• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Inna Khosla
  • Her Zindagi Editorial

वो महिलाएं जिन्होंने अपनी शर्तों पर बदल दी हिन्दी सिनेमा की तस्वीर

हिंदी सिनेमा दुनियाभर में मशहूर है लेकिन क्या आप जानती हैं कि वो कौन सी महिलाएं है जिन्होंने अपनी शर्तों पर हिन्दी सिनेमा की तस्वीर को पूरी तरह से बदल...
author-profile
  • Inna Khosla
  • Her Zindagi Editorial
Published -03 Apr 2018, 18:23 ISTUpdated -03 Apr 2018, 19:53 IST
Photo: HerZindagiindian bollywood first women cinema main

हिंदी सिनेमा दुनिभर में मशहूर है लेकिन क्या आप जानती हैं कि वो कौन सी महिलाएं है जिन्होंने अपनी शर्तों पर हिन्दी सिनेमा की तस्वीर को पूरी तरह से बदल दिया। आपको हम इंडियन सिनेमा की उन महिलाओं के बारे में बता रहे है जिन्होंने पहली बार जब इंडस्ट्री में कदम रखा तो इंडियन सिनेमा की तस्वीर ही बदल गई। फिल्मों में अदाकारी से लेकर फिल्म में बतौर डायरकेटर, सिंगर हर तरह के रोल को इन महिलाओं में इस तरह निभाया है कि आज भी इंडियन सिनेमा में इनकी पहचान बरकरार है। 

1नरगिस

Photo: HerZindagi
Nargis dutt indian cinema

ये बात तो सब जानते हैं कि बॉलीवुड हीरोइन नरगिस मशहूर अभिनेता नेता सुनीत दत्त की पत्नी और संजय दत्त की मां है। लेकिन शायद आप ये नहीं जानते होंगे कि नरगिस बॉलीवुड की पहली ऐसी हीरोइन हैं जिन्हें सिनेमा में काम करने के लिए सबसे पहले नेशनल अवार्ड दिया गया था। 1967 में फिल्म रात और दिन फिल्म के लिए नरगिस को बेस्ट एक्ट्रेस के लिए नेशनल अवार्ड से नवाज़ा गया था। इतना ही नहीं नरगिस की फिल्म मदर इंडिया ऑस्कर में जाने वाली पहली फिल्म थी 1958 में इंडिया की तरफ से ऑस्कर अवार्ड के लिए जिस फिल्म को भेजा गया था उसकी हीरोइन नरगिस ही थी।

2निडर नाडिया

Photo: HerZindagi
fearless nadia indian cinema

नाडिया को हिंदी सिनेमा में उनके खतरों से भरे स्टंट करने के लिए फियरलेस नाडिया कहा जाता था। इंडियन सिनेमा में स्टंटवुमेन कहलाने वाली नाडिया पहली हीरोइन हैं। साल 1935 में जब हीरो इंडियन सिनेमा की पहचान हुआ करते थे ऐसे समय में फिल्म हंटरवाली में पहली बार मैरी एन इवेन जिन्हें फियरलेस नाडिया कहा जाता है ने बड़े पर्दे पर जबरदस्त स्टंट सीन से सबको अपना दीवाना बना दिया था। उन्ही की तरह बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनाउत ने भी रंगून फिल्म से उनकी तरह स्टंट करने की कोशिश की थी हालांकि उनकी मेहनत इतनी सफल नहीं हुई।

Read more: सुष्मिता सेन ने अपनी रिलेशनशिप को लेकर Instagram पर किया बड़ा खुलासा

3सरोज खान

Photo: HerZindagi
saroj khan indian cinema

हिंदी सिनेमा में काम करने वाली बच्चा-बच्चा सरोज खान का नाम जानता है। माधुरी दीक्षित जैसी बीटाउन की सुपरहिट हीरोइन भी भीड़ में खड़ी सरोज खान के पैर छूती हैं। शायद आप ये नहीं जानती होंगी कि सरोज खान का असली नाम निर्मला नागपाल है। इनकी शादी 13 साल की उम्र में ही कोरयोग्राफर सोहनलाल से हो गई थी जो मुस्लिम थे और फिल्मों में हीरो-हीरोइन को डांस सीखाया करते थे। सरोज खान ने उन्हीं से डांस सीखा और फिर साल 1974 में आई फिल्म गीता मेरा नाम में पहली बार बतौर कोरयोग्राफर काम किया। बॉलीवुड फिल्मों में स्टार्स को डांस सीखाने वाली सबसे पहली महिला कोरयोग्राफर सरोज खान ही हैं। इन्हें माधुरी दीक्षित और श्रीदेवी की फिल्मों से पहचान मिलनी शुरू हुई थी। 

