• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

गाय को न छूने से लेकर पीरियड्स के कपड़े दफनाने तक, ये हैं भारत में पीरियड्स से जुड़े रीति-रिवाज

भारत में पीरियड्स से जुड़े अलग-अलग रीति-रिवाज हैं। कहीं महिलाओं की पूजा की जाती है तो कई उन्हें सबसे अलग करके रखा जाता है। 
author-profile
  • Hema Pant
  • Editorial
Published -21 Jul 2022, 19:50 ISTUpdated -29 Jul 2022, 11:33 IST
Next
Article
old period rituals in india

भारत में पीरियड्स एक ऐसा विषय है, जिस पर हर कोई अपनी अलग-अलग राय देता है। हालांकि, आज भी ऐसे कई लोग हैं जो इस पर सही से बात करने से भी कतराते हैं। लेकिन हर महिला के लिए यह समय बेहद अलग होता है। क्योंकि इस दौरान उनके शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं। आज भी लोग पीरियड्स में महिलाओं को अछूत मानते हैं। इस दौरान महिलाओं के लिए अलग नियम बनाए गए हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्राचीन समय में भारत में पीरियड्स से जुड़े रीति-रिवाजों के बारे में।

पीरियड्स को माना जाता है शुभ

ancient perios rituals around india

पहले के समय में पीरियड्स को शुभ माना जाता था। ऐतिहासकार नरेंद्र नाथ भट्टाचार्य के अनुसार पहले के समय में पीरियड्स ब्लड को भगवान को चढ़ाया जाता था। क्योंकि महिलाओं को देवी के रूप में देखा जाता था। जैसे भारत के असम और उड़ीसा राज्य में भगवान के मासिक धर्म को मनाया जाता है। उनका मानना था कि उपजाऊ धरती और महिला दोनों को आराम, सम्मान और खुश रखना चाहिए। 

पीरियड्स के कपड़े को जाता है दफनाया

पीरियड्स से जुड़ा एक रिवाज है, जहां महिलाएं पीरियड्स के कपड़े को दफना देती है। क्योंकि माना जाता है कि यह कपड़ा बुरी आत्माओं यानी नकारात्मक ऊर्जा को अपनी ओर आकर्षित करता है। प्लेस ऑफ मेस्चुरेशन इन द रिप्रोडक्टिव लिव्स ऑफ वुमेन ऑफ रूलर नॉर्थ इंडिया के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं जादू करने के लिए सड़कों पर इस्तेमाल किए गए पैड या कपड़ा फेंक देती हैं। अगर कोई व्यक्ति इस पर अपना पैर रख देता है तो उस पर बुरा प्रभाव पड़ जाता है। 

इसे भी पढ़ें: जानें दुनिया में पीरियड्स से जुड़े रीति-रिवाजों के बारे में

महिलाओं को अलग करके रखना

प्राचीन समय से पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अलग रखा जाता था। लेकिन इसका कारण यह नहीं था कि वह अछूत है। बल्कि लोगों का मानना था कि महिलाओं को इस समय कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जिसके कारण वह इन दिनों कम एक्टिव रहती हैं और सही से काम नहीं कर पाती हैं। लेकिन समय के साथ-साथ समाज ने इसकी परिभाषा बदल दी और उन्हें अशुद्ध कहकर कुछ चीजों से वंचित किया जाने लगा। (जानें शादी से जुड़े अजीब रिवाज)

इसे भी पढ़ें: पीरियड्स होने पर इस राज्य में खुशी से मनाया जाता है त्योहार, लड़की को नहीं मानते अछूत

Recommended Video


खट्ठी चीजें खाने से मनाही

weird rituals of periods

माना जाता था कि अगर पीरियड्स के दौरान महिला किसी गाय को छू देती है तो वह बांझ हो जाती है। हालांकि, इस बात का लॉजिक शायद ही कोई जान पाया हो। इसी तरह इस दौरान महिलाओं को खट्टी चीजें जैसे अचार और दही खाने से भी मनाही होती थी। 

 

इन राज्यों में मनाया जाता है पीरियड्स से संबंधित त्योहार

क्या आप जानते हैं कि भारत के कई राज्यों में पीरियड्स को त्योहार की मनाया जाता है।

  • कर्नाटक में इस त्योहार को 'ऋतुशुद्धि' या 'ऋतु कला संस्कार' के नाम से जाना जाता है।
  • वहीं असम में पीरियड्स से जुड़ा 'तुलोनिया बिया' का त्योहार सेलिब्रेट किया जाता है। इस दौरान लड़की को सात दिन तक अलग करके रखा जाता है। 
  • तमिनाडु में पीरियड्स के त्योहार को 'मंजल निरातु विज़ा' कहा जाता है। इसमें सभी रिश्तेदारों को कार्ड देकर बुलाया जाता है। इसमें लड़की के लिए अलग झोपड़ी बनाई जाती है। उसे हल्दी के पानी से नहलाया जाता है। 

 

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

 

 
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।