बच्चे को रात में बुरे सपने आना एक आम समस्या है। हालांकि यह पूरी तरह से क्लीयर नहीं है कि रात में बच्चे को बुरे सपने क्यों आते हैं। आमतौर पर माना जाता है कि डरावने सपने या बुरे सपने अक्सर दिन के तनाव या चिंता के कारण भी हो सकते हैं। इसके अलावा अन्य भी कई कारक होते हैं, जो डरावने सपनों का कारण बन सकते हैं। वजह चाहे जो भी हो, लेकिन रात में बुरे सपने आने से बच्चा काफी डिस्टर्ब हो सकता है। इससे उसकी नींद तो प्रभावित होती है ही, साथ ही साथ कई बार लगातार आने वाले बुरे सपनों से बच्चे के स्वभाव पर भी विपरीत असर पड़ता है। हो सकता है कि लगातार आने वाले बुरे सपनों के कारण बच्चा परेशान रहने लगे। ऐसे में वक्त आता है कि आप बच्चे की मदद करें। ऐसे कई तरीके हैं, जिन्हें अपनाने के बाद बेहद आसानी से बच्चों को रात में आने वाले बुरे सपनों से छुटकारा दिला सकती हैं। तो चलिए जानते हैं इन तरीकों के बारे में-

अपनाएं यह तरीके

 sleep baby inside

अगर आपके बच्चे को रात में बुरे सपने आते हैं और वह सोते समय डरते हैं तो आप कुछ ऐसी टेक्निक अपनाएं, जिसकी मदद से वह इन सपनों से निजात पा सके। मसलन, डीप ब्रीदिंग से लेकर मसल्स रिलैक्सेशन, अच्छी किताबें पढ़ना, कहानियां सुनाना या फिर अच्छी यादों को सोने से पहले ताजा करने से उन्हें काफी राहत मिलती है। जब आप बच्चा इन चीजों को देखता, पढ़ता व सुनता है तो रात में उसे बुरे सपने नहीं आते।

इसे जरूर पढ़ें: वरुण धवन से लेकर आलिया भट्ट तक, ये सितारे अगले साल लें सकते हैं सात फेरे

करें बात

 sleep baby inside

अगर बच्चे को रात में आने वाले बुरे सपनों से निजात दिलानी है तो जरूरी है कि आप उसके कारणों को जानकर उसे ही दूर करें। अमूमन बच्चों में बुरे सपनों के पीछे मुख्य कारण उनके दिन का स्ट्रेस होता है, जिसके कारण वे रात में भी डिस्टर्ब रहते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि आप उनसे बात करें और यह जानने का प्रयास करें कि वह किसी बात से परेशान तो नहीं है। अगर ऐसा है तो बेहद प्यार से उनके मन की दुविधा को दूर करें। जब वे दिन के समय रिलैक्स होंगे तो रात में भी अच्छी नींद आएगी। 

इसे जरूर पढ़ें: 2020 में क्रिसमस को बनाएं और भी ज्यादा क्रिएटिव, इन 5 तरीकों से डेकोरेट करें अपना क्रिसमस ट्री

दें रात का साथी

 sleep baby inside

कई बार बच्चे जब अकेले सोते हैं तो वे डर जाते हैं और फिर धीरे-धीरे अकेले रहने के कारण उन्हें रात में बुरे सपने आना शुरू हो जाता है। इसलिए इस स्थिति से निपटने के लिए आप उन्हें एक साथी दे सकती हैं। मसलन, या तो आप स्वयं कुछ दिनों तक बच्चे के साथ सोने की कोशिश करें। अगर ऐसा कर पाना संभव नहीं है तो ऐसे में आप उन्हें उनका कोई फेवरेट कार्टून का स्टफ टॉय दे सकती हैं। इससे बच्चा अकेला होने पर घबराएगा नहीं।

Recommended Video

जोड़े नींद से रिश्ता

 sleep baby inside

चूंकि बुरे सपने बच्चों को नींद से डरने का कारण बन सकते हैं, इसलिए यह जरूरी है कि आप उसके लिए सोने के समय को अधिक सुखद बनाएं। डरावनी फिल्में देखने या रात में किसी भी रहस्य की किताबों को पढ़ने से बचें और इसके बजाय सोने के समय को अधिक मज़ेदार बनाने के लिए कुछ तरीके अपनाएँ। मसलन, आप उनके साथ कुछ गेम खेल सकती हैं या फिर उन्हें ऑडियो बुक या कोई रिलैक्सिंग धुन सुना सकती हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik