जब बात भगवान श्री राम और देवी सीता की आती हैं तो वर्ष 1987 में शुरू हुई रामानंद सागर की रामायण ही याद आती है। कहने के लिए तो यह एक सीरियल था। मगर, इसमें राम, सीता और लक्ष्‍मण के पात्र निभाने वाले एक्‍टर्स को ही लोगों ने असली भगवान मान लिया था। आज भी अरुण गोविल जो कि रामायण में श्री राम के किरदार में थे, दीपिका चिल्किया जो देवी सीता बनी थीं और लक्ष्‍मण का किरदार निभाने वाले सुनील लहरी को लोग भगवान ही समझते हैं। रामायण देखने का क्रेज भी लोगों में अब तक कम नहीं हुआ है।

दर्शकों की डिमांड पर एक बार फिर से दूरदर्शन पर रामायण का प्रसारण 28 मार्च से सुबह 9 बजे से 10 बजे तक और रात 9 बजे से 10 बजे किया जाएगा। दोनों टाइम नए एपिसोड्स दिखाए जाएंगे। चलिए आज हम भी आपको दिखाते हैं कि राम, सीता और लक्ष्‍मण अब कैसे नजर आते हैं और क्‍या कर रहे हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: 28 मार्च से फिर से शुरू हो रही है रामायण, 'कुमकुम भाग्‍य' की जगह अब आएगा एकता कपूर का 'कर ले तू भी मोहब्‍बत'

ramayan ram

अरुण गोविल 

अरुण गोविल , जिन्‍हें लोग आज भी भगवान श्री राम समझ कर उनके पैरों पर गिर जाते हैं। उनको देखते ही लोगों को लगता है भगवान पृथ्‍वी पर उतर आए हैं। जी हां, ऐसा आज भी होता है। कॉमेडी शो 'द कपिल शर्मा शो' में आए अरुण गोविल इस बात को स्‍वीकारा कि राम बनना उनके लिए बेहद मुश्किल था। जब रामानंद सागर ने रामायण बनाने के लिए ऑडिशन लेने शुरू किए थे तब अरुण गोविल 'विक्रम बेताल' में विक्रम की भूमिका निभाते थे।

वह बताते हैं, 

'मुझे जब पता चला कि रमायण बन रही है, तो मैं रामानंद सागर जी के पास गया और मैंने उनको बोला कि मैं राम बनना चाहता हूं। मेरा ऑडिशन हुआ और मुझे रिजेक्‍ट कर दिया गया। मैं दुखी तो बहुत था। मगर, एक दिन रामानंद सागर जी का कॉल आया। उन्‍होंने बताया कि बोर्ड के द्वारा यही फैसला लिया गया है कि मुझे राम बनाया जाए। मैं राम तो बन गया मगर मैं भगवान जैसा नजर नहीं आता था। तब भगवान बनने के लिए मैंने केवल अपनी स्‍माइल का सहारा लिया। बस तब से अब तक लोग मुझे भगवान श्री राम ही समझ रहे हैं।'

अरुण गोविल आजकल अपने को एक्‍टर, जो कि रामायण में उनके छोटे भाई लक्ष्‍मण बने थे यानी सुनील लहरी के साथ एक प्रोडक्‍शन कंपनी चला रहे हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: कपिल शर्मा के कॉमेडी शो में आए भगवान श्रीराम और माता सीता, जानें क्‍या है माजरा ?

ramayan sita

दीपिका चिल्किया

सीता माता की छवि को जब हम याद करते हैं तो हमरे जहन में हमेशा ही दीपिका चिल्किया का चेहरा उभर आता है। ऐसा हो भी क्‍यों न आखिर रामानंद सागर की रामायण में दीपिका चिल्किया ने देवी सीता की आइकॉनिक भूमिका जो निभाई थी। हाल ही, में दीपिका 'द कपिल शर्मा शो' में आई थीं। दीपिका ने वहां बताया था कि उन्‍हें सीता का रोल कैसे मिला। दीपिका बताती हैं, 'मैं उस वक्‍त विक्रम वेताल में काम करती थी। सीता के लिए ऑडिशन चल रहे थे। तो मैनें भी सोचा कि ऑडिशन दे दूं। मेरा कई बार स्‍क्रीन टेस्‍ट हुआ।

Recommended Video

जब मैं स्‍क्रीन टेस्‍ट देते हुए थक गई तो मैंने बस यही कहा कि या तो रोल देदो या फिर अब स्‍क्रीन टेस्‍ट मत लो। बस उसी दिन मुझे सीता के लिए फाइनल कर दिया गया। सीता के रोल ने मेंरी असल जिंदगी को भी बहुत प्रभावित किया। इस रोल को प्‍ले करने के बाद मैं कहीं भी जाती थी तो मैं वेस्‍टर्न कपड़े नहीं पहनती थी। साड़ी ही पहन कर जाती थी क्‍यों कि लोगों की नजर में मैं सीता माता थी। आज भी लोग मुझे सीता ही समझते हैं।' दीपिका चिल्किया अपनी पति हेमंत टोपीवाला के बिजनेस को संभाल रही हैं। वह श्रींगार बिंदी और टिप एंड टोज कॉस्‍मेटिक ब्रांड की मालकिन हैं। दीपिका चिल्किया की दो बेटियां हैं। निधि और जुवही। आज की सीता की कहानी जो समाज में चाहती है ये बदलाव

ramayan laxman

सुनील लहरी 

रामानंद सागर की रामायण में राम और सीता के बाद लक्ष्‍मण का पात्र निभा चुके सुनील लहरी को भी आज तक लोग लक्ष्‍मण ही समझते हैं। बीते दिनों 'द कपिल शर्मा शो' में जब सुनील आए तो उन्‍होंने रामायण के वक्‍त के बहुत सारे रोचक किस्‍से शेयर किए थे। सुनील ने बताया था,

'नया-नया स्‍टारडम था और हम दिल्‍ली के रामलीला मैदान में पब्लिक से मिलने गए थे। वहां लोगों से हाथ मिलने के चक्‍कर में मेरे कुर्ते की एक आस्‍तीन ही गायब हो गई थी।'

सुनील ने यह भी बताया कि उन्‍हें यह रोल कैसे मिला था। वह बताते हैं, '

मुझे से शत्रुगन का रोल दिया गया था। लक्ष्‍मण को किरदार मेरे बहुत अच्‍छे मित्र निभा रहे थे। इसके बाद एक दिन रामानंद जी ने कहा कि नहीं लक्ष्‍मण तुम बनोगे। मैंने अपने मित्र से पूछ तो उन्‍होंने कहा कि वह रामायण नहीं कर रहे हैं। तो मुझे इस तरह लक्ष्‍मण का किरदार करने को मिल गया।'

फिलहाल, सुनील अपने मित्र और रामायण के भगवान श्री राम अरुण गोविल के साथ एक प्रोडक्‍शन कंपनी चला रहे हैं।  रामचरितमानस की ये 5 चौपाईयां आपको देंगी सुख और संपत्ति

जाहिर है इन तीनों पात्रों को देख कर आपको भी रामायण के वह पुराने दिन याद आ गए होंगे। मगर, अब आप एक बार फिर से उन पुराने दिनों में वापिस जा सकते हैं और रामायण का आनंद ले सकते हैं। आपको बता दें कि केवल रामायण ही नहीं आप 28 मार्च से दूरदर्शन पर दोपहर 12:00 बजे और शाम 7:00 बजे से 'महाभारत' भी देख सकते हैं।