• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

15 August: किन अवसरों पर झुका दिया जाता है राष्ट्रीय ध्वज, जानें इससे जुड़ी जानकारी

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि किन अवसरों पर राष्ट्रीय ध्वज झुका दिया जाता है तो फिर आपको इस लेख को जरूर पढ़ना चाहिए।  
author-profile
Published -01 Aug 2022, 15:40 ISTUpdated -01 Aug 2022, 16:08 IST
Next
Article
why national flag of india half way down

साल 1947 के बाद हर वर्ष 15 अगस्त को भारतीय लोग स्वतंत्रता दिवस के रूप में मानते हैं। यह साल का वो दिन होता है जब हर भारतीय नागरिक 'झंडा ऊंचा रहे हमारा' गाना गुनगुनाते हैं। जिस ध्वज के लिए हम और आप झंडा ऊंचा रहे गाना गाते हैं वहीं ध्वज कुछ विशेष दिन या किसी विशेष मौके पर झुक जाता है।

जी हां, अगर आप भी यह जानना चाहते हैं कि आखिर क्यों कुछ अवसरों पर भारतीय तिरंगा को झुका दिया जाता है तो फिर आपको इस लेख को ज़रूर पढ़ना चाहिए। आइए जानते हैं इससे जुड़ी जानकारियों के बारे में।    

क्यों झुका दिया जाता है राष्ट्रीय ध्वज?

Indian flag rules and regulations

राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुकाने के पीछे महत्वपूर्ण तथ्य है। ऐसा माना जाता है कि राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुकाना राष्ट्रीय शोक का प्रतीक माना जाता है। किसी गणमान्य व्यक्ति या महिला के निधन पर उनके प्रति संवेदना को व्यक्त करने के लिए ध्वज को झुका दिया जाता है। हालांकि, यह बोला जाता है कि इसका निर्णय भारत के राष्ट्रपति लेते हैं। ऐसा माना जाता है कि ध्वज को झुकाने से पहले पूरी ऊंचाई पर उठाया जाता है फिर नीचे किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: 15 August: आजादी का महोत्सव देखना है तो 15 अगस्त को भारत-पाक के इन बॉर्डर्स पर पहुंचें

Recommended Video


किन व्यक्तियों के निधन पर राष्ट्रीय ध्वज को झुकाया जाता है?

why national flag half way down

अगर बात करें कि किन व्यक्तियों के निधन पर राष्ट्रीय ध्वज को झुकाया जाता है तो इसके बारे में बोला जाता है कि राष्ट्रपति के निधन, उपराष्ट्रपति के निधन या फिर प्रधानमंत्री के निधन पर राष्ट्रीय झंडे को आधा झुका दिया जाता है। इसके अलावा लोकसभा अध्यक्ष, भारत के मुख्य न्यायाधीश और केंद्र के राज्य मंत्री और उपमंत्री के निधन पर भी ध्वज को झुका दिया जाता है। (15 अगस्त से जुड़े रोचक तथ्य)

केंद्र शासित प्रदेश में भी झुकाया जाता है

जी हां, जिस तरह से भारत के अन्य राज्यों में किसी गणमान्य व्यक्ति के निधन पर ध्वज को झुकाया जाता है ठीक उसी तरह से केंद्र शासित प्रदेश के राज्यपाल, मुख्यमंत्री या राज्यपाल के निधन पर भी ध्वज को झुकाया जाता है।

इसे भी पढ़ेंअगस्त में रिलीज होने वाली हैं ये शानदार फिल्में, देखिए लिस्ट


किन अवसरों पर राष्ट्रीय ध्वज को नहीं झुकाया जाता है?

national flag

ऐसा माना जाता है कि अगर 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस), 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस),  2 अक्टूबर (गांधी जयंती) या फिर किसी राजकीय अवकाश के दिन किसी गणमान्य व्यक्ति का निधन हो जाता है तो पूरे देश में राष्ट्रीय ध्वज को नहीं झुकाया जाता है, बल्कि उस इमारत का ध्वज झुकाया जाता है जहां उनका पार्थिव शरीर रखा जाता है।

नोट: यह लेख सिर्फ आपकी जानकारी को बढ़ाने के लिए है।  

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे लाइक, शेयर और कमेंट्स ज़रूर करें। इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@freepik,twimg)

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।