जब एक स्त्री मां बनती है तो उसे पूर्णता का अहसास होता है। दुनिया में एक स्त्री के लिए सबसे अमूल्य रिश्ता होता है उसका बच्चा। हर मां चाहती है कि उसका बच्चा स्वस्थ व सफल हो। इसके लिए हो सकता है कि आप काफी मेहनत भी करती हों। लेकिन बच्चे की ख्वाहिशें पूरा करने के चक्कर में आप इतना व्यस्त हो जाती हैं कि वास्तव में बच्चे की तरफ ही ध्यान नहीं दे पातीं। हो सकता है कि कभी-कभी इस चक्कर में आपको अंदर ही अंदर अपराधबोध भी महसूस होता है। 

वैसे भी एक बच्चे की परवरिश करना इतना ही आसान नहीं होता। आपको हर दिन नए चैलेंजेस का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर आप एक बेहतर मां के रूप में अपने बच्चे की परवरिश करना चाहती हैं तो आपको खुद से कुछ संकल्प लेने होंगे। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे ही संकल्पों के बारे में बता रहे हैं, जो आप नए साल पर ले सकती हैं और खुद को एक बेहतर मां बनाकर अपने बच्चे का ख्याल रख सकती हैं-

हर दिन बच्चे को गले लगाना

hug your kids

गले लगाना प्यार की एक खूबसूरत अभिव्यक्ति है। भले ही आप पूरा दिन कितना भी बिजी हों, लेकिन अगर आप दिन में महज एक बार भी अपने बच्चे को प्यार से गले लगाती हैं तो इससे उसे कभी भी आपके बिजी होने का अहसास नहीं होता। ऐसे में आप यह संकल्प लें कि आप हर दिन काम पर जाने से पहले और लौटने के बाद बच्चे को प्यार से गले जरूर लगाएंगी।

फोन को रखेंगी साइड

put your phone down

अमूमन यह देखने में आता है कि एक मां को कई जिम्मेदारियों का निर्वहन करना होता है और इसलिए वह बच्चों को कम समय दे पाती हैं। इतना ही नहीं, जब वह बच्चों के साथ होती हैं, तब भी फोन भी बिजी होती हैं। ऐसे में आप नए साल पर यह संकल्प लें कि आप जब भी बच्चों के साथ होंगी तो अपने फोन को साइलेंट या एयरप्लेन मोड पर रखेंगी। इस तरह आप कम समय में भी बच्चे के साथ भरपूर मस्ती कर पाएंगी।

इसे भी पढ़ें: सर्दियों में भी हमेशा बेड को गर्म रखने के लिए अपनाएं ये टिप्स

Recommended Video

गलत शब्दों का इस्तेमाल नहीं

dont use wrong words

एक मां के रूप में हर स्त्री को नए साल पर यह संकल्प जरूर लेना चाहिए। अक्सर ऐसा होता है कि हम काम की टेंशन में होते हैं या फिर अगर गुस्से में होते हैं तो अपना गुस्सा बच्चों पर निकालती हैं या फिर बिना सोचे-समझे कुछ भी बोल देती हैं। भले ही बाद में आपको बुरा लगे, लेकिन गलत शब्दों का बच्चे के बालमन पर बेहद बुरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए आप यह संकल्प लें कि आप बिना सोचे-समझे बच्चे को कुछ नहीं बोलेंगी। इतना ही नहीं, अगर आपको बच्चे को कुछ कहना है या समझाना है तो भी शब्दों का चयन सोच-समझकर करेंगी।

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु की लड़की ने बनाया विश्व रिकॉर्ड, 58 मिनट में बनाए 46 व्यंजन

बनाएंगी फिटनेस रूटीन

make your routine

वर्तमान हालात को देखते हुए मां के लिए यह संकल्प लेना भी काफी जरूरी है। पिछले एक साल से बच्चे घर पर ही हैं और ऐसे में उनका स्क्रीन टाइम काफी बढ़ गया है, जबकि फिजिकल एक्टिविटी ना के बराबर है। इसलिए आप बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए संकल्प लें कि आप उनके साथ एक फिटनेस रूटीन बनाएंगी। भले ही आप आउटडोर वर्कआउट ना करें, लेकिन आप घर पर ही उनके साथ योगा, ब्रीदिंग एक्सरसाइज, इनडोर वर्कआउट व गेम्स आदि खेलेंगी। इससे आपको बच्चे के साथ एक क्वालिटी टाइम बिताने का भी मौका मिलेगा।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।