रिलेशनशिप में प्रॉब्लम फेस करना, तनाव और झगड़ा होना बहुत आम बात है। लगभग सभी रिलेशनशिप्स में कभी ना कभी ऐसे लम्हे आते हैं, जब स्थितियां अच्छी नहीं होतीं। लेकिन इन चीजों के बावजूद कुछ रिलेशनशिप्स बहुत अच्छी चलती हैं तो कुछ में बहुत ज्यादा प्रॉब्लम्स आती हैं। क्या आपने सोचा है ऐसा क्यों होता है? दरअसल कुछ लोग तनाव के बाद रिश्तों को सामान्य बनाने के गुर जानते हैं और इसीलिए वे अपनी रिलेशनशिप को मजबूत बनाए रखने में भी सफल होते हैं। मनोविश्लेषक डोनल्ड विनीकोट बताते हैं, अच्छी परवरिश और बुरी परवरिश के बीच फर्क गलतियों का नहीं होता, बल्कि उसके बाद के व्यवहार में होता है। कोई भी बच्चा अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में असफलताओं और मुश्किलों से निपटना कैसे सीखता है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि उसके पेरेंट्स ने उसके लिए कैसा वातावरण तैयार किया है। रोमांटिक रिलेशनशिप में भी चीजें बहुत अलग नहीं होतीं। 

अच्छी रिलेशनशिप में भी आती हैं प्रॉब्लम्स

how to reconcile with partner inside

चाहें कितनी भी सावधानी बरती जाए, रिलेशनशिप्स में चीखना-चिल्लाना, एक-दूसरे की आलोचना करना, डिफेंसिव तरीके से बात करना या एक-दूसरे को नीचा दिखाना जैसा व्यवहार कभी ना कभी आ ही जाता है। जो महिलाएं अपनी रिलेशनशिप्स को बनाए रखने की खूबी जानती हैं, वे किसी भी तरह का विवाद होने पर उसकी जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार होती हैं, ताकि वे अपने रिश्तों में किसी तरह की दूरियां ना आने दें। ऐसी महिलाओं को इस बात का अहसास होता है कि उनके लिए रिलेशनशिप किसी प्रॉब्लम से कहीं ज्यादा अहम है। 

इसे जरूर पढ़ें: पति के साथ मजबूत रहेगा प्यार का बंधन अगर मानेंगी रिलेशनशिप कोच पंकज दीक्षित की ये 5 बातें

रिश्ते बेहतर बनाने में लगता है समय

3000 कपल्स पर स्टडी करने वाले डॉ गॉटमेन का मानना है कि किसी भी विवाद को सुलझाने की कोशिश से इस बात का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता कि रिश्ते बेहतर हो ही जाएंगे। बहुत से लोग रिश्तों को बेहतर बनाने के लिए अपनी तरफ से बेहतरीन प्रयास करते हैं, लेकिन उनके पार्टनर उन्हें सुनना नहीं चाहते, वहीं कुछ पार्टनर बहुत अच्छे प्रयास नहीं करते, लेकिन उनके प्रयास कामयाब हो जाते हैं। 

प्यार में दोस्त है जरूरी

how to maintain happy relationship nside

पार्टनर्स रिलेशनशिप में एक-दूसरे के साथ निभा पाते हैं या नहीं, यह बहुत हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि वे एक-दूसरे से इमोशनली कितना कनेक्टेड हैं। अगर महिलाएं इमोशनल लेवल पर अपने पार्टनर से गहरी जुड़ी होती हैं तो छोटे-मोटे मनमुटाव से उनके रिश्तों पर बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ता।

अगर एक-दूसरे से बहुत ज्यादा जुड़ाव नहीं है और अंडरस्टैंडिंग बहुत अच्छी नहीं है तो छोटी-छोटी बातों से शुरू हुई विवाद भी बढ़ सकते हैं, जिनसे रिश्तों में दरारें आ सकती हैं। अगर रिलेशनशिप में दूरियां हैं, अगर एक-दूसरे के लिए सम्मान नहीं है या एक-दूसरे के लिए विद्वेष है तो दूरियों को खत्म करने के प्रयास सफल नहीं हो पाते। ऐसी स्थिति में एक-दूसरे के साथ रिश्ता मजबूत बनाने के लिए ईमानदार प्रयास जरूरी हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: गैजेट्स के बढ़ते इस्तेमाल से प्रभावित हो रहे हैं रिश्ते, कैसे बनाए रखें रिश्तों में गर्मजोशी, जानिए

इस तरह अपनी रिलेशनशिप बनाएं मजबूत

  • अपने पार्टनर की बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान दें और उनकी जरूरतों को समझें। 
  • अपने पार्टनर की पसंद और नापसंद का ध्यान रखें। उनके सपनों, आकांक्षाओं और डर, इन चीजों से आपको वाकिफ होना चाहिए। इसके लिए आप उनसे नियमित रूप से सवाल पूछ सकते हैं और उन सवालों के आधार पर आप अपनी रिलेशनशिप को बेहतर बनाने के लिए कोशिशें कर सकती हैं। 
  • पार्टनर का करें सम्मान
  • अपने पार्टनर का सम्मान करें, उन्हें जाहिर करें कि आप उनकी छोटी-छोटी चीजों की कितनी परवाह करती हैं और उन्हें उन बातों के लिए शुक्रिया कहें, जिन्हें लेकर आप उनका आभार महसूस करती हैं। 
  • अपने पार्टनर के छोटे-छोटे सवालों का जवाब दें। उनके साथ वक्त बिताएं, उनकी आंखों में आंखें डालकर बात करें।