Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    रावण, नंदी या भगवान विष्णु, किसे माना जाता है महादेव का सबसे प्रिय भक्त?

    शिव के परम भक्तों के बारे में अलग-अलग बातें प्रचलित हैं। आइए जानें कौन था सबसे बड़ा शिव भक्त। 
    author-profile
    Updated at - 2023-01-17,07:00 IST
    Next
    Article
    who was lord shiva devotee

    शिव के कई भक्तों के बारे में आपने जरूर सुना होगा। कभी लोग रावण को उनका सबसे बड़ा भक्त बताते हैं, तो कभी नंदी को उनके परम भक्तों की श्रेणी में गिना जाता है। ऐसे न जाने कितने भक्त हैं जो शिव की महिमा का बखान करते हुए नहीं थकते थे और उनकी भक्ति पर्रे ब्रह्माण्ड में प्रचलित थी।

    लोग आज भी इस प्रश्न का जवाब ढूढ़ते हैं कि आखिर महादेव के परम भक्तों में से कौन सबसे ज्यादा प्रसिद्द है। महादेव के भक्तों की श्रेणी में रावण, नंदी या भगवान विष्णु का नाम सबसे प्रमुख आता है। आइए जानें शिव के परम भक्त से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में। 

    भगवान शिव ने किसे बताया है अपना भक्त 

    devotee of shiva

    यदि हम पुराणों की बात करें तो भगवान शिव के परम भक्तों में से रावण को सबसे बड़े भक्त का दर्जा दिया गया है। ऐसा भी माना जाता है कि भगवान शिव ने स्वयं ही रावण को अपने सबसे बड़े भक्तों में से एक बताया है।

    महादेव क्रोध करने के लिए जाने जाते हैं तो शीघ्र प्रसन्न होने वाले भी हैं। भक्त भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए पवित्र जल और बेल पत्र से उनका अभिषेक करते हैं। रावण को शिव का परम भक्त इसलिए ही बताया जाता है क्योंकि उन्होंने शिव को पाने के लिए ऐसी तपस्या की थी जो कभी किसी ने नहीं की।

    रावण को व्यापक रूप से एक दुष्ट चरित्र के रूप में चित्रित किया जाता है, हालांकि उसके पास कई गुण भी हैं जो उसे एक विद्वान बनाते हैं। रावण को शिव का सबसे सम्मानित भक्त माना जाता है और आज भी और आज भी कुछ मंदिरों में रावण के चित्र शिव से जुड़े हुए देखे जाते हैं। 

    इसे जरूर पढ़ें: कौन थी रावण की बेटी जो करना चाहती थी हनुमान से विवाह

    रावण ने रचा था शिव तांडव स्रोत 

    रावण ने शिव भक्ति में शिव तांडव स्रोतका निर्माण किया था और यह स्रोत आज भी शिव की भक्ति में सबसे प्रमुख स्रोतों और श्लोकों में से एक माना जाता है। इस स्त्रोत को शिव के भक्त बड़ी ही श्रद्धा से वाचन करते हैं। 

    नंदी को क्यों कहा जाता है शिव भक्त 

    nandi was the devotee of shiva

    शिवजी से जुड़ी एक कथा के अनुसार समुद्र मंथन के समय हलाहल विष निकला था। संपूर्ण संसार की रक्षा के लिए शिवजी ने स्वयं इसे पी लिया था। लेकिन विषपान करते समय कुछ बूंदे धरती पर गिर गई थीं, जिसे नंदी ने चाट लिया।

    नंदी का ये प्रेम और समर्पण देख भगवान शिव प्रसन्न हुए और उन्होंने नंदी को अपने सबसे बड़े भक्त की उपाधि दी। इस तरह नंदी भगवान शिव की सवारी के साथ ही उनके सबसे बड़े भक्त भी कहलाने लगे। नंदी को भगवान भोलेनाथ का भक्त होने के साथ उनका वाहन बनने का भी सौभाग्य प्राप्त था। किसी भी शिव मंदिर में मंदिर के बाहर नंदी जी की मूर्ति होती है और ऐसी मान्यता है कि वो भक्तों का सन्देश भगवान शिव तक पहुंचाते हैं। 

    इसे जरूर पढ़ें: Nandi At Home: घर में है शिवलिंग तो नंदी को भी जरूर करें स्थापित, जानें नियम

    भगवान शिव के अन्य महान भक्त कौन हैं 

    lord vishnu devotee of shiva

    भगवान शिव के परम भक्तों में से विष्णु जी भी एक हैं। दरअसल विष्णु और शिव को पुराणों के अनुसार एक दूसरे का भक्त बताया जाता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु जितने शिव जी के भक्त थे उतने ही बड़े भक्त भगवान शिव भी विष्णु के थे।

    दोनों हमेशा एक दूसरे की भक्ति में लीन रहते थे और एक दूसरे की पूजा करते थे। भगवान शिव को महादेव भी कहा जाता है और ऐसी मान्यता है कि वो अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं और विष्णु जी भी भक्तों की मनोकामनाओं को पूरा करते हैं। 

    भगवान शिव के न जाने कितने भक्तों में से सबसे प्रमुख रावण को ही माना जाता है और उनकी भक्ति को लोग आज भी याद करते हैं।

    अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर शेयर और लाइक जरूर करें। इसी तरह और भी आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में जरूर भेजें।

    images: freepik.com

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।