आजकल मैक्सिमम चीज़ें ऑनलाइन हो गई हैं और हम अक्सर पैसों के लेन देन से जुड़ी चीज़ें ऑनलाइन ही करते हैं। यूपीआई, मनी ट्रांसफर ऐप, ई-वॉलेट आदि बहुत कुछ हमने अपनी सुविधा के हिसाब से अरेंज करके रखा है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऑनलाइन मनी ट्रांसफर में कितना रिस्क होता है। 1 नंबर या 1 लेटर भी गलत हो जाए तो पता नहीं कितने पैसे किसी और को चले जाते हैं। 

ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करना थोड़ा रिस्की तो होता है ही, लेकिन अगर आप थोड़ी सावधानी रखें तो ये आरामदायक भी हो सकता है। पर अगर आपने गलती से किसी और को पैसे ट्रांसफर कर दिए हैं तो आपको तुरंत ये स्टेप्स फॉलो करने होंगे। 

1. सबसे पहले बैंक को इन्फॉर्म करें-

इसके लिए आप बैंक मैनेजर को सीधे इन्फॉर्म कर सकते हैं या फिर आप कस्टमर केयर को कॉल करके डिटेल्स दें। आपको तीन-चार चीज़ें जरूर बतानी होंगी। 

- किस अकाउंट में ट्रांसफर हुआ है

- कौन सी आईडी से ट्रांसफर हुआ है

- कितने पैसे ट्रांसफर हुए हैं

- किस समय ये पैसे ट्रांसफर हुए हैं और डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड से या फिर किसी ई वॉलेट, यूपीआई आदि से हुआ है वो बताएं।

ये सब कुछ आपने वैसे इन्फॉर्म कर दिया, लेकिन इसके बाद बेहतर ये होगा कि आप एक लिखित शिकायत भी दर्ज करवा दें। 

online money transfer mistake

इसे जरूर पढ़ें- स्मार्टफोन से UPI पेमेंट करते हैं तो कुछ इस तरह सुरक्षित रखें अपने पैसे को 

2. ईमेल या लेटर के जरिए लिखित शिकायत दर्ज करवाएं-

आपको  48 घंटे के अंदर आप एक Email जरूर डाल दें अपने बैंक को जिसमें सारी डिटेल्स मौजूद हों। दरअसल, पैसों की वापसी के लिए बैंक टू बैंक रिक्वेस्ट भेजी जाती है। अगर आपने यूपीआई से ट्रांसफर किया है और सामने वाले इंसान का नंबर आपके पास है तब तो ठीक ही है कि आप उससे सीधे बात कर सकते हैं, अगर नहीं है तो ये प्रोसेस बैंक के जरिए ही होगा। 

बैंक कोई भी पैसा अपने आप डेबिट नहीं कर सकता है जब तक अकाउंट होल्डर न चाहे और बैंक अकाउंट होल्डर की इन्फॉर्मेशन भी शेयर नहीं कर सकता है इसलिए आपको सही तरीके से रिक्वेस्ट करनी होगी।  

इसे जरूर पढ़ें- ऑनलाइन शॉपिंग से कैसे बचाएं पैसे, एक्सपर्ट से जानिए बचत करने के ये सीक्रेट टिप्स  

3. लीगल एक्शन- 

अधिकतर बार ये होता है कि बैंक अगर रिक्वेस्ट करता है तो वो अकाउंट होल्डर जिसके अकाउंट में गलती से पैसे गए हैं वो पैसे वापस कर देता है, लेकिन अगर वो ऐसा नहीं करता है तो उस अकाउंट होल्डर के खिलाफ लीगल एक्शन भी लिया जा सकता है। इसके लिए आपको कुछ चीज़ों का ध्यान रखना होगा-  

- सबसे पहले अपनी कंडीशन अपने बैंक को ठीक तरह से बताएं। 

- अपनी शिकायत का ट्रैक रखें अगर ई-मेल पर कोई रिस्पॉन्स नहीं आया है तो दोबारा मेल करें। 

- आपके पास सारी डिटेल्स होनी चाहिए जो आपके केस को सपोर्ट कर सकें। 

- लीगल एक्शन लेना काफी मुश्किल हो सकता है और काफी फॉर्मेलिटीज करनी होंगी और साथ ही साथ पैसे वापसी की कोई गारंटी भी नहीं है, लेकिन आप कोशिश कर सकते हैं।  

money transfer and fraud

ऑनलाइन पैसे भेजते समय रखें ध्यान-

 1. अकाउंट नंबर या यूपीआई आईडी को बहुत अच्छे से चेक कर लें। गलती करने से बेहतर है दो बार चेक कर लिया जाए। 

2. पहले थोड़ा अमाउंट ट्रांसफर करने की कोशिश करें और अगर सही इंसान को ये पैसे जा रहे हैं तो उसी को भेजें। 

3. अपने यूपीआई डिटेल्स, डेबिट कार्ड नंबर, एक्सपायरी डेट आदि किसी के साथ शेयर न करें। 

4. मोबाइल में मेल पर आए किसी भी लिंक को कतई क्लिक न करें।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।