बच्चे स्वभाव से शरारती होते हैं, लेकिन कई बार उनकी शरारतें आपको परेशान कर देती हैं। इस स्थिति में अधिकतर मम्मी अपना धैर्य खो देती हैं और बच्चों पर गुस्सा करने लग जाती हैं। उस समय आपके गुस्से के कारण भले ही बच्चे शांत हो जाएं, लेकिन यह एक नकारात्मक पैरेंटिंग है। इससे आप बच्चे तक गलत मैसेज पहुंचाती हैं। धीरे-धीरे बच्चों को लगने लगता है कि गुस्सा करने से अपनी बात मनवाई जा सकती हैं और फिर इसीलिए बच्चे भी यही रवैया अपनाते हैं। अधिकतर घरों में यह देखा जाता है कि बच्चे छोटी-छोटी बात पर चिल्लाने लगते हैं। दरअसल, उन्होंने यह आदत आप से ही सीखी होती है। इसलिए अगर बच्चा कोई गलती भी करता है तो यह बेहद जरूरी है कि आप बच्चों पर चिल्लाने की जगह उन्हें प्यार से समझाएं।

अधिकतर मम्मी की यह शिकायत होती है कि बच्चा प्यार से सुनता ही नहीं या फिर वह अपने गुस्से को कंट्रोल नहीं कर पातीं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपने शुरू से ही यही आदत अपनाई है। अगर आप बच्चे को प्यार से समझाएंगी तो यकीनन वह आपकी बात सुनेगा और रही बात गुस्से को कंट्रोल करने की, तो इस लेख में हम आपको ऐसे कुछ आसान उपायों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप खुद को बच्चों पर गुस्सा करने से रोक सकती हैं-

इसे भी पढ़ें: Happy Parenting: बच्चे को कंट्रोल करने के बजाय इन 5 तरीकों से बढ़ाएं उसका कॉन्फिडेंस

करें खुद से सवाल

handle your anger in front of your child inside

कई बार ऐसा होता है कि हम किसी दूसरी वजह से परेशान होते हैं और बच्चों की जरा सी गलती करने पर उन पर चिल्लाने लगते हैं। अधिकतर महिलाएं अपनी झल्लाहट बच्चों पर चिल्लाकर निकालती हैं। इससे बच्चे पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसलिए बच्चों पर गुस्सा करने से पहले खुद से यह सवाल जरूर करें कि क्या सच में आप बच्चों की गलती के कारण उन पर गुस्सा हो रही हैं। यकीन मानिए, अधिकतर मामलों में आपको जवाब ना में ही मिलेगा। उसके बाद आप अपनी परेशानी के कारणों को जानने व हल करने की कोशिश करें। इससे भी आप काफी हद तक अपने गुस्से को नियंत्रित कर पाएंगी। साथ ही आप उन ट्रिगर्स की भी पहचान करने की कोशिश करें, जिसके कारण आपको बच्चों पर गुस्सा आता है। हो सकता है कि बच्चों के किसी काम को ना कहने पर आपका पारा चढ़ जाता है। इसलिए पहले ट्रिगर्स पहचानें, उसके बाद आप उन पर आसानी से काम कर सकती हैं।

सेट करें लिमिट

handle your anger in front of your child inside

सेल्फ-कंट्रोल करना हर व्यक्ति के लिए बेहद जरूरी है और यह सिर्फ बच्चों पर गुस्सा करने तक ही सीमित नहीं है। बल्कि आत्म नियंत्रण जीवन के हर क्षेत्र में काम आता है। जब आप खुद को कंट्रोल करना सीख जाती हैं तो गुस्से पर नियंत्रण करना काफी आसान हो जाता है।

तुरंत रिएक्शन नहीं

handle your anger in front of your child inside

अक्सर महिलाएं बच्चों के गलती करने पर तुरंत रिएक्शन देती हैं और वह गुस्से वाला ही होता है। इसलिए अगर आपको किसी कारणवश बच्चे पर गुस्सा आ भी रहा है तो तुरंत रिएक्शन देने से बचें। कुछ देर में यकीनन आपका गुस्सा शांत हो जाएगा, उस समय आप बच्चे को उसके द्वारा की गई गलती के बारे में समझा सकती हैं। इस तरह बच्चा भी आपकी बात को बेहतर तरीके से समझेगा और अगर भविष्य में उससे कोई गलती होगी तो वह आपसे शेयर करने में हिचकिचाएगा नहीं। 

इसे भी पढ़ें: डिनर टेबल पर बच्चों से कभी न बोलें ये 5 बातें, पड़ेगा बहुत बुरा प्रभाव

करें खुद को शांत

handle your anger in front of your child inside

बच्चों के साथ डील करने के लिए जरूरी है कि आप खुद को शांत रखने के तरीकों को अपनाएं। दरअसल, ऐसी कई चीजें हैं, जिसकी मदद से आप अपने गुस्से को बेहद आसानी से शांत कर सकती हैं। इसके लिए आप नियमित रूप से मेडिटेशन, डीप ब्रीदिंग आदि का अभ्यास करें। इससे न सिर्फ आप बेहतर पैरेंटिंग स्किल्स सीखेंगी, बल्कि आपका मन भी शांत होगा और आप अपने हर काम में बेहतर फोकस कर पाएंगी। इस तरह आप अपनी प्रोफेशनल व पर्सनल दोनों ही लाइफ में बेहतर परफार्म करेगी और आपका बच्चों के साथ रिश्ता भी मजबूत होगा।