प्रेग्‍नेंसी से लेकर बच्‍चे के जन्‍म होने तक आपके जीवन में कई परिवर्तन होते हैं, जिसमें सबसे अहम होता है आपका शारीरिक परिवर्तन। जहां इस दौरान आप कई तरह के भावनात्‍मक उतार-चढ़ाव से गुजरती हैं। वहीं, इस समय आपको अपना बहुत ध्‍यान रखने की जरूरत होती है, जिसमें शारीरिक बदलाव पर ध्‍यान देना ज्‍यादा जरूरी होता है। डिलीवरी के तुंरत बाद आपको अपने नवजात शिशु को ब्रेस्‍टफीडिंग करवाना होता है। इस दौरान आपके ब्रेस्‍ट में कुछ बदलाव आते हैं, जैसे कि इनका आकार बढ़ना। ब्रेस्‍टफीडिंग करवाते समय हो सकता है कि आपकी पुरानी ब्रा आपको फिट ना आए। ज्‍यादातर महिलाओं के मन में इस दौरान ब्रा पहनने को लेकर कई तरह के सवाल उठते हैं। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान आपको किस तरह की ब्रा पहननी चाहिए।

 wearing bra during breastfeeding inside

इसे जरूर पढ़ें: कोरोना वायरस के डर के बीच कैसे करवाएं ब्रेस्टफीडिंग, WHO ने जारी की गाइडलाइन्स

नर्सिंग ब्रा पहने

कुछ नर्सिंग ब्रा ऐसे होते हैं जिनमें ब्रेस्‍टफीडिंग के लिए सपोर्ट दिया जाता है। ब्रेस्‍ट के हिसाब से इनकी शेप और साइज बदल जाती है और इस तरह की ब्रा पहनने से ब्रेस्‍ट में दूध की वाहिकाओं की ब्‍लॉकेज भी नहीं होती है। बेस्‍टफीडिंग के दौरान नर्सिंग ब्रा ज्‍यादा आरामदायक होती है। नर्सिंग ब्रा में फैब्रिक की कई लेयर बनी होती हैं जो मिल्‍क के लीक होने पर उसे सोख लेती है।

 wearing bra during breastfeeding inside

 

मैटरनिटी ब्रा पहन सकती हैं

ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान मैटरनिटी ब्रा भी पहन सकती हैं। वैसे आमतौर पर प्रेग्‍नेंसी के दौरान मैटरनिटी ब्रा पहनने की सलाह दी जाती है, लेकिन आप चाहें तो बच्‍चे के जन्‍म के बाद भी इसे पहन सकती हैं। प्रेग्‍नेंसी के दौरान मैटरनिटी ब्रा पहनने के पीछे कारण यह होता है कि इस समय मैटरनिटी ब्रा से ब्रेस्‍ट की मांसपेशियां टोंड और मजबूत बनी रहती हैं और ढीली नहीं पड़ती। कई महिलाएं नर्सिंग ब्रा और मैटरनिटी ब्रा में फर्क नहीं समझ पाती हैं। आम बोलचाल की भाषा में कहें तो नर्सिंग ब्रा और मैटरनिटी ब्रा में यह फर्क होता है कि मैटरनिटी ब्रा को प्रेग्‍नेंसी के दौरान पहनना सही रहता है। वहीं, नर्सिंग ब्रा ब्रेस्‍टफीडिंग के लिए बेहतर रहती है। वैसे आप चाहें तो प्रेग्‍नेंसी के दौरान नर्सिंग ब्रा भी पहन सकती हैं।

Recommended Video

कब से पहने मैटरनिटी ब्रा

कंसीव करने के बाद से ही आपके शरीर में बदलाव आने लगते हैं और ब्रेस्‍ट की साइज भी काफी बढ़ जाती है। प्रेग्‍नेंसी (प्रेग्‍नेंसी में ब्रेस्‍ट में बदलाव के बारे में जानें) की दूसरी तिमाही में ब्रेस्‍ट का बढ़ना साफ झलकता है। इसलिए प्रेग्‍नेंसी की दूसरी तिमाही शुरू होते ही मैटरनिटी ब्रा पहनना शुरू कर दें। ब्रेस्‍ट में आ रहे बदलाव के लिए मैटरनिटी ब्रा ही अच्‍छी होती हैं।

अंडरवायर ब्रा ना पहने

इस समय आपको ऐसी ब्रा पहननी चाहिए जिससे आपको ब्रेस्‍टफीडिंग (ब्रेस्‍टफीडिंग के फायदे) करवाने में आसानी हो और आप बिना किसी झंझट के बच्‍चे को दूध पिला सकें। ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान अंडरवायर ब्रा ना पहने क्‍योंकि इसकी वजह से ब्रेस्‍ट में दूध की वाहिकाएं ब्‍लॉक हो सकती हैं।

 wearing bra during breastfeeding inside

रेगुलर ब्रा ना पहने

वैसे तो यह पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है कि आपको नर्सिंग ब्रा पहननी है या रेगुलर ब्रा या फिर बिना ब्रा के रहना है। प्रेग्‍नेंसी की पहली तिमाही की शुरुआत से ही ब्रेस्‍ट में बदलाव होने लगता है। प्रेग्‍नेंसी के दौरान और डिलीवरी के बाद इनके साइज में बढ़ात्‍तरी होती है। बेस्‍टफीडिंग (कैसे आसानी से कराएं ब्रेस्टफीडिंग) करवाते वक्‍त बेस्‍ट को छूने पर उनमें दर्द हो सकता है। ऐसे में रेगुलर ब्रा पहनना सही नहीं रहेगा, क्‍योंकि यह आरामदायक नहीं होती है और इससे स्‍तनपान करवाने में मदद भी नहीं मिलेगी।

ब्रा पहनकर सोना सही है या नहीं

अगर आप रात को बच्‍चे को ब्रेस्‍टफीडिंग करवाती हैं और ब्रा पहनकर सोना चाहती हैं तो यह आप पर निर्भर करता है। डिलीवरी के बाद शुरुआती कुछ दिनों में ब्रेस्‍ट काफी नाजुक होती हैं और उनमें दर्द भी रहता है। वहीं शरीर ब्रेस्‍ट मिल्‍क के साथ एडजस्‍ट करता है। ऐसे में रात को ब्रा पहनकर सोना काफी मददगार साबित हो सकता है। वैसे भी ब्रेस्‍ट ज्‍यादा भारी हो जाने पर रात में ब्रा पहनने की जरूरत पड़ सकती है। अगर ब्रेस्‍ट से दूध लीक होने की समस्‍या सामने आ रही है तो रात को सोते समय ब्रा जरूर पहनें।

 wearing bra during breastfeeding inside

इसे जरूर पढ़ें: ब्रेस्‍टफीडिंग के दौरान निप्पल में होने वाले cracks से हैं परेशान तो अपनाएं ये 5 असरदार टिप्‍स

इस बात का हमेशा ख्‍याल रखें कि कभी भी ज्‍यादा टाइट या गलत फिटिंग वाली ब्रा ना पहनें। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो जुड़ी रहिए हमारे साथ। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए पढ़ती रहिए हरजिंदगी।

Photo courtesy- (amazon.com, encrypted-tbn0.gstatic.com, media3.s-nbcnews.com, medicalnewstoday.com, cdn.shopify.com)