Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Lord Vishnu: भगवान विष्णु को क्यों कहा जाता है नारायण? जानें शास्त्रोक्त कारण

    भगवान विष्णु को नारायण और हरि के नाम से भी जाना जाता है। ऐसे में आइये जानते हैं भगवान विष्णु के इन नामों के पीछे का रहस्य।
    author-profile
    • Gaveshna Sharma
    • Editorial
    Updated at - 2022-11-16,17:05 IST
    Next
    Article
    narayan

    Lord Vishnu: भगवान विष्णु को इस संसार के पालनहार के रूप में पूजा जाता है। भगवान विष्णु की आराधना से व्यक्ति के जीवन में सुख, समृद्धि और शांति स्थापित होती है। माना जाता है कि भगवान विष्णु के पूजन से व्यक्ति को मां लक्ष्मी का आशीर्वाद भी स्वतः ही प्राप्त हो जाता है। भगवान विष्णु के अनेकों भक्त हैं और उनके भक्त उन्हें विभिन्न नामों से पुकारते हैं। 

    कोई उन्हें श्री हरि कहता है तो कोई नारायण। वहीं, कुछ भक्त उन्हें लक्ष्मीपति के नाम से भी संबोधित करते हैं। हमारे एक्सपर्ट ज्योतिषाचार्य डॉ राधाकांत वत्स ने हमें भगवान विष्णु से जुड़े कुछ रोचक तथ्य बताए जो न सिर्फ हैरान कर देने वाले हैं बल्कि उनका एक गूढ़ महत्व भी है। उन्हीं तथ्यों में से एक है भगवान विष्णु को नारायण और हरि नाम से पुकारे जाने का रहस्य जो आज हम आपके साथ साझा करने जा रहे हैं।  

    नारायण नाम का रहस्य 

    lord vishnu names

    पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान विष्णु को उनके सर्वाधिक प्रिय भक्त देवर्षि नारद नारायण कह कर पुकारा करते थे। नारायण का सम्बंध जल से है। वैकुण्ठ धाम में क्षीर सागर (आखिर क्यों हुआ था समुद्र मंथन) के अतल (गहराई) में भगवान विष्णु वास करते हैं।

    इसे जरूर पढ़ें: घर में करती हैं विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र का पाठ तो भूलकर भी न करें ये गलतियां

    जल का पर्यायवाची शब्द नीर है। जिसे संस्कृत भाषा में उपयोग करते समय कुछ विशेष स्थितियों में नर भी कहा जाता है। यानी कि अथाह नर या नीर की गहराई में निवास करने वाले नारायण। तो ऐसे पड़ा था भगवान विष्णु का नारायण नाम।

    हरि नाम का रहस्य 

    bhagwan vishnu names

    भगवान विष्णु (भगवान विष्णु के मंत्र) का एक नाम हरि भी है। हरि का अर्थ होता है हरने वाला और कुछ विशेष स्थितियों में हरि का अर्थ चुराने वाला भी माना जाता है। भगवान विष्णु पालनकर्ता के साथ साथ दुख हरता भी हैं। भगवान विष्णु की पूर्ण श्रद्धा से गई आराधना उन्हें अपने भक्तों के दुख और कष्ट हरने पर विवश कर देती है।

    इसे जरूर पढ़ें: Terrace Vastu: छत के इन वास्तु नियमों का करें पालन, बन जाएंगे दौलतमंद

    इसी कारण से भगवान विष्णु हरि कहलाते हैं। विष्णु पुराण में लिखित पंक्ति 'हरि हरति पापणि' में इस बात का उल्लेख भी मिलता है। इस पंक्ति का अर्थ है जीवन के सारे पापों और विलापों को हरने वाले हरि यानी कि भगवान विष्णु।

    तो ये थे भगवान विष्णु के नारायण और हरि नाम होने के पीछे के तथ्य। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। आपका इस बारे में क्या ख्याल है? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। 

    Image Credit: Freepik, Pixabay, Herzindagi    

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।