हर माता पिता चाहते हैं कि वह अपने बच्चों की इस तरह से परवरिश करें जिससे उन्हें वर्तमान में ही नहीं बल्कि भविष्य में भी किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। इसीलिए पेरेंट्स अपने बच्चों की खातिर मेहनत करते हैं, उनकी केयर करते हैं, उन्हें अच्छे स्कूल में पढ़ाते हैं, उन्हें अच्छी डाइट देते हैं और उन्हें अच्छे व बुरे का फर्क बताते हैं। लेकिन कई बार पेरेंट्स बच्चों की लाइफ में इतना घुस जाते हैं कि बच्चों को घुटन होने लगती है। जबकि कुछ पेरेंट्स अपनी लाइफ में ही इतने बिजी रहते हैं कि उन्हें फर्क ही नहीं पड़ता कि उनके बच्चों की लाइफ में क्या चल रहा है या बच्चों को भी आपकी जरूरत है। पेरेंट्स की ये दोनों ही आदतें बच्चों पर बुरा प्रभाव डालती है। वैसे सिर्फ ये 2 ही नहीं बल्कि पेरेंट्स कई प्रकार के होते हैं। आज इस आर्टिकल में हम आपको पेरेंट्स के कुछ प्रकार बता रहे हैं। आप इनमें से देखें कि आप पेरेंट्स की किस कैटेगरी में आते हैं।

इसे भी पढ़ें: गुस्से से बच्चे पर पड़ता है विपरीत प्रभाव, इस तरह करें अपना गुस्सा कंट्रोल

स्नो प्लाओ पेरेंट

different kind of parents inside four

इस तरह के पेरेंट का पूरा फोकस बच्चों को एक सुरक्षित लाइफ देना होता है। इस तरह के पेरेंट्स चाहते हैं कि वह बचपन से लेकर बुढ़ापे तक बच्चों का पूरा जीवन सेटल कर दें। साथ ही स्नो प्लाओ पेरेंट दूसरों के बच्चों के साथ अपने बच्चों को कम्पेयर भी करते हैं, कहीं उनके बच्चे किसी से पीछे तो नहीं है। ऐसे पेरेंट्स अपने बच्चों की जिंदगी से आसक्त होते हैं।

इंटैंसिव पेरेंट्स

different kind of parents inside three

इस तरह पेरेंट्स बच्चों के साथ बहुत फ्रैंकली बिहेवियर रखने की चाहत रखते हैं। इन्हें बच्चों की स्कूल लाइफ के साथ ही यह जानने की भी इच्छा रहती है कि उनकी पर्सनल लाइफ में क्या चल रहा है या वह क्या सोचते हैं। इस तरह के पेरेंट्स को बच्चों के साथ गेम खेलना और उनके साथ हैंगआउट करना भी बहुत अच्छा लगता है।

इसे भी पढ़ें: अपने सेंसिटिव बच्चे को इन 5 तरीकों से रखें अनुशासित और खुश

हैलिकॉप्टर पेरेंट

different kind of parents inside two

ऐसे पेरेंट्स बच्चों की पूरी लाइफ का होल्ड अपने हाथ में चाहते हैं। ये बच्चों से प्यार तो करते ही हैं लेकिन कहीं न कहीं इन्सिक्योर भी रहते हैं। अगर इनका बच्चा थोड़ी देर के लिए भी आंखों से दूर हो जाता है या फोन नहीं उठाता है तो यह वहीं पहुंच जाते हैं जहां बच्चा होता है। साथ ही ऐसे पेरेंट्स बच्चे की हार-जीत की पूरी जिम्मेदारी खुद पर ले लेते हैं, उस के हर काम में उस के साथ रहते हैं, यहां तक कि उस के स्कूल का काम करना, उस की टीचर से बात करना इत्यादि भी खुद ही करते हैं।

टाइगर पेरेंट

different kind of parents inside one

इस तरह के पेरेंट्स बच्चों के साथ काफी सख्ती भी बरतते हैं और डिमांडिंग भी होते हैं। इनके अंदर अपने बच्चे को हर हाल में जीत दिलवाने का जज्बा होता है। यह चाहते हैं कि इनके बच्चे किसी भी फील्ड में पीछे न रहें। पेरेंट्स ‘टफ लव’ में विश्वास रखते हैं।