परवीन बॉबी यानी वो नाम जिसके दुनिया भर में फैन्स थे और आज भी वो काफी फेमस हैं। अपने जमाने की खूबसूरत और बेबाक अदाकारा जिन्हें हर तरह का रोल ऑफर किया जाता था। वो ग्लैमरस भी थीं और भोली भाली एक्ट्रेस भी। परवीन बॉबी और उनकी कॉन्ट्रोवर्सी भी बहुत सी रहीं। उन्हें उनकी बीमारी, महेश भट्ट और कबीर बेदी के साथ रोमांस को लेकर भी काफी कुछ झेलना पड़ा। परवीन बॉबी की जिंदगी में कई उतार चढ़ाव आए और वो अपनी जिंदगी में बहुत सी परेशानियों से गुजरीं। 4 अप्रैल को परवीन बॉबी का जन्मदिन होता है। इस मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ फैक्ट्स।

1. रॉयल फैमिली से है ताल्लुक-

परवीन बॉबी असल में किसी आम घराने से नहीं बल्कि रॉयल फैमिली से ताल्लुक रखती थीं। वो बॉबी डायनेस्टी की थीं। 1654 में शेखरांजी बॉबी ने इसे स्थापित किया था। परवीन का जन्म 4 अप्रैल 1949 को जूनागढ़ में हुआ था और आखिरी जूनागढ़ के नवाब ने 1947 में ही पार्टीशन के वक्त भारत छोड़ दिया था।

beautiful parveen babi

इसे जरूर पढ़ें- Birth Anniversary : दिव्‍या भारती से जुड़े इन 10 रोचक सवालों के देंं जवाब

2. माता-पिता की एकलौती संतान-

परवीन बॉबी का जन्म मोहम्मद खान बाबी और जमाल बख्ते बॉबी के यहां हुआ था। परवीन उनकी एकलौती संतान थीं। उनका जन्म भी माता-पिता की शादी के 14 साल बाद हुआ था और इसलिए परवीन बहुत ही लाडली थीं।

3. टाइम मैग्जीन के पेज पर दिखने वाली पहली बॉलीवुड हिरोइन-

परवीन बॉबी का मॉडलिंग करियर 1972 से शुरू हो गया था और उसके एक साल बाद ही 1973 में परवीन बॉबी ने फिल्म चरित्र की थी जिसमें उनके साथ सलीम दुर्रानी थे। हालांकि, ये फिल्म तो फ्लॉप रही थी, लेकिन परवीन को लोगों ने नोटिस कर लिया था और उन्हें कई फिल्में मिलने लगीं। उनकी पहली हिट फिल्म थी अमिताभ बच्चन के साथ 1974 में आई फिल्म मजबूर। इसमें जीनत अमान भी थीं। परवीन बॉबी ने भारतीय हिरोइन की पहचान ही बदल दी थी। वो पहली बॉलीवुड स्टार थीं जो टाइम मैग्जीन में दिखी थीं। ये साल था 1976..

4. अमिताभ बच्चन के साथ ही बनी सबसे हिट जोड़ी-

हिंदी सिनेमा में परवीन बॉबी की सबसे हिट जोड़ी अमिताभ बच्चन के साथ ही बनीं। दोनों ने 8 फिल्में साथ की थीं और वो सभी सुपरहिट रहीं। इनमें से कुछ थीं दीवार, शान और अमर अकबर एंथोनी।

story of parveen babi

5. सिर्फ 15 साल का रहा फिल्मी करियर-

परवीन बॉबी का फिल्मी करियर सिर्फ 15 साल का ही रहा। 1983 में अचानक एक फिल्म के सेट से वो गायब हो गई थीं। उनके बारे में किसी को भी नहीं पता चला। ऐसे में कई लोगों ने ये आरोप भी लगाया कि परवीन अंडरवर्ल्ड के कंट्रोल में हैं। हालांकि, ऐसा कुछ भी नहीं था। उनकी कई फिल्में उनके फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने के बाद भी रिलीज हुई थीं। उनकी आखिरी रिलीज थी फिल्म आकर्षण जो 1988 में आई थी। परवीन बॉबी ने अपना करियर उस समय छोड़ा जब वो इंडस्ट्री की टॉप हिरोइन बन चुकी थीं। वो आध्यात्म की खोज में निकल गई थीं, लेकिन बाद में ये बात सामने आई कि उन्हें paranoid schizophrenia हो गया था। इसके कारण उनकी मानसिक हालत ठीक नहीं रहती थी। हालांकि, उन्होंने ये कभी स्वीकार नहीं किया।

Recommended Video

6. अमेरिका में हुआ एक हादसा-

परवीन बॉबी फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने के बाद अमेरिका चली गईं। 7 अप्रैल 1984 को वो जॉन एफ केनेडी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर अपने पहचान पत्र दिखाने में असमर्थ पाई गईं। यहां तक कि वो वहां के ऑफिसर्स के साथ भी सही से काम नहीं कर रही थीं। उन्हें हथकड़ी लगाकर 30 अन्य मानसिक रोगियों के साथ रखा गया। जब भारतीय दूतावास को इसकी जानकारी हुई तो वहां से इंडियन काउंसिल जनरल खुद उनके पास आए। परवीन ने उस समय ऐसा बर्ताव किया जैसे कुछ हुआ ही नहीं। इसके बाद वो मुंबई लौट आईं और वहां आने के बाद उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री के कई लोगों और मीडिया पर इल्जाम लगाना शुरू किया। परवीन ने ये भी कहा था कि अमिताभ बच्चन उन्हें मारने की साजिश कर रहे हैं। (ये जानकारी मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर ली गई है।)

liefe of parveen babi

इसे जरूर पढ़ें-  महेश भट्ट के प्यार में थी परवीन बॉबी, फिर क्यों मिली गुमनाम मौत

7. प्यार जो पूरा न हो सका-

परवीन बॉबी काफी अकेला महसूस करती थीं। उनके करियर में उनका नाम कई लोगों के साथ जुड़ा जिसमें डैनी डेन्जोम्पा, कबीर बेदी और महेश भट्ट शामिल थे, लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा महेश भट्ट के साथ ही रही। परवीन बॉबी से मिलने जब एक दिन महेश भट्ट पहुंचे तो वो फिल्मी कॉस्ट्यूम में अपने घर के एक कोने में चाकू लिए बैठी थीं। महेश भट्ट को उनकी बीमारी के बारे में समझ आ चुका था। महेश भट्ट को परवीन को दवा खिलाने के लिए पहले खुद खानी पड़ती थी। उन्होंने कई बार परवीन को अलग माहौल में ले जाने की कोशिश की, लेकिन उनमें कोई सुधार नहीं आया था। एक रिपोर्ट के अनुसार डॉक्टर्स भी कह चुके थे कि अगर परवीन बॉबी महेश भट्ट साथ रहते हैं तो उनकी सेहत सही नहीं होगी। महेश भट्ट ने कई बार परवीन का साथ देने की कोशिश की, लेकिन ऐसा हो न सका और आखिर एक दिन वो अलग हो गए।



महेश भट्ट ने इसके बाद फिल्म अर्थ लिखनी शुरू की जो उनकी जिंदगी की कहानी से प्रेरित थी। महेश भट्ट के जाने के बाद परवीन बॉबी और ज्यादा अकेली हो गई थीं।

भले ही वो शो बिजनेस से अलग हो गई थीं, लेकिन उन्होंने आर्ट्स से अपना इंट्रेस्ट जाने नहीं दिया। उन्होंने 1992 तक कई मैग्जीन और अखबारों में अपना कॉन्ट्रिब्यूशन भी दिया। उन्होंने मुंबई में अपना पेंटहाउस ही अपना घर बना लिया। यहीं 22 जनवरी 2005 को उनकी डेड बॉडी मिली थी।

All image credit: Pinterest/youtube/bollyexpress