Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Sharad Purnima 2022:आखिर क्यों शरद पूर्णिमा को कहते हैं कोजागरी पूर्णिमा?

    इस लेख में हम आपको बताएंगे कि क्यों शरद पूर्णिमा को कोजागरी पूर्णिमा भी कहते हैं और इसका क्या महत्व है।
    author-profile
    Updated at - 2022-10-06,10:32 IST
    Next
    Article
    sharad purnima  why sharad purnima also known as kojagiri purnima

    शरद पूर्णिमा का विशेष महत्व हिन्दू धर्म में बताया गया है। मान्यताओं के अनुसार शरद पूर्णिमा पर माता लक्ष्मी अपने वाहन उल्लू पर बैठकर पृथ्वी पर भ्रमण करने आती हैं। परंपरा के अनुसार कई लोग शरद पूर्णिमा में घर की छत पर खीर भी रखते हैं क्योंकि इस दिन चंद्रमा की पूजा विशेष तरह से की जाती है और इसकी रोशनी में खीर रखने का खास महत्व होता है।

    आपको बता दें कि शरद पूर्णिमा को कई सारे नामों से भी जाना जाता है। शरद पूर्णिमा को कोजागरी पूर्णिमा भी कहते हैं लेकिन ऐसा क्यों कहते हैं इसके बारे में इस लेख में हम आपको बताएंगे।

    क्यों कहते हैं शरद पूर्णिमा को कोजागरी पूर्णिमा?

     sharad purnima  other names of sharad purnima

     शरद पूर्णिमा को कोजागरी पूर्णिमा, रास पूर्णिमा, लोक्खी पूजा और कौमुदी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। बात करें अगर 'कोजागरी' शब्द 'जो जाग रहा है' होता है। इसके पीछे भी एक लोक कथा है।

    एक हिंदू धर्म के राजा पर आर्थिक संकट आ जाता है जिसकी वजह से राजा की संपत्ति में कमी होने लगी थी। राजा की चिंता और परेशानी को देखकर रानी एक उपवास रखती हैं। जिसके बाद वह पूरी रात जग कर माता लक्ष्मी की पूजा करती हैं। फिर रानी की पूजा और उसके व्रत से माता लक्ष्मी बहुत प्रसन्न हो जाती हैं और उसके पति यानी राजा को आशीर्वाद देती हैं तो कि उनके राज्य में कभी भी धन या समृद्धि की कमी नहीं होगी। इस वजह से भी कई लोग शरद पूर्णिमा की रात को जागरण भी करते हैं।

    आपको बता दें कि कुछ पौराणिक कथाओं के अनुसार सागर मंथन के समय देवी लक्ष्मी शरद पूर्णिमा के दिन ही समुद्र से उत्पन्न हुई थी। इस वजह से भी इस पूजा का विशेष महत्व होता है। आपको बता दें कि कोजागरी पूर्णिमा के लिए कई ऋषियों का यह भी मानना है कि इस रात की चांदनी में अद्भुत उपचार करने वाली शक्तियां होती हैं और यह मन और आत्मा के लिए फायदेमंद होती है।

    आपको बता दें कि इस पूजा पर कुछ क्षेत्रों में नव विवाहित महिलाएं और कुवांरी कन्याएं भी व्रत रखती हैं। ऐसा माना जाता है कि इस दिन पूजा करने पर घर पर सुख-समृद्धि के साथ अच्छे आचरण वाला पति भी मिलता है।

     इसे जरूर पढ़ें:Sharad Purnima 2022:जानिए क्यों शरद पूर्णिमा की रात होती है बेहद खास?

    कोजागरी पूर्णिमा का महत्व क्या होता है?

    आपको बता दें कि शरद पूर्णिमा पर लोग स्नान करके नए वस्त्र धारण करके भगवान इंद्र के साथ देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं। आपको बता दें कि पूरे दिन जो शरद पूर्णिमा पर जो उपवास रखा जाता है इसे ''कोजागरा व्रत' भी कहा जाता है। कुछ लोग पूजा के लिए कई सारे दीपक भी जलाते हैं।

    इस रात पर चांदनी को अमृत वर्षा भी कहा जाता है इसलिए लोग शाम के समय दूध और चावल की खीर बनाते हैं। शरद पूर्णिमा पर चंद्रमा की किरणों में खीर रखने की बहुत पुरानी परंपरा होती है।

    इसे जरूर पढ़ें:Sharad Purnima 2022 Wishes In Hindi: शरद पूर्णिमा पर अपने प्रियजनों को भेजें ये खूबसूरत शुभकामनाएं और संदेश

    कई लोग चंद्रमा देवता की पूजा भी करते हैं। माना जाता है कि चंद्र देवता की पूजा से घर में धन और अन्न की कमी नहीं होती है।

     

    तो यह थी जानकारी शरद पूर्णिमा से जुड़ी हुई।  

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के  लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

     

     

    image credit- flickr 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।