• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Vastu Tips: घर में वास्तु पूजा से बदल सकती है आपकी किस्मत, जानें इसका महत्व

वास्तुशास्त्र का जीवन में बहुत ज्यादा महत्व है और इससे जुड़ी पूजा से घर में खुशहाली लायी जा सकती है और बाधाओं को दूर किया जा सकता है।   
Published -23 May 2022, 16:54 ISTUpdated -23 May 2022, 17:15 IST
author-profile
  • Samvida Tiwari
  • Editorial
  • Published -23 May 2022, 16:54 ISTUpdated -23 May 2022, 17:15 IST
Next
Article
vastu puja mahatv

वास्तु पूजा एक महत्वपूर्ण हिंदू परंपरा है जिसका पालन अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि को बनाए रखने के लिए किया जाता है। यह किसी के जीवन और घर में संतुलन बनाए रखने का एक तरीका भी माना जाता है। वास्तु पूजा के महत्व को बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बताया जा सकता, क्योंकि यह किसी के जीवन स्तर को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। ऐसा माना जाता है कि वास्तु पूजा से घर से सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं और आपसी परिवार के लोगों के बीच सामंजस्य बना रहता है।

वास्तु पूजा से घर के वास्तु दोष को भी दूर करने में मदद मिलती है और घर में समृद्धि आती है। आइए न्यूमेरोलॉजिस्ट और टैरो कार्ड रीडर, मधु कोटिया जी से जानें वास्तु पूजा से घर में सुख समृद्धि कैसे आती है और इसका क्या महत्व है। 

क्या है वास्तु पूजा

vastu puja kya hai

वास्तु पूजा एक अनुष्ठान है जो अक्सर वास्तु शास्त्र के देवी-देवताओं को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है। वास्तु पूजा का लक्ष्य उस क्षेत्र को शुद्ध करना है जहां अनुष्ठान हो रहा है, साथ ही पूरे अंतरिक्ष में ऊर्जा का सकारात्मक प्रवाह पैदा करना है। यह एक शक्तिशाली अनुष्ठान है जो आपके जीवन और परिवेश की गुणवत्ता को बेहतर बनाने में भी मदद कर सकता है। इसमें कई अनुष्ठान शामिल होते हैं जो नकारात्मक प्रभावों को दूर करने और उन्हें सकारात्मक प्रभावों से बदलने के लिए आयोजित किए जाते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: वास्तु से जुड़ी इन गलत धारणाओं को सच मान लेते हैं लोग, एक्सपर्ट से जानें इनकी सच्चाई

vastu puja by madhu kotiya

वास्तु पूजा के प्रकार

अग्रभाग (नए घर का निर्माण या नवीनीकरण)

यह एक विशेष प्रकार की वास्तु पूजा है जहां नया निर्माण या नवीनीकरण एक शुभ दिशा (उत्तर, पूर्व, दक्षिण या पश्चिम) में और वास्तु के निर्देशों के अनुसार किया जाना है। 

प्रधान वास्तु (फर्नीचर, फिक्स्चर, मूर्तियों और प्रकाश व्यवस्था की नियुक्ति)

यह पूजा परिवार के पुजारी द्वारा की जाती है। फर्नीचर, फिक्स्चर, मूर्तियों और प्रकाश व्यवस्था की नियुक्ति से पहले यह पूजा की जाती है । यह पूजा बहुतायत और अच्छा धन प्रवाह बनाती है।

Recommended Video

वास्तु शांति पूजा

वास्तु शांति पूजा, वास्तु पुरुष, आत्मा, रक्षक और घर के स्वामी का सम्मान करने के लिए एक प्रार्थना और धार्मिक कार्य है। पूजा के दौरान, लोग वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी और प्रकृति के स्वामी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। वास्तु पुरुष (हमारे भगवान, रक्षक और हमारे घर की आत्मा) से प्रार्थना करना और सकारात्मकता और समृद्धि के लिए आशीर्वाद लेना एक आध्यात्मिक और धार्मिक प्रक्रिया है। वास्तु शांति पूजा को वास्तु दोष निवारण पूजाके रूप में भी जाना जाता है यह नकारात्मक प्रभावों को दूर करके प्रकृति और जीवन के बीच एक सामंजस्यपूर्ण संतुलन प्राप्त करने में मदद करती है। यह पूजा प्राकृतिक शक्तियों के साथ होती है। वास्तु पूजा किसी विशेष स्थान से नकारात्मक प्रभावों को बदलकर या हटाकर जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए की जाती है।

वास्तु पूजा कैसे करें?

how to perform vastu puja

वास्तु एक्सपर्ट मधु कोटिया जी बताती हैं कि वास्तु पूजा में पहला कदम अंतरिक्ष के उत्तर, पूर्व, दक्षिण और पश्चिम कोनों की पहचान करना है। फिर इन कोनों को घी और गाय के गोबर से शुद्ध किया जाता है। इसके बाद, मूंगफली के नौ बीजों को एक प्लेट में एक पंक्ति में रखा जाता है, उसके बाद एक केले का पत्ता और उस पर कुछ चावल रखे जाते हैं। यह प्रसाद भगवान गणेश को चढ़ाया जाता है, जिन्हें शुरुआत के देवता के रूप में जाना जाता है। इसके बाद कपूर या धूप जलाने से क्षेत्र की कोई भी नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाती है। इसके बाद घी और पानी से मलकर फर्श को शुद्ध किया जाता है। इसे शुद्ध करने के लिए घी और गाय के गोबर के मिश्रण को फर्श पर लेप किया जाता है। दीवारों पर घी और गाय के गोबर से मलकर शुद्धिकरण की जाती है। फिर किसी भी नकारात्मक ऊर्जाको दूर करने के लिए दीवारों पर पानी छिड़का जाता है। पूजा का मुख्य अनुष्ठान तब शुरू होता है जब गणेश जी का घर में स्वागत किया जाता है।

वास्तु पूजा में अग्नि अनुष्ठान या हवन सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है। अग्नि का अनुष्ठान अंतरिक्ष को शुद्ध करने और उसे शुभ ऊर्जा प्रदान करने के लिए किया जाता है। एक नए घर के लिए आशीर्वाद पाने के लिए सभी तत्वों और देवताओं और अन्य देवी-देवताओं का आह्वान किया जाता है। ऐसी पूजा करने के लिए किसी अनुभवी और जानकार पुजारी को बुलाना सबसे अच्छा विकल्प है।

इसे जरूर पढ़ें: Vastu Tips: घर के मुख्य द्वार पर भूलकर भी न रखें ये 7 चीज़ें, हो सकती है धन हानि

वास्तु पूजा का महत्व 

vastu puja significance in hoindi

  • वास्तु पूजा सभी प्रकार के स्वास्थ्य और धन की रुकावटों को दूर करने का सबसे अच्छा उपाय है। 
  • यह कुंडली पर विभिन्न ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव को दूर करने में सहायता करती है।
  • यह हमारे जीवन में सभी प्रकार की बाधाओं को दूर करता है जिसमें विवाह, आपसी संबंध, नौकरी आदि शामिल हैं। 
  • पूजा करने से परिवार के लोगों का एक दूसरे के साथ संबंध मजबूत होता है, स्वास्थ्य, धन, सुख और समृद्धि में वृद्धि होती है। 
  • यह पूजा प्यार और रिश्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने में भी मदद करती है। यह आपके जीवन में शांति, सुख और समृद्धि लाती है।
  • घरों और कार्यालयों को प्राकृतिक और अप्राकृतिक आपदाओं से बचाती है। 
  • सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को बढ़ाती है और बुरी और सकारात्मक ऊर्जा को खत्म करती है। 
  • इन सभी कारणों से वास्तु पूजा का जीवन में बहुत बड़ा महत्व है और इस पूजा को घर की समृद्धि के लिए कराने की सलाह दी जाती है।  

इस प्रकार वास्तु पूजा हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है और इसे ईमानदारी और सम्मान के साथ किया जाना चाहिए। वास्तु द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन करके, हम एक सामंजस्यपूर्ण वातावरण बना सकते हैं जिसमें हम सुख पूर्वक रह सकें, काम कर सकें और अपने परिवार के लोगों का पालन-पोषण कर सकें।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and pixabay 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।