पहली बार जब प्यार होता है तो दुनिया में सबकुछ रोमांटिक लगता है। ऐसे समय में पार्टनर की हर बात अच्छी लगती है, फिर चाहें वह उनका बिहेवियर हो किसी भी सिचुएशन को हैंडल करने का तरीका। उस समय में पार्टनर ही पहली प्रायोरिटी होता है, जाहिर है इस अटेंशन से वह बहुत खुश होता है। पहले प्यार में किसी तरह की मुश्किल नहीं होती और ना ही दिल में किसी तरह की उलझन, लेकिन प्यार में कुछ वक्त बीत जाने के बाद रिलेशनशिप में प्रॉब्लम्स आने लगती हैं। अपने पार्टनर के लिए शुरुआती क्रेज जब खत्म हो जाता है, तब प्यार को निभाना असली चुनौती होता है। ऐसे समय में बहुत सी महिलाएं परेशान हो जाती हैं कि वे अपनी रिलेशनशिप को कैसे हैंडल करें। पार्टनर से प्यार होने के बावजूद छोटी-छोटी चीजों पर बात बिगड़ जाती है और तनाव हो जाता है। अगर आप भी इसी सिचुएशन से गुजर रही हैं तो परेशान ना हों। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे तरीके, जो आपकी रिलेशनशिप को मजबूत बनाने में बहुत काम आएंगे और जिनसे आपका पार्टनर के साथ आपका प्यार हमेशा जवां बना रहेगा। 

जादू जैसा असर करेगी तारीफ

love life th sep inside

कई बार रिलेशनशिप के इशुज बहुत कॉम्प्लेक्स होते हैं और इतनी आसानी से सुलझाए नहीं जा सकते। लेकिन छोटी-छोटी चीजों पर मिलने वाली सराहना से मन पूरी तरह से बदल जाता है। भले ही जिंदगी की दुश्वारियां कम ना हों, लेकिन उत्साह कायम रहता है। अगर आप अपने पार्टनर से कहती हैं, 'आप बहुत अच्छा काम कर रहे हैं।', 'आपका आइडिया काफी शानदार है।', 'आपने इस प्रोजेक्ट में काफी मेहनत की है।' तो ये चीजें आपके पार्टनर को काफी अच्छी लगती हैं और इससे आपके और आपके पार्टनर के बीच प्यार की डोर और मजबूत हो जाती है। 

इसे जरूर पढ़ें: I love You कहने के बजाय इन खूबसूरत तरीकों से करें अपने प्यार का इजहार

'हम साथ हैं'

रिलेशनशिप में कुछ साल बीत जाने के बाद पार्टनर्स के बीच कई बातों पर इशुज होते हैं। कभी आदतों को लेकर, कभी फाइनेंशियल चीजों को लेकर तो कभी घर को लेकर, कई बार रिलेशनशिप में महिला और पुरुष दोनों की चिंताएं अपनी-अपनी जगह वाजिब होती हैं, लेकिन उनके बीच तालमेल ठीक नहीं बैठ पाता। गुस्सा, दुख, व्यवहार के कारण पैदा होने वाली खीज ये सब चीजें महिलाओं पर हावी होने लगती हैं, जिससे वे चाहकर भी पार्टनर से पॉजिटिव तरीके से बात नहीं कर पातीं। पार्टनर के साथ कितनी ही मुश्किल चीजें क्यों ना हों, अगर आप ये जानती हैं कि उनका एटीट्यूड आपके लिए सही है, वे आपकी रेसपेक्ट करते हैं और आपकी फिक्र भी करते हैं तो आपको पुराने इशुज को छोड़कर आगे बढ़ने के बारे में सोचना चाहिए और रिलेशनशिप को फिर से बेहतर बनाने की दिशा में काम करना चाहिए। अगर आप अपनी बातों से और अपने बिहेवियर से जाहिर करती हैं कि आप पूरी तरह से अपने पार्टनर के साथ हैं, तो यह चीज उन्हें काफी ज्यादा मजबूती देती है। इससे आप दोनों को अपने गिले-शिकवे मिटाने का मौका मिलता है। 

इसे जरूर पढ़ें: रिलेशनशिप में ऐसा व्यवहार बर्दाश्त ना करें

थैंक यू कहना है जरूरी 

how to sort out difference in relationship inside

रिलेशनशिप में कई बार एक-दूसरे की फीलिंग को समझना मुश्किल हो जाता है। महिलाएं सोचती हैं कि पति उनकी बातों को बिना कहे समझ लें और वही चीज उनके पति भी उनसे एक्सपेक्ट करते हैं। बातें कहे बिना ठीक तरह से स्पष्ट नहीं होतीं। इस तरह का कन्फ्यूशन ना हो, इसके लिए एक दूसरे के साथ अंडरस्टैंगिंग को बेहतर बनाने पर जोर देना चाहिए। अगर आप अपनी पति के छोटे-छोटे एफर्ट्स पर उनकी तारीफ करती हैं या अपनी केयर करने पर उन्हें अप्रीशिएट करती हैं तो इससे भी आप दोनों के बीच चीजें बेहतर होती हैं। 

'आपका नजरिया है शानदार'

हर इंसान में कुछ चीजें बहुत अच्छी होती हैं। अगर उसे अपनी अच्छी चीजों के लिए सराहना मिलती है तो वह इंस्पायर्ड फील करता है। माना कि पार्टनर के साथ कुछ चीजों को लेकर आपकी नहीं बनती हो, लेकिन कुछ दूसरी चीजों में उनके टैलेंट के बारे में आपको जरूर पता होगा। इन छोटे-छोटे पॉजिटिव्स के बारे में अपने पार्टनर की तारीफ जरूर करें, मसलन अगर उन्होंने कोई यूनीक आइडिया आपसे डिस्कस किया है को आप कह सकती हैं कि उनका आइडिया बहुत अच्छा है। अगर उन्होंने कोई अर्थपूर्ण बात कही है, किसी का भला किया है, घर में कोई नया बदलाव किया है या आपकी लाइफ को बेहतर बनाने की दिशा में कोई कदम उठाया है तो उसे अप्रीशिएट जरूर करें। 

'मैं क्या मदद कर सकती हूं?'

dealing with issues in relationships inside

कई बार झगड़ा या मनमुटाव होने पर आपसी तनातनी की वजह से जरूरत पड़ने पर आप पार्टनर से मदद मांगने में संकोच महसूस करती हैं। जाहिर सी बात है कि आपके पार्टनर के मन में भी कुछ इसी तरह की फीलिंग होगी। ऐसी स्थिति में बॉन्डिंग को मजबूत बनाने के लिए आप खुद पहल कर सकती हैं और जहां संभव हो, वहां अपने पार्टनर को मदद ऑफर करें। इससे पार्टनर के साथ आप फिर से कंफर्ट लेवल विकसित कर पाएंगी और बड़े-बड़े इशुज को सुलझाने की दिशा में आगे बढ़ पाएंगी।