देश में अमूमन हर दिन महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध की खबर सामने आती है। सड़क पर महिलाओं के साथ होने वाले रेप, हत्या, किडनेपिंग जैसे मामले अक्सर अखबारों की सुर्खियां बनते हैं। वहीं घर पर भी महिलाओं की स्थिति बेहतर नहीं हैं। लॉकडाउन के समय में महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा के मामलों में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई। राष्ट्रीय महिला आयोग ने 27 फरवरी से लेकर 22 मार्च तक महिलाओं से जुड़े कुल 396 मामले दर्ज किए। वहीं 23 मार्च से 16 अप्रैल तक 587 मामले दर्ज किए गए। इनमें सबसे ज्यादा मामले घरेलू हिंसा के थे। इस दौरान राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा का बयान आया था कि लॉकडाउन के कारण अब्यूसर और विक्टिम साथ में बंद थे और इसी की वजह से मामलों में इजाफा हुआ। सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में लॉकडाउन के कारण महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में इजाफा हुआ है। ब्राजील से लेकर जर्मनी और इटली से लेकर चीन तक, हर जगह एक्टिविस्ट और सर्वाइवर्स ने मामले बढ़ने पर चिंता जताई है। इसी के चलते युनाइटेड नेशन्स ने घरेलू हिंसा को कोविड 19 के साथ 'शेडो पेंडेमिक' की संज्ञा दी। ऐसे हालात में होममेकर्स और नौकरीपेशा महिलाओं के सामने खुद को सुरक्षित रखने की बड़ी चुनौती है। लेकिन इससे परेशान होने या घबराने के बजाय साहसी बनें और अपनी सेफ्टी बनाए रखने के लिए सेल्फ डिफेंस से जुड़ी ये तकनीकें अपनाएं-

जागरूक नजर आएं

बहुत सी महिलाएं अपने आसपास के माहौल को लेकर सजग नहीं रहतीं और हमलावर इसी चीज का फायदा उठाते हैं। जब महिलाएं सार्वजनिक स्थलों से गुजरते हुए इयरफोन्स पर गाने सुन रही होती हैं या फिर सोशल मीडिया सर्फिंग कर रही होती हैं, उस दौरान वे अपने आसपास की स्थितियों पर बहुत ज्यादा ध्यान नहीं देतीं। ऐसी स्थितियां क्राइम अगेंस्ट वुमन की आशंका बढ़ाती हैं, इसीलिए महिलाओं का एलर्ट रहना बहुत जरूरी है। अगर अब्यूजर घर पर ही है तो सतर्कता और भी ज्यादा होनी चाहिए। इससे गलत मंशा रखने वालों के हौसले पस्त होते हैं और वे महिला पर हमला करने से डरते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: सोलो ट्रेवल में इन 10 अहम बातों का ध्यान रखने से आप रहेंगी सुरक्षित

खुद को कर लें तैयार

self defence techniques for women safety

अगर आपको अपने आसपास खतरा महसूस हो तो तुरंत ही अटैकिंग पोजिशन में नजर आएं। इसके लिए अपने हाथों की मुट्ठियां बना लें और उन्हें सीने के बिल्कुल सामने ले आएं। अपना दायां पैर आगे रखें और शरीर को आगे की तरफ हल्का सा झुका लें। इससे आप हमलावर को यह आभास दे सकती हैं कि आप उन्हें मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं। 

बालों को करें कवर

कई बार हमलावर महिलाओं को पकड़ने के लिए उनके बालों का सहारा लेते हैं। ऐसे में अगर आपको अपने आसपास खतरा दिखे तो सबसे पहले अपने बालों को कवर करें। आप दुपट्टे से अपने बाल बांध सकती हैं। अगर आपने शर्ट या टी-शर्ट पहनी है तो बालों को अपने कॉलर के अंदर टक कर लें। इससे आप ज्यादा सहज तरीके से हमलावर का सामना कर सकती हैं।

इसे जरूर पढ़ें: Women Safety: घरेलू हिंसा कानून के तहत महिलाएं किस तरह की मदद पा सकती हैं, एक्सपर्ट से जानिए

अपने पास मौजूद हर चीज का करें इस्तेमाल

हमलावर से डरने के बजाय अपने बैग में मौजूद छोटी-बड़ी चीजों से आप उसके मन में डर पैदा कर सकती हैं। चाबी के गुच्छे, सेफ्टी पिन, क्लचर, फाइलर, पेन या फिर सेफ्टी के लिए रखा काली मिर्च के स्प्रे का आप इस समय में इस्तेमाल कर सकती हैं। अगर आपको भीतर से डर लग रहा है तो हमलावरों को ऐसी जगह तक लाने का प्रयास करें, जहां आप मदद पा सकें। 

इस तरह से लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींचें

अगर भीड़भाड़ वाली जगह पर किसी तरह पहुंच सकें तो इससे हमलावर आगे बढ़ने का साहस नहीं करता। इस स्थिति में आप वहां से सुरक्षित निकलकर भागने में कामयाब हो सकती हैं। लेकिन जरूरी नहीं है कि लोग आपके मदद मांगने पर तुरंत आपको रेस्पॉन्स दें। ऐसे में लोगों का ध्यान खींचने के लिए आप 'चोर-चोर' चिल्ला सकती हैं या फिर आसपास कहीं आग लगने के बारे में तेज आवाज में बता सकती हैं। इससे आमतौर पर लोग तुरंत हरकत में आ जाते हैं, जिससे आपके लिए माहौल ज्यादा सेफ हो जाता है।  

शरीर के सबसे कमजोर हिस्सों के बारे में जानें 

self defence techniques

अगर हमलावर ने आपको पूरी तरह से घेर लिया है तो आप उसकी गिरफ्त से बाहर आने के लिए उसके शरीर के सबसे सेंसिटिव और कमजोर हिस्सों को निशाना बना सकती हैं। इसमें आंख, नाक, गर्दन, घुटने और पुरुषों के प्राइवेट पार्ट आते हैं। इन हिस्सों पर जोरदार तरीके से पंच मारने पर हमलावर का ध्यान बंटने में मदद मिलेगी, जिससे आप उसकी गिरफ्त से छूट सकती हैं।

मौका मिलने पर भाग जाएं

अगर आपको ऐसा लगे कि हमलावर का सामना करने से ज्यादा बेहतर है वहां से भाग जाना, तो इसी ऑप्शन को चुनें। अगर आपके सामने से कोई बस गुजर रही हो या आपके आसपास ऑटो वालों की भीड़ हो तो आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट के जरिए आसानी से उस जगह से निकल सकती हैं। मुमकिन है कि एक बार उन स्थितियों से बाहर निकलने के बाद आपको दोबारा उनका सामना ना करना पड़े। 

इन आसान तरीकों को अपनाकर आप ना सिर्फ हमलावर को कड़ी टक्कर दे सकती हैं, बल्कि खुद की सुरक्षा भी सुनिश्चित कर सकती हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर करें। वुमन सेफ्टी पर लेटेस्ट अपडेट्स पाने के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी।

Image Courtesy: kravmagacanberra, static.independent.co.uk, tomsfitnessandmartialarts.com