प्यार हो जाना दुनिया की सबसे स्पेशल फीलिंग है। प्यार हमारे भीतर के अहसास को इतना खुशनुमा बना देता है कि हमें सबकुछ अच्छा लगने लगता है। पति के साथ रोमांटिक लाइफ जीते हुए लॉन्ग ड्राइव पर जाना, हॉलीडे मनाना, पति को सरप्राइज गिफ्ट देकर उसे स्पेशल फील कराना ये सबकुछ हमारे भीतर की दुनिया को पूरी तरह से बदलकर रख देता है। रिलेशनशिप में बंधना हर महिला को अच्छा लगता है, लेकिन इसे नेक्स्ट लेवल तक ले जाना और अपने रिश्ते को मजबूत बनाने में अक्सर कई तरह के चैलैंजेस का सामना करना पड़ता है। कई बार मुश्किलें ज्यादा बड़ी होती हैं तो वहीं कई बार छोटी-छोटी नासमझियों की वजह से भी रिश्ता दरकने लगता है। एक दशक से लोगों की मैरिटल लाइफ से जुड़े इशुज को एड्रेस करने वाले अनुभवी लाइफ कोच पंकच से आइए जानते हैं कि रिश्ते को मजबूत कैसे बनाया जा सकता है-

विश्वास है जरूरी

strong relationship expert tips inside

रिलेशनशिप में जब एक-दूसरे पर विश्वास हो तभी उसमें लाइवलीनेस रहती है। हालांकि एक-दूसरे पर विश्वास पैदा होने में वक्त लगता है, लेकिन एक बार जब एक-दूसरे पर पति यकीन करने लगते हैं तो उनका रिश्ता बेहद मजबूत हो जाता है। विश्वास एक ऐसी भावना है, जो मन से हर तरह के भ्रम और संशय को दूर कर देता है। जब पति पर यकीन हो तो लगातार उस पर नजर रखने की जरूरत नहीं रह जाती। पति के साथ विश्वास की डोर मजबूत करने के लिए आपको उनके साथ बेहद ईमानदार होने की जरूरत होगी।

इसे जरूर पढ़ें: ये 10 खूबियां दिखें तो समझ लीजिए आपको मिल गया है परफेक्ट लाइफ पार्टनर

ईमानदारी

एक बार जब प्यार का रिश्ता मजबूत हो जाता है तो आप अपने पति से अपनी हर बात दिल खोलकर बता सकती हैं। तब आपको किसी भी बात को लेकर छिपने-छिपाने की जरूरत नहीं होगी। इस स्थिति में आप पूरी तरह से रिलैक्स रहती हैं। पति से ईमानदार होने के लिए आप सबसे पहले खुद से ईमानदार हो जाएं। इसी स्थिति में आप अपने किसी बीते हुए कल के बारे में अपने पति को बता सकती हैं, अपनी गलतियों को ईमानदारी से स्वीकार करते हुए उनके लिए माफी मांग सकती हैं।  

अपने किए के लिए दूसरे को जिम्मेदार ना ठहराएं

strong relationship expert tips inside

जब आप रिलेशनशिप में होते हैं तो आपकी जिम्मेदारियां भी साझा होती हैं। जिम्मेदारियों को साझा करने में आपको किसी तरह का संकोच नहीं होना चाहिए। घर से जुड़े हर मसले पर साथ में बैठकर चर्चा करें और इसके बाद ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचें। अपने भविष्य को लेकर योजना साथ में बनाएं। इस बात से ना डरें कि जिम्मेदारी लेते हुए आपको किसी बात के लिए कसूरवार ठहराया जाएगा। अपने फैसलों के लिए जिम्मेदारी लें, चाहें उसमें भले ही आपको अपने मनचाहे नतीजे ना मिलें। जिंदगी अनिश्चित है, इसीलिए आगे क्या होगा, इसके बारे में आप कभी भी सटीक अनुमान नहीं लगा सकते। ऐसे में अपने फैसलों की जिम्मेदारी लेते हुए आप कॉन्फिडेंट होकर अपना बेस्ट दे सकती हैं। 

एक दूसरे के लक्ष्यों को समझें और साथ दें

अपने पति के पोटेंशियल यानी सामर्थ्य को समझना बेहद जरूरी है। आप उन्हें इंस्पायर करके उन्हें अपने गोल अचीव करने में मदद कर सकती हैं। जब आप अपने पति को चाहते हैं तो ना सिर्फ आप उनके लिए बेहतर सोचती हैं, बल्कि उनके लिए अपनी तरफ से हर संभव मदद भी करती हैं। इस बात को समझने का प्रयास करें कि आपके पति के गोल उनके लिए अचीव करना क्यों जरूरी है? इस बात को समझें कि अकेले चलने के बजाय साथ में आप अपने बड़े-बड़े लक्ष्य हासिल कर सकते हैं। जब एक सपोर्टिंग पति हो तो जिंदगी बहुत हद तक आसान हो जाती है। अपने पति को इमोशनल सपोर्ट दें यानी उनकी जरूरतों के लिए सजग रहें और हर कदम पर उनका साथ दें। 

एक-दूसरे की कद्र करें

अगर आप एक-दूसरे का सम्मान करते हैं तो आपके बीच प्यार का रिश्ता हमेशा जवां बना रहेगा। अगर आप अपने पति को सम्मान नहीं देते तो आप सही मायने में उनसे प्यार नहीं करते। रिलेशनशिप में अपना सम्मान करें और अपने पति का भी। आपका पति जो कुछ कह रहा है, उसे ध्यान से सुनें, उसकी कद्र करें, चाहें भले ही उनके विचार आपसे अलग हों। जब दूसरे सामने हों तो भी अपने पति के सम्मान में किसी तरह की कमी ना आने दें। एक हेल्दी रिलेशनशिप में दोनों पति बराबर होते हैं। आप जिस तरह से एक-दूसरे के साथ व्यवहार करते हैं, उसमें आपकी कद्र करने की भावना झलकनी चाहिए। सम्मान दिल से आता है और आपे एक्शन्स में झलकता है। इसीलिए अपने पति से बात करते हुए हमेशा उन्हें पूरी रेसपेक्ट देते हुए बात करें। 

 

Recommended Video