जो ज्यादा प्रोटीन लेते हैं वे कम प्रोटीन लेने वाले लोगों की तुलना में कम अक्षम होते हैं। अध्यनकर्ताओं ने सुझाव दिया है कि प्रौढ़ व्यक्तियों को बॉडी वेट के प्रत्येक 2.2 पाउंड के लिए 1 से 1.2 ग्राम प्रोटीन का सेवन करना चाहिए।


Read more: बॉलीवुड हीरोइन्स कौन सा प्रोटीन लेती हैं जो इतनी हेल्दी रहती हैं

प्रोटीन के स्रोत

दूध, दही, अंडे की सफेदी, पनीर, मांस, मछली, इडली-डोसा, दाल, चावल, सोयाबीन, मटर, चना, मूंगफली, अंकुरित पदार्थों में प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है। अपने आहार में प्रोटीन की संतुलित मात्रा जरूर शामिल करें। इसके बिना आपको जरूरी पोषण नहीं मिल सकता। प्रोटीन की कमी से आपको कई बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है।