Read more: रेखा ने ऐश्‍वर्या को लिखा open letter, खुद को बताया उनकी 'मां'

4उमा देवी खत्री

Photo: HerZindagi
tun tun indian cinema

उमा देवी खत्री को लोग बॉलीवुड में टुन टुन के नाम से पहचानते हैं। ये हिंदी सिनेमा की पहली कॉमेडियन अदाकारा हैं। उत्तर प्रदेश से मुंबई में गाना गाने आयी उमा खत्री ने अपने करियर की शुरूआत बतौर गायिका ही की थी लेकिन फिर धीरे-धीरे उनका ध्यान सिनेमा में एक्टिंग करने की तरफ खींचा तो उन्होंने साल 1950 में फिल्म बाबुल से कॉमेडियन अदाकारा के रूप में काम करना शुरू किया इस फिल्म के हीरो दिलीप कुमार थे। 5 दशकों तक हिंदी सिनेमा में काम करने वाली टुनटुन ने लगभग 200 फिल्मों में काम किया।

 

5फातमा बेगम

Photo: HerZindagi
fatma begum indian cinema

हिंदी सिनेमा की पहली डायरेक्ट फातमा बेगम ने साल 1926 में अपना प्रोडक्शन हाउस बनाया। जिसका नाम 1928 में विक्टोरिया फातमा फिल्म के नाम से मशहूर हुआ। फातमा बेगम ना सिर्फ फिल्म डायरेक्टर थी बल्कि ये फिल्मे लिखना, उनमें एक्टिंग करना, उन्हें प्रड्यूस करना सब जानती थी।

6दुर्गाबाई कामत

Photo: HerZindagi
durgabai Indian Cinema

हिंदी सिनेमा की सबसे पहली हीरोइन हैं दुर्गाबाई कामत। साल 1913 में दादा साहेब फाल्के की फिल्म मोहिनी भस्मासुर से दुर्गाबाई ने हिंदी सिनेमा में शुरूआत की। इससे पहले फिल्मों में आदमी ही हीरोइन का किरदार निभाया करते थे। उस ज़माने में फिल्मों में औरतों के काम करने को अच्छा नहीं माना जाता था। 

 

7कमलाबाई गोखले

Photo: HerZindagi
kamlabai gokhle indian cinema

हिंदी सिनेमा की पहली चाइल्ड हीरोइन कमलाबाई गोखले दुर्गाबाई कामत की बेटी ही हैं। इन्होंने अपनी मां के साथ ही उनकी पहली फिल्म मोहिनी भस्मासुर में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया था। 

 

8बीआर विजयालक्ष्मी

Photo: HerZindagi
br vijyalakshmi cinematographer

बीआर विजयालक्ष्मी साउथ इंडियन डायरेक्टर प्रड्यूसर बीआर पंथुलू की बेटी हैं। लेकिन बावजूद इसके विजयालक्ष्मी की पहली सिनेमेटोग्राफर फिल्म साल 1985 में आयी और उन्हें हिंदी सिनेमा की पहली सिनेमेटोग्राफर माना गया।

9अंजुली शुक्ला

Photo: HerZindagi
anjuli shukla indian cinema bollywood

अंजुली शुक्ला नेशनल अवार्ड जीतने वाली पहली इंडियन सिनेमेटोग्राफर हैं। लखनऊ में पैदा हुई अंजुली ने पुने के FTII से सिनेमेटोग्राफी का कोर्स किया और उसके बाद कई फिल्मों में असीस्टेंड के रूप में काम करने के बाद उन्हें बतौर सिनेमेटोग्राफर उनकी मलयालम फिल्म कुट्टी शर्कं के लिए नेशनल अवार्ड मिला। 

 

10राजकुमारी

Photo: HerZindagi
rajkumar indian cinema bollywood

राजकुमार इंडियन सिनेमा की पहली पार्शव गायिका हैं इन्होंने दस साल की उम्र में प्रकाश पिक्चर्स की फिल्म से सिंगर और बतौर एक्ट्रेस अपने करियर की शुरूआत की। इन्हें 1934 में इंडियन सिनेमा में कदम रखा था। 

 

11देविका रानी

Photo: HerZindagi
devika rani first kisser bollywood

इंडियन सिनेमा में हीरो को किस करने वाली पहली हीरोइन देविका रानी ने साल 1933 में फिल्म कर्मा में 4 मिनट लंबा किस सीन करके सबको चौका दिया था। उस ज़माने में हीरोइन का फिल्मों में काम करना और रोमांस करना बहुत ही खराब माना जाता था। लेकिन देविका रानी ने उस ज़माने में भी इस तरह का सीन देने में हिचकिचाहट महसूस नहीं की। ऐसा रिकॉर्ड बनाया जिसे आज तक हीरोइन्स नहीं तोड़ पायी हैं।