हर किसी के जीवन में डेटिंग को लेकर एक अलग अनुभव है। पुरुष और महिला दोनों के लिए परफेक्ट पार्टनर के मापदंड अलग-अलग होते हैं। उसी तरह अच्छी गर्लफ्रेंड और अच्छा बॉयफ्रेंड होने के भी हैं। रिलेशनशिप में अलग-अलग तरीके की समस्याएं आती रहती हैं, जिसमें कुछ लोग एडजस्ट होकर आगे बढ़ते रहते हैं, तो कुछ लोग बीच में ही तोड़ देते हैं। लेकिन कुछ महिलाएं हमेशा इस बात का ध्यान रखती हैं कि वह अपने बॉयफ्रेंड के लिए परफेक्ट गर्लफ्रेंड कैसे बन सकती हैं। 

रिसर्च के अनुसार कई बार महिलाएं केवल सही प्रेमिका होने पर अपना ध्यान फोकस करती है, नतीजा यह होता है कि वह रिश्ते में अन्य महत्वपूर्ण मापदंडों के बारे में भूल जाती हैं। लड़कियों को ऐसा लगता है कि परफेक्ट गर्लफ्रेंड बनने के लिए बहुत सैक्रिफाइज करने पड़ते हैं। हालांकि महिलाओं को समझना होगा कि परफेक्ट गर्लफ्रेंड बनने का मतलब सैक्रिफाइज या फिर अपनी अहमियत खोना नहीं है। ऐसा जरूरी नहीं कि परफेक्ट गर्लफ्रेंड बनने का मतलब बॉयफ्रेंड की बातों में हां में हां मिलाना होता है, बल्कि कुछ बातों का ध्यान में रखें तो बिना सैक्रिफाइज किए आप परफेक्ट गर्लफ्रेंड बन सकती हैं।

एक दूसरे से रहें क्लीयर

relationship idea

रिश्ते में गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड दोनों को एक दूसरे से काफी उम्मीदें होती हैं। इसलिए सबसे पहले इस पर बातचीत जरूर करें कि आप एक-दूसरे से क्या चाहते हैं। कई लोग अपने रिश्ते को कैजुअल लेकर चलते हैं ऐसे में शुरुआत से ही एक-दूसरे से उम्मीद नहीं रखते हैं। लेकिन अगर आप अपने रिश्ते में अपेक्षाएं रखती हैं तो कोशिश करें कि आपकी अपेक्षायें ज्यादा बड़ी ना हों। जैसे आप यह सवाल कर सकती हैं कि वह घर कब आएंगे या फिर रात को साथ खाना खा सकते हैं या नहीं। इससे आप उन्हें बता सकती हैं को वह आपकी फिर्क करती हैं। इसी तरह आपके पार्टनर की भी कुछ प्राथमिकताएं हो सकती हैं, जिनकी अपेक्षा वह आपसे करते हैं। अगर वो अपेक्षायें आपको पर्याप्त तर्कसंगत लगती हैं तो आप भी उन्हें सपोर्ट कर सकती हैं।

पार्टनर को बताएं किस वजह से होती हैं उदास

perfect girlfriend

अगर आप अपने पार्टनर की किसी बात को लेकर उदास हैं तो आप उस वजह को अपने भीतर रखने से बचें। इस स्थिति से बचने के लिए बहुत जरूरी है कि आप एक दूसरे से बात करें। क्योंकि किसी भी रिश्ते में बातचीत बहुत जरूरी है वरना यह खराब हो सकता है। लगातार एक-दूसरे से लड़ने के बजाय बातचीत करें। ऐसा जरूरी नहीं कि आपका बॉयफ्रेंड आपकी हर बात को बगैर कहे ही समझ जाये। ऐसी स्थिति में आप अपने पार्टनर को खुद ही बता दें या उसे समझने का मौका दें।

अपने आप को दें महत्व

give importance

आप किसी भी रिलेशनशिप में आने के बाद अपने आप को बदलने की कोशिश ना करें। आपको समझना होगा कि प्यार में भरोसा और समझदारी दोनों की आवश्यकता होती है। इसलिए किसी भी बात को अपने अंदर रखने की आवश्यकता नहीं है। हालांकि कई बार दिल की बात करने में डर लगता है, ऐसे में धीरे-धीरे अपनी बातों को उसके सामने रखें। हो सकता है कि आपका बॉयफ्रेंड शुरू में ही समझ जाए। इसके अलावा आप अपने बॉयफ्रेंड की बातों और विचारों को समझें। जिससे दोनों एक-दूसरे के साथ खुलकर पेश आएँ।

इसे भी पढ़ें: अगर शादी के लिए आप नहीं हैं तैयार तो पार्टनर के दबाव को कुछ इस तरह करें हैंडल

Recommended Video

रिलेशनशिप में बंधकर न रहें

feel free

रिलेशनशिप में आने बाद लड़कियां अपनी आजादी भूल जाती हैं। ऐसा बिल्कुल न करें और अपने आप को पूरा स्पेस दें। इस बात का ध्यान रखें कि आप अपने मन की मालिक हैं, जिसके पास अपने विचार, और भावनाएँ हैं। हो सकता है कि यह आपके बॉयफ्रेंड के विपरीत हों। लेकिन कई बार आपके बॉयफ्रेंड को आपकी यही आदतें पसंद आती हों और वह आप से और आकर्षित हो जाए। अपनी जिन्दगी अपनी शर्तों पर जिएँ और हमेशा उन चीजों को करें जिससे आपको आजादी महसूस हो। कोशिश करें कि अपने बॉयफ्रेंड को पर्सनल स्पेस दें क्योंकि हो सकता है उन्हें इसकी ज़रूरत हो। ऐसे में तालमेल बिठाकर साथ चलें।

इसे भी पढ़ें: एक्स पार्टनर से माफी मांगने के लिए अपनाएं ये तरीके, इस तरह अपने झगड़े को करें खत्म

बाउंडरी सेट कर लें

कभी-कभी रिश्ते में खुद के लिए अलग समय निकलना कई महिलाओं को मुश्किल काम लगता है। लेकिन यह बहुत जरूरी है, आपको अपनी अहमियत समझनी होगी और कुछ चीजों को ना कहना भी सीखना होगा। अगर आपका साथी आपकी बात नहीं मानता तो भी अपनी आवश्यकता के अनुसार रहें और उनके लिए लड़ना सीखें। अगर आप किसी भी मामले में अपनी असहमती जाहिर करती हैं तो अपने पार्टनर के लिए अपनी राय न बदलें।

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।