हिन्दुस्तान में बसे हर राज्य की अपनी अलग कहानी और संघर्ष हैं। भोपाल भी कई मायनों में खास रहा है क्योंकि यहां कई सालों तक महिलाओं का शासन रहा था। कहते  हैं ना कि एक कामयाब इंसान के पीछे एक महिला का हाथ होता है। इसी तरह, भोपाल को विकसित करने के पीछे भी कई महिलाओं का हाथ है, जिन्होंने भोपाल को आजादी दिलाने के लिए अपना पूर्ण योगदान दिया है। इतिहास के पन्नों में कई ऐसी महिलाओं के नाम दर्ज हैं, जिन्हें पढ़ा जाना चाहिए। 

भोपाल की बेगमें प्रेरणादायक शख्सियत रही हैं, जिन्होंने अपना भाग्य बनाने के लिए उन मानदंडों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और आगे आईं। तो चलिए जानते हैं कुछ ऐसी महिलाओं के बारे में जिन्होंने लगभग 107 वर्षों तक भोपाल रियासत पर शासन किया है। 

भोपाल रियासत 

bhopal

भारत के राज्य की अपनी एक अलग पहचान, संस्कृति और खूबसूरती है। लेकिन आज जो भोपाल हमारे सामने हैं, इसे स्थापित करने में ना सिर्फ पुरुषों का बल्कि महिलाओं का भी हाथ है। जिन्होंने कई सालों तक भोपाल को विकसित करने के लिए कड़ी मेहनत व संघर्ष किए हैं, जिसे कभी नकारा नहीं जा सकता है। प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल तक भोपाल की रियासत पर हमेशा से मुस्लिम पुरुष शासकों और नवाबों ने शासन किया है। 

लेकिन इसके बावजूद, कई महिलाओं ने अपनी प्रतिभा, मेहनत और लगन से राजनीति और सार्वजनिक जीवन में एक लंबा इतिहास रच दिया है और इन प्रतिभा महिलाओं की लिस्ट में कुदसिया बेगम, सिकंदर बेगम, शाहजहां बेगम और सुल्तान जहां बेगम आदि का नाम ना आए, ऐसा हो ही नहीं सकता है। 

कुदसिया बेगम 

भोपाल की रियासत पर कुदसिया बेगम का शासन तब शुरू हुआ जब उनके पति सोयाम की मृत्यु हो गई थी। उन्होंने अपने परिवार की विरासत को कैसे बनाए रखने के लिए भोपाल का तख्ता संभाला था। हालांकि, जब उन्होंने भोपाल का तख्त संभाला, तब उनकी बेटी सिकंदर 15 महीने की हो चुकी थी। 

साथ ही, कुदसिया बेगम दक्षिण एशिया की पहली ऐसी महिला थीं, जिन्होंने मुस्लिम महिला होने के नाते किसी राज्य पर शासन किया था। कुदसिया ने लोगों को यह भी दिखाया कि इस्लाम महिलाओं को राजनीतिक सत्ता हासिल करने से नहीं रोकता है। उसने सेना की कमान संभाली और लड़ाई में सबसे आगे रही।

सिकंदर बेगम

sikandara begum of bhopal

कुदसिया बेगम के बाद उनकी बेटी सिकंदर बेगम ने भोपाल पर कई सालों तक शासन किया था। उन्होंने भोपाल में कई ऐतिहासिक कार्य किए। उन्होंने ना सिर्फ स्कूल बनाए बल्कि महिला शिक्षा को भी बखूबी बढ़ावा दिया। उन्होंने पहले 13 वर्षों तक एजेंट के रूप में शासन किया और अपनी नौ साल की बेटी शाहजहां के लिए खड़ी रही। फिर उन्होंने लगभग आठ साल तक भोपाल पर पूर्ण रूप से शासन किया। हालांकि, उनका शासन उसके पति, नवाब जहांगीर मोहम्मद खान बहादुर की मृत्यु के बाद शुरू हुआ, जिन्होंने छह साल तक भोपाल पर शासन किया था। 

इसके अलावा, सिकंदर ने भी महिला शिक्षा को बढ़ावा दिया और विक्टोरिया स्कूल की स्थापना की, ताकि भोपाल में लड़कियों को हस्तशिल्प जैसे व्यवसायों में तकनीकी प्रशिक्षण प्राप्त हो और बुनियादी शैक्षणिक विषयों पर ज्ञान प्राप्त हो सके।

इसे ज़रूर पढ़ें- मुगल साम्राज्य की इन शक्तिशाली महिलाओं के बारे में कितना जानते हैं आप? 

शाहजहां बेगम 

shah jahan begum of bhopal in hindi

शाहजहां बेगम ने भोपाल रियासत पर लगभग सन् 1868-1901 तक शासन किया था। वह जहांगीर मोहम्मद खान और सिकंदर बेगम की बेटी थी। आपको बता दें कि सिकन्दर बेगम भी भोपाल पर शासन कर चुकी थी। उनकी मौत के बाद भोपाल की रियासत शाहजहां बेगम ने संभाली थी। 

उन्होंने अपने शासनकाल में कई ऐसे काम किए जो आज इतिहास के पन्नों में दर्ज हैं। उन्हें इमारतें बनवाने का बेहद शौक था इसलिए उन्होंने भोपाल में कई इमारतें, स्मारक जैसे लालकोठी यानि राजभवन का निर्माण करवाया था। उस वक्त इस इमारत में पोलिटिकल एजेंट आकर रहा करते थे। इसके अलावा, उन्होंने ताजुल मस्जिद और कई ऐतिहासिक इमारतों का भी निर्माण करवाया था।  

Recommended Video

सुल्तान जहां बेगम 

sultan jahan

सुल्तान जहां बेगम भोपाल की ऐसी शख्सियत हैं, जिन्होंने भोपाल पर कई सालों तक शासन किया और समाज में महिला शिक्षा को बढ़ावा दिया। उन्होंने लगभग 19 वीं शताब्दी की शुरुआत से लेकर अप्रैल 1926 तक शासन किया था। भोपाल में उन्होंने कई ऐसे काम किए, जो इतिहास के पन्नों में दर्ज हैं। 

आपको बता दें, सुल्तान जहां बेगम का जन्म 9 जुलाई 1858 में हुआ था। इन्होंने लगभग 25 साल के शासनकाल में भोपाल को पूरी तरह बदल कर रख दिया था। बेगम ने अपने शासनकाल के दौरान कई स्कूल खुलवाए और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना में विशेष योगदान दिया था। आज उन्हें समाज सुधारक और प्रगतिशील नवाब बेगम के रूप में जाना जाता है।

इसे ज़रूर पढ़ें- अगर सच में बनना है एक सशक्त महिला, तो इन बातों को बिल्कुल भी ना करें इग्नोर

अगर आपको लेख अच्छा लगा हो, तो उसे लाइक और शेयर ज़रूर करें। साथ ही, जुड़े रहे हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit- (@Google and wikipedia